मध्य प्रदेश में Artificial Intelligence कर रहा है कर चोरी करने वालों तक पहुँचने में मदद
मध्य प्रदेश में Artificial Intelligence कर रहा है कर चोरी करने वालों तक पहुँचने में मदद IANS

मध्य प्रदेश में Artificial Intelligence कर रहा है कर चोरी करने वालों तक पहुँचने में मदद

वाणिज्यिक कर विभाग द्वारा आधिकारिक तौर पर उपलब्ध कराई गई जानकारी में बताया गया है कि विभाग Artificial Intelligence का निरंतर उपयोग कर रहा है।

मध्य प्रदेष (Madhya Pradesh) के वाणिज्यिक कर विभाग को आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस (Artificial Intelligence, AI) के जरिए कर चोरी करने वालों तक पहुँचने में मदद मिली है। विभाग ने 27सौ से अधिक कारोबारियों को चिह्नित किया है और उनके खिलाफ कार्रवाई जारी की है। वाणिज्यिक कर विभाग द्वारा आधिकारिक तौर पर उपलब्ध कराई गई जानकारी में बताया गया है कि विभाग Artificial Intelligence का निरंतर उपयोग कर रहा है। विभाग द्वारा GST एवं अन्य संबंधित पोर्टल पर उपलब्ध विस्तृत डेटा का सूक्ष्म विश्लेषण करके टैक्स चोरी कर रहे व्यापारियों एवं टैक्स चोरी के लिए अपनाये जा रहे हथकंडों के विरुद्ध लगातार कार्रवाई की जा रही है। ऐसे 2757 व्यवसायियों को चिह्नित कर उनके विरुद्ध कड़ी कार्रवाई प्रारंभ कर दी गई है। इन व्यावसायियों में 1342 राज्य एवं 1415 डीलर केंद्र क्षेत्राधिकार से संबंधित हैं।

बताया गया है कि Data Analytics के उपयोग से जीएसटी अधिनियम नियम के प्रावधानों का पालन सुनिश्चित किया जा रहा है, जिससे कर राजस्व में वृद्धि हो रही है। माह मई 2022 में विभाग को जीएसटी में दिए गए मासिक लक्ष्य के मुकाबले 1944 करोड़ रुपए का राजस्व प्राप्त किया, जो लक्ष्य का 103 प्रतिशत है। रिटर्न फाइलिंग की निरंतर समीक्षा से प्रदेश, देश के पांच अग्रणी राज्यों में है।

मध्य प्रदेश में Artificial Intelligence कर रहा है कर चोरी करने वालों तक पहुँचने में मदद
भारत सरकार अपनाएगी Blue Economic Policy: Jitendra Singh

बताया गया है कि, वाणिज्यिक कर आयुक्त लोकेश कुमार जाटव के निर्देश पर विभाग द्वारा गड़बड़ी करने वाले व्यापारियों पर नजर रखी जा रही हैं। इसी क्रम में विभाग द्वारा रिटर्न फाइलिंग के अतिरिक्त आर्टिफीशियल इंटेलीजेंस एवं डाटा एनालिटिक्स का उपयोग कर संबंधी प्रक्रियाओं में विभिन्न रिस्क पैरामीटर पर संदिग्ध व्यावसायियों का चिन्हांकन किया जा रहा है।
(आईएएनएस/PS)

Related Stories

No stories found.
hindi.newsgram.com