पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के हत्यारों को जेल से रिहा किया गया

मई में, शीर्ष अदालत ने एजी पेरारिवलन (A. G. Perarivalan) को रिहा करने का आदेश दिया था, जिन्हें पूर्व प्रधानमंत्री की 1991 की हत्या पर आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई थी।
पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के हत्यारों को जेल से रिहा किया गया
पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के हत्यारों को जेल से रिहा किया गयाIANS

पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी (Former Prime Minister Rajiv Gandhi) की हत्या के मामले में जेल में बंद छह दोषियों को शनिवार को जेल से रिहा कर दिया गया है। सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने शुक्रवार को तमिलनाडु (Tamilnadu) सरकार की सिफारिश के मद्देनजर आजीवन कारावास (Life imprisonment) की सजा पाने वाले सभी छह दोषियों को रिहा करने का आदेश दिया था।

मई में, शीर्ष अदालत ने एजी पेरारिवलन (A. G. Perarivalan) को रिहा करने का आदेश दिया था, जिन्हें पूर्व प्रधानमंत्री की 1991 की हत्या पर आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई थी। शुक्रवार को जस्टिस बी.आर. गवई और बीवी नागरथना की बेंच ने एस नलिनी और उनके पति समेत सभी दोषियों को रिहा करने का आदेश पारित किया।

पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के हत्यारों को जेल से रिहा किया गया
Rajiv Gandhi Jayanti पर कांग्रेस ने श्रद्धांजलि देते हुए गिनाईं उपलब्धियां

इसने नोट किया कि राज्य सरकार ने सभी दोषियों की रिहाई की सिफारिश की है, और यह भी कि दोषियों ने दो दशक से अधिक समय तक जेल में बिताया है और उनका आचरण संतोषजनक था। शनिवार को जेल से रिहा हुए अन्य लोगों में शांतन, रॉबर्ट पायस, जयकुमार और रविचंद्रन हैं।

नलिनी और रविचंद्रन तमिलनाडु से हैं जबकि चार अन्य श्रीलंकाई नागरिक हैं। श्रीलंका के मूल निवासी - शांतन, मुरुगन, रॉबर्ट पायस और जयकुमार को श्रीलंकाई शरणार्थियों के तिरुचि पुनर्वास शिविर में स्थानांतरित कर दिया गया

राजीव गांधी ने अपनी नई सोच के माध्यम से भारत को प्रगति की राह में बखूबी चलना सीखा दिया था।
राजीव गांधी ने अपनी नई सोच के माध्यम से भारत को प्रगति की राह में बखूबी चलना सीखा दिया था। (Wikimedia Commons)

सुप्रीम कोर्ट ने अपने आदेश में कहा कि छह दोषी पिछले तीन दशकों से जेल में थे, और उन्होंने जेल में कोई समस्या पैदा नहीं की, यानी कि उनका आचरण संतोषजनक था।

एस. नलिनी, जो पैरोल पर थी, को पहले काटपाडी पुलिस स्टेशन और फिर वेल्लोर केंद्रीय जेल ले जाया गया, जहां से उसकी रिहाई की औपचारिकताएं पूरी की गईं। अन्य कैदी पुझल और मदुरै सेंट्रल जेल में थे।

नलिनी के वकील पुगाझेंडी ने मीडियाकर्मियों से कहा कि अभी यह तय नहीं हुआ है कि वह तमिलनाडु में रहेंगी या लंदन में शिफ्ट होंगी जहां उनकी बेटी रह रही है।

आईएएनएस/PT

Related Stories

No stories found.
hindi.newsgram.com