अमित शाह सुरक्षा उल्लंघन: पकड़ा गया आरोपी, प्रधानमंत्री के कार्यक्रम में भी हुआ शामिल

जब पुलिस ने 6 सितंबर को हेमंत पंवार को गिरफ्तार किया तो उन्हे उसके फोन में शाह के दो दिवसीय मुंबई दौरे का पूरा कार्यक्रम मिला है।
अमित शाह सुरक्षा उल्लंघन
अमित शाह सुरक्षा उल्लंघनWikimedia

अमित शाह सुरक्षा उल्लंघन :हेमंत पंवार को हाल ही में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह(Amit shah) की सुरक्षा का हिस्सा होने का नाटक करते हुए पकड़ा गया, ऐसा नहीं लगता है कि यह 32 वर्षीय हेमंत पंवार (Hemant Panwar) की पहली ऐसी बचकानी हरकत हो।

पंवार आंध्र प्रदेश(Andhra Pradesh) के एक सांसद के निजी सचिव है, और ठीक इसी तरह उन्हें मार्च में गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत(Pramod sawant) की शपथ ग्रहण समारोह के दौरान भी एक सुरक्षा सदस्य बनाकर भेजा गया था उस कार्य में प्रधानमंत्री मोदी भी मौजूद थे।

अमित शाह सुरक्षा उल्लंघन
Amit Shah पीते है 850 रुपये की कीमत वाला पानी!

गोवा में सुरक्षा भंग -सितंबर में इस बात की जांच करते हुए कि पंवार मुंबई में शाह के कार्यक्रम में प्रतिबंधित क्षेत्र में कैसे शामिल हुए ? जांचकर्ताओं ने कहा कि पंवार कभी भी प्रधानमंत्री के करीब नहीं आए। जब पुलिस ने 6 सितंबर को हेमंत पंवार को गिरफ्तार किया तो उन्हे उसके फोन में शाह के दो दिवसीय मुंबई दौरे का पूरा कार्यक्रम मिला है।

इस बारे में पूछे जाने पर पवार ने उन्हें बताया कि एक व्यक्ति ने, जो कथित तौर पर एक राजनीतिक दल का प्रतिनिधि था, उन्हें दिया था।

स्मार्टफोन के बारे में पूछे जाने पर पंवार ने बताया कि फोन राजनीतिक पार्टी के एक सदस्य ने दिया है।यह वह व्यक्ति था जिसने तब पुलिस को बताया था कि पंवार गोवा के शपथ ग्रहण समारोह में मौजूद थे।

पंवार ने कथित तौर पर बताते हुए कहा कि राजनीतिक दल के प्रतिनिधि सुरक्षाकर्मियों में शामिल हैं।राजनीतिक दल के प्रतिनिधि ने पंवार के साथ शाह का कार्यक्रम साझा किया था।

गोवा समारोह में केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी और कई भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्री सहित कई VVIP मेहमान भी मौजूद थे। पुलिस ने बताया कि पंवार ने इसी तरह कई अन्य राजनीतिक कार्यक्रमों में शामिल हुए। संसद का एक्सेप्ट कार्ड पहनकर भाग लिया है।

जांच अधिकारियों के खुलासे में पता चला कि पंवार ने 4 और 5 सितंबर से कई व्हाट्सएप चैट डिलीट कर दी थीं - और इसी समय गृह मंत्री अमित शाह मुंबई दौरे पर आए थे।

शाह के कार्यक्रम में पंवार सफेद और नीले रंग के ब्लेजर के साथ गले में गृह मंत्रालय का कार्ड पहने हुए थे। सहायक पुलिस आयुक्त नीलकांत पाटिल जो पुलिस बंदोबस्त देख रहे थे उन्होंने पंवार को एकनाथ शिंदे के बंगले वर्षा के बाहर और यहां तक कि उप मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के बंगले सागर के पास भी देखा।

शुरू में पाटिल को लगा कि पंवार सुरक्षा दल का हिस्सा है। लेकिन जब पाटिल ने उन्हें फडणवीस के बंगले के पास देखा तो उन्होंने उनसे पूछताछ की तब पंवार ने स्वयं को केंद्र सरकार की एक एजेंसी का हिस्सा बताया ।

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के दिल्ली रवाना होने के बाद सीआरपीएफ के अधिकारियों ने जोनल पुलिस आयुक्त से संपर्क साधा और पंवार के बारे में पूछताछ की बाद में तलाशी के बाद में वह मुंबई के नाना चौक ग्रांट रोड पर पकड़े गए।

उस पर आईपीसी(IPC) की धारा 170 (एक लोक सेवक का रूप धारण करना) और 171 (कपटपूर्ण इरादे से एक लोक सेवक द्वारा इस्तेमाल किया गया टोकन पहनना) के तहत मामला दर्ज किया गया है। पुलिस के मुताबिक,पंवार महाराष्ट्र के धुले जिले का रहने वाला है। उन्होंने कहा कि जब तक उन्हें गिरफ्तार किया गया, वह आंध्र प्रदेश के एक सांसद के लिए काम कर रहे थे। उसके साले ने पुलिस को दिए एक बयान में कहा कि पंवार दो या तीन महीने में एक बार धुले आता था और कुछ दिन रहने के बाद वापस दिल्ली चला जाता था। इस सब में, एक सवाल तीखा नहीं है: पंवार सुरक्षा अधिकारियों के रूप में खुद को क्यों पेश कर रहे थे? हालांकि पुलिस एक विशिष्ट मकसद का पता लगाने में सक्षम नहीं है, उनका मानना ​​​​है कि वह व्यक्ति वित्तीय लाभ के बाद हो सकता है।

एक अन्वेषक ने कहा: "उसने अपने आसपास के लोगों से कहा है कि वह प्रधान मंत्री और गृह मंत्री के कार्यालयों में काम करता है और हमें संदेह है कि उसने लोगों से पैसे लिए हैं।"

(PT)

Related Stories

No stories found.
hindi.newsgram.com