Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×

नेपाल के संस्कृति, पर्यटन और नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने दो भारतीय पर्वतारोहियों पर 10 साल का प्रतिबंध लगा दिया है, उन्होंने इन दोनों पर्वतारोहियों पर किसी भी चोटी पर चढ़ने पर प्रतिबंध लगा दिया है। इन दोनों पर आरोप है कि इन्होंने नकली दस्तावेज दिखाकर कहा कि इन्होंने मई 2016 में माउंट एवरेस्ट पर चढ़ाई की थी, जिसके बाद इनके खिलाफ ये कदम उठाया गया।


यह भी पढ़ें – बिजनौर में आकर्षण का केंद्र बना विचित्र बकरी का बच्चा, माथे पर ‘तीसरी आंख’ है

नरेंद्र सिंह यादव और सीमा रानी गोस्वामी ने दावा किया कि उन्होंने दुनिया की सबसे ऊंची चोटी पर चढ़ने का प्रयास किया था और नेपाल के पर्यटन विभाग से एक प्रमाण पत्र प्राप्त किया था, जिसे बाद में कुछ लोगों द्वारा चुनौती दी गई थी, जिन्होंने दावा किया था कि उन्होंने यादव या गोस्वामी को माउंट एवरेस्ट की शीर्ष चोटी पर नहीं देखा था।

पहले भी दो भारतीय पर्वतारोहियों के प्रमाण पत्र इसी तरह के झूठे दावों के मामले में रद्द कर दिए जा चुके हैं। (Wikimedia Commons)

यादव और गोस्वामी दोनों 15 सदस्यीय अंतर्राष्ट्रीय टीम का हिस्सा थे। टीम के अन्य सदस्यों द्वारा किए गए दावे का हवाला देते हुए, कई अंतर्राष्ट्रीय मीडिया संस्थानों ने बताया कि यादव और गोस्वामी दोनों अपनी स्वास्थ्य की स्थिति बिगड़ने के बाद एवरेस्ट की चोटी पर नहीं पहुंच पाए थे। उनके खिलाफ नेपाल के पर्यटन विभाग में शिकायत दर्ज की गई थी, जिसके बाद मामले की जांच के लिए एक टीम बनाई गई थी। पर्यटन सचिव यादव कोइराला ने कहा, “जांच समिति द्वारा भेजे गए सुझावों के अनुसार, हमने उन पर नेपाल में 10 साल तक किसी भी चोटी पर चढ़ने पर प्रतिबंध लगाने का फैसला किया है।”

यह भी पढ़ें – Dubai में बसे भारतीय लड़के ने एक घंटे में पढ़ी 20 किताबें

कोइराला ने कहा कि यह जांच के बाद पाया गया कि दोनों ने अपने झूठे दावे का समर्थन करने के लिए फोटोशॉप्ड तस्वीर प्रदान किए थे। यादव और गोस्वामी ही नहीं, अभियान दल के टीम लीडर, आयोजक और संपर्क अधिकारी को भी कार्रवाई का सामना करना पड़ा। इससे पहले भी दो भारतीय पर्वतारोहियों दिनेश राठौर और तारा केशरी राठौर के प्रमाण पत्र माउंट एवरेस्ट पर चढ़ने का झूठा दावा करने के लिए रद्द कर दिए गए थे। (आईएएनएस)
 

Popular

एजाज पटेल ने झटके 10 विकेट (Twitter)

भारत-न्यूजीलैंड(Ind vs nz) के बीच दूसरा टेस्ट मैच मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम(Wankhede Stadium) में खेला जा रहा है। लेकिन मुंबई में जन्मे एक भारतवंशी कीवी खिलाड़ी एजाज पटेल(Ejaz Patel) ने मुकाबले के दूसरे दिन पूरी भारतीय टीम को अकेले दम पर वापस पवेलियन भेज दिया। अब टेस्ट क्रिकेट(Test Cricket) के इतिहास में एजाज पटेल तीसरे ऐसे खिलाड़ी बन गए हैं जिन्होंने 22 साल बाद एक पारी में 10 विकेट झटके हैं। उनके अलावा इंग्लैंड के खिलाड़ी जिम लेकर और भारत के दिग्गज गेंदबाज अनिल कुंबले ने ये कारनामा कर दिखाया था।

एजाज(Ejaz Patel) पहले ऐसे गेंदबाज हैं जिन्होंने विदेशी जमीन पर 10/119 के अपने आंकड़ों के साथ, पटेल इंग्लैंड के जिम लेकर (1956) और भारत के अनिल कुंबले(Anil Kumble) (1999) के बाद तीसरे ऐसे खिलाड़ी बन गए हैं जिन्होंने विरोधी टीम को अकेले ही आउट कर दिया। लेकर ने 26 जुलाई, 1956 को ओल्ड ट्रैफर्ड में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 10/53 का, जबकि कुंबले ने 4 फरवरी, 1999 को नई दिल्ली के फिरोजशाह कोटला मैदान में पाकिस्तान के खिलाफ 10/74 का रिकॉर्ड दर्ज किया था।

Keep Reading Show less

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (File Photo)

मुख्यमंत्री योगी(yogi Adityanath) शनिवार को प्रदेश शासन(Up government) के खेल विभाग की तरफ से रीजनल स्टेडियम में आयोजित ब्रह्मलीन महंत अवेद्यनाथ जी महाराज स्मृति तृतीय अखिल भारतीय प्राइज मनी कबड्डी प्रतियोगिता के समापन एवं पुरस्कार वितरण समारोह को बतौर मुख्य अतिथि संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि जीवन में स्वस्थ्य प्रतिस्पर्धा को आगे बढ़ाने के लिये खेल का अपना महत्व है। एक खिलाड़ी जब अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सकारात्मक ऊर्जा के साथ खेलता है तो वह अपने लिए नहीं बल्कि स्वस्थ समाज, प्रदेश और देश के लिए खेलता है। हर खिलाड़ी का उत्साह बढ़ाना हम सभी का दायित्व है।

उन्होंने(Yogi Adityanath) कहा कि खेल हम सबको बेहतर स्वास्थ्य और सकारात्मक भाव के साथ कार्य करने की प्रेरणा देता है। इसी को ध्यान में रखकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी(Narendra Modi) ने खेलो इंडिया का अभियान शुरू किया है। सबने देखा है कि 5 से 6 साल में ही खेलो इंडिया(Khelo India) के शानदार परिणाम सामने आए हैं। पहली बार कोरोना महामारी के बावजूद ओलम्पिक और पैरालम्पिक में भारतीय खिलाडियों के सबसे बड़े दल ने प्रतिभाग किया और अबतक का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया।

Keep Reading Show less

जो लोग हो चुके है कोविड संक्रमित उनके लिए काल है ओमिक्रॉन! [File Photo]

सीएनएन(CNN) की एक रिपोर्ट के अनुसार, दक्षिण अफ्रीका में शोधकर्ताओं के एक दल ने शोध किया है। उन्होने कहा है कि उन्हें कुछ सबूत मिले हैं कि जो लोग एक बार कोविड(Covid 19) से संक्रमित हो गए थे, उनकी बीटा(Beta) या डेल्टा वैरिएंट (delta variant)की तुलना में ओमिक्रॉन वैरिएंट(Omicron Variant) से दोबारा संक्रमित होने की संभावना अधिक है। साथ ही साथ यह भी कहा गया है कि अभी इतनी जल्दी निश्चित रूप से इस बारे में कुछ कहना तो जल्दबाजी होगी, मगर हाल ही में दूसरी बार के संक्रमण में वृद्धि ने उन्हें संकेत दिया है कि ओमिक्रॉन में लोगों को फिर से संक्रमित करने की अधिक संभावना है। दक्षिण अफ्रीका में शोधकर्ताओं के एक दल ने कहा कि

अपको बता दें, ओमिक्रॉन(Omicron Variant) की पहचान हाल ही में नवंबर महीने में की गई थी, लेकिन इसने विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) और अन्य वैश्विक स्वास्थ्य अधिकारियों को चिंतित कर दिया है, जिन्होंने इसके कई म्यूटेंट बनने के कारण इसे खतरनाक बताया है। इसके बारे में बताया जा रहा है कि यह अन्य वैरिएंट की तुलना में अधिक संक्रामक तो है ही, साथ ही इसमें प्रतिरक्षा प्रणाली से बचने की क्षमता भी है।

Keep reading... Show less