Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
थोड़ा हट के

क्या समाचार चैनल मनोरंजन का साधन बन चुके हैं? जानिए इस सर्वेक्षण से.

कोविड-19 महामारी ने भारत के नए मीडिया परिदृश्य को दर्शाया है। देश के लगभग 74 प्रतिशत भारतीय समाचार चैनलों को वास्तविक समाचार के बजाय मनोरंजन का स्रोत मान रहे हैं।

देश के लगभग 74 प्रतिशत लोगो ने समाचार चैनलों को मनोरंजन का स्रोत माना है। (Pixabay)

कोविड-19 महामारी ने भारत के नए मीडिया परिदृश्य को दर्शाया है। देश के लगभग 74 प्रतिशत भारतीय समाचार चैनलों को वास्तविक समाचार के बजाय मनोरंजन का स्रोत मान रहे हैं। आईएएनएस सी-वोटर मीडिया कंजम्पशन ट्रैकर के हालिया निष्कर्षों में यह बात सामने आई है।

सर्वेक्षण में शामिल लोगों से जब यह पूछा गया कि क्या वह इस कथन को मानते हैं कि ‘भारत में न्यूज चैनल समाचार परोसने की तुलना में अधिक मनोरंजन पेश करते हैं’, इस पर 73.9 प्रतिशत उत्तरदाताओं ने सहमति व्यक्त की। इसके अलावा इस बात से 22.5 प्रतिशत लोग असहमत भी नजर आए, जबकि शून्य से 2.6 प्रतिशत ने कहा कि वे नहीं जानते या वे इस पर कोई टिप्पणी नहीं कर सकते हैं।


यह भी पढ़ें: यमुना और उसके घाटों की सफाई को आगे आए डीयू के छात्र

लिंग के आधार पर देखा जाए तो 75.1 प्रतिशत पुरुष जबकि 72.7 प्रतिशत महिलाओं ने सहमति व्यक्त की कि न्यूज चैनल समाचारों की तुलना में मनोरंजन के अधिक साधन बन गए हैं।

इस बात से विभिन्न आयु वर्ग के लोगों में भी एकमत देखने को मिला है और 55 वर्ष तक के 70 प्रतिशत लोग इससे सहमत दिखे हैं। इसके अलावा 55 साल से ऊपर के लोगों में 68.7 प्रतिशत ही इस बात से सहमत नजर आए।

दिलचस्प बात यह है कि निम्न, मध्यम और उच्च शिक्षित लोगों में भी एक ही प्रकार की सहमति देखने को मिली। निम्न आयु वर्ग के जहां 75.9 प्रतिशत लोगों ने इससे सहमति व्यक्त की, वहीं अन्य वर्गों के 70 प्रतिशत से अधिक लोग भी इस बात से सहमत नजर आए।

आय समूहों के हिसाब से देखा जाए तो निम्न आय समूहों के 73.2 प्रतिशत जबकि उच्च आय समूह के 75.1 प्रतिशत लोगों ने इससे सहमत जताई, जिनमें बड़ा अंतर देखने को नहीं मिला।

विभिन्न सामाजिक समूहों में लोग भी बड़ी संख्या में मानते हैं कि न्यूज चैनल मनोरंजन के साधन बन चुके हैं। दलित समुदाय के 72.1 प्रतिशत, सवर्ण हिंदू 73.5 प्रतिशत और सिख समुदाय से जुड़े 85.3 लोगों ने स्वीकार किया कि समाचार चैनल खबरों से कहीं अधिक मनोरंजन का केंद्र बन चुके हैं।

दक्षिण भारतीयों में इस कथन से सहमति अपेक्षाकृत कुछ कम देखने को मिली है। कुल 67.1 प्रतिशत दक्षिण भारतीय मानते हैं कि न्यूज चैनल मनोरंजन अधिक परोस रहे हैं। इसके अलावा चाहे वह शहरी हों या ग्रामीण, दिल्ली-एनसीआर से हों या किसी अन्य क्षेत्र से और चाहे वह हिंदी पट्टी के हों या शेष भारत के, अधिकतर लोग इसी बात से सहमत नजर आए हैं कि समाचार चैनल मनोरंजन का साधन बन गए हैं।

इस सर्वेक्षण में सभी राज्यों में स्थित सभी जिलों से आने वाले 5000 से अधिक उत्तरदाताओं से बातचीत की गई है। यह सर्वेक्षण वर्ष 2020 में सितंबर के आखिरी सप्ताह और अक्टूबर के पहले सप्ताह के दौरान किया गया है।(आईएएनएस)

Popular

यूपी में 108 एफआईआर के ज़रिये 340 लोगों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया है। (Wikimedia Commons)

उत्तर प्रदेश(Uttar Pradesh) में पिछले साल अस्तित्व में आए धर्मान्तरण विरोधी कानून(Anti Conversion Law) के तहत यूपी में 108 एफआईआर(FIR) के ज़रिये 340 लोगों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया है। उत्तर प्रदेश पुलिस के मुताबिक 72 मामलों में 189 को गिरफ्तार कर चार्जशीट दायर कर दी गई है।

कम से काम 77 पीड़ितों ने मजिस्ट्रेट के सामने बयान दिया है की उन्हें धर्म परिवर्तन के लिए मजबूर किया गया। पुलिस प्रवक्ता के अनुसार बरेली थाना क्षेत्र के छह मामलों सहित 11 मामलों में अंतिम रिपोर्ट दर्ज की गयी।

Keep Reading Show less

बीतें दिनों प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुंदेलखंड में "हर घर नल योजना" का शुभारम्भ किया था। (Wikimedia Commons)

उत्तर प्रदेश(Uttar Pradesh) के बुंदेलखंड(Bundelkhand) और विंध्य क्षेत्र के बाद अब पूर्वांचल(Purvanchal) में भी "हर घर नल योजना"("Har Ghar Nal Yojna")रफ़्तार पकड़ रही है। सूबे की योगी सरकार वाराणसी के ग्रामीण जलापूर्ति को विकास मॉडल के रूप में पेश करेगी। आज़ादी के बाद पहली बार ग्रामीण क्षेत्र में जलापूर्ति की यह व्यवस्था बहुत ख़ास होगी। यह व्यवस्था पूरी तरीके से सौर ऊर्जा पर आधारित होगी। वाटर सप्लाई के लिए सेंसर आधारित आटोमेटिक सिस्टम का इस्तेमाल किया जाएगा।

उत्तर भारत के इतिहास में पहली बार ग्रामीण इलाकों में इतने बड़े स्तर पर सौर ऊर्जा का इस्तेमाल करके जलापूर्ति की जाएगी। इस योजना के तहत गाँवों में नल से शुद्ध जल पहुंचने के लिए बिजली का इस्तेमाल ना के बराबर किया जाएगा। इसके साथ नल के साथ सेंसर लगाए जाएंगे ताकि पानी की टंकी भर जाने के बाद पानी की सप्लाई अपने आप बंद हो जाए और पानी की बर्बादी न हो।

Keep Reading Show less

ड्रीम स्पोर्ट्स ने फाल्कन एज, डीएसटी ग्लोबल, डी1 कैपिटल, रेडबर्ड कैपिटल और टाइगर ग्लोबल के नेतृत्व में इतना बड़ा निवेश प्राप्त किया है।(Twitter)

खेल प्रौद्योगिकी कंपनी(sports technology company) ड्रीम स्पोर्ट्स(dream sports) ने विभिन्न निवेशकों से 84 करोड़ डॉलर (करीब 6,252.2 करोड़ रुपये) जुटाए है। इस लिहाज से कंपनी का मूल्यांकन आठ अरब डॉलर बैठता है। ड्रीम स्पोर्ट्स ने फाल्कन एज, डीएसटी ग्लोबल, डी1 कैपिटल, रेडबर्ड कैपिटल और टाइगर ग्लोबल के नेतृत्व में इतना बड़ा निवेश प्राप्त किया है।

कंपनी(Dream sports) ने एक बयान जारी करते हुए कहा कि वित्तपोषण के इस दौर में टीपीजी और फुटपाथ वेंचर्स जैसे मौजूदा निवेशकों ने भी भाग लिया। यह खेल के क्षेत्र में वैश्विक स्तर पर सबसे बड़े निवेश में से एक है। बता दें, यह कम्पनी वर्ष 2008 में हर्ष जैन(Harsh Jain) और भावित सेठ द्वारा स्थापित है। इस कंपनी का मुख्यालय मुंबई में है और इसमें करीब हजार से ज्यादा लोग कार्यरत हैं।

Keep reading... Show less