Sunday, June 13, 2021
Home थोड़ा हट के मौत से जूझने के बाद जरूरतमंदों की मदद के लिए फिर कोलकाता...

मौत से जूझने के बाद जरूरतमंदों की मदद के लिए फिर कोलकाता की सड़कों पर उतरे नितई मुखर्जी

सामाजिक कार्यकर्ता नितई दास मुखर्जी मौत के मुंह से बाहर आने के बाद एक बार फिर से जरूरतमंदों की सहायता के लिए कोलकाता की सड़कों पर उतर चुके हैं।

By: साईबाल गुप्ता

सामाजिक कार्यकर्ता नितई दास मुखर्जी (52) मौत के मुंह से बाहर आने के बाद एक बार फिर से जरूरतमंदों की सहायता के लिए कोलकाता की सड़कों पर उतर चुके हैं।

मुखर्जी को पिछले साल मार्च में कोरोनावायरस संक्रमण हो गया था, जिसके बाद वह कोलकाता के एक निजी अस्पताल में 42 दिनों तक जिंदगी और मौत के बीच जंग लड़ते रहे थे। पूरी तरह से ठीक होने के बाद कोरोना की दूसरी खतरनाक लहर के बीच मुखर्जी एक बार फिर शहर की सड़कों पर वापस आ गए हैं और बेघरों को आश्रय और भूखों को भोजन प्रदान करने के काम में जुट गए हैं।

मुखर्जी, कोविड के प्रभाव के बाद लंबे समय तक चलने या खड़े होने में भी सक्षम नहीं थे। अब वह इस लायक हुए हैं तो समाजसेवा के लिए लोगों के बीच पहुंचने लगे हैं। उन्होंने कहा, मैंने मृत्यु को करीब से देखा है और इसलिए मुझे पता है कि मरना कितना दर्दनाक हो सकता है और मैं नहीं चाहता कि इस शहर में कोई भी बिना भोजन, आश्रय या दवा के दम तोड़ दे। मुझे पता है कि मेरे संसाधन सीमित हैं, लेकिन बहुत से लोग हैं, जो समाज में योगदान करना करना चाहते हैं। मैं केवल उन लोगों के बीच मध्यस्थ के रूप में काम करता हूं जो मदद करना चाहते हैं और जिन लोगों को मदद की आवश्यकता है।

मुखर्जी पिछले 25 वर्षों से कोलकाता की सड़कों पर कोलकाता पुलिस और राज्य के स्वास्थ्य विभाग की मदद से जरूरतमंद लोगों को भोजन, आश्रय, कपड़े और दवा उपलब्ध करा रहे हैं। 29 मार्च को उन्हें तेज बुखार और सांस लेने में तकलीफ की शिकायत हुई थी। अगली सुबह, उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया और उनका कोरोनावायरस परीक्षण किया गया।

Covid 19 corona virus Social worker in corona virus
जिन्होंने कोरोना को मात दी वह अब समाज सेवा में जुट गए हैं।(आईएएनएस)

जैसे ही टेस्ट रिपोर्ट आई, तो पता चला कि वह कोविड-19 वायरस की चपेट में आ चुके हैं। इसके बाद किए गए टेस्ट में भी वह पॉजिटिव आए और उनकी हालत में सुधार नहीं हुआ। यह कारण रहा कि उन्हें 38 दिनों तक वेंटिलेटर पर रखा गया। लेकिन नितई दा (उन्हें जानने वाले लोग उन्हें इसी नाम से पुकारते हैं) ने हार नहीं मानी और आखिर में उन्होंने कोरोना को हरा दिया। 42 दिनों के बाद उनकी रिपोर्ट नेगेटिव आई, जिसके बाद उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई।

यह भी पढ़ें: क्या आप किसी ऐसे इंसान को डेट करेंगे जिस ने कोविड-19 का टीका नहीं लिया हो?

यह पूछे जाने पर कि क्या वह अब डरे हुए हैं, मृदुभाषी व्यक्ति मुस्कुराया और कहा, मैं मृत्यु के कारण वापस घर पर नहीं बैठ सकता। मैं तब जरूर मर जाऊंगा। यह पिछले 25 वर्षों से मेरा काम है और यह मेरी रगों में समा गया है। मेरे करीबी लोगों ने मुझसे कहा कि अब इसमें शामिल नहीं होना है, लेकिन मैं भला ऐसा कैसे कर सकता हूं? ऐसे देश में जहां सामाजिक सुरक्षा नेटवर्क इतना नाजुक है, हम जैसे लोग प्रशासन और जरूरतमंदों के बीच एक पुल का काम कर सकते हैं। मैंने इसे लंबे समय तक जिया है और मैं इसे केवल इसलिए नहीं जाने दे सकता, क्योंकि मुझे कोविड था।(आईएएनएस-SHM)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,623FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी