Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

केंद्र सरकार ने किसानों को कानूनी बंदिशों से आजादी दी है : नरेंद्र सिंह तोमर

केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने गुरुवार को कहा कि लोकतंत्र में कोई भी सरकार किसानों को नुकसान पहुंचाने वाला कानून बनाने की हिमाकत नहीं कर सकती।

केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने गुरुवार को कहा कि लोकतंत्र में कोई भी सरकार किसानों को नुकसान पहुंचाने वाला कानून बनाने की हिमाकत नहीं कर सकती। उन्होंने मोदी सरकार के कृषि सुधार कानूनों के विरुद्ध दिल्ली की सीमाओं पर चले रहे आंदोलन पर सवाल उठाते हुए कहा कि “केंद्र सरकार ने किसानों को कानूनी बंदिशों से आजादी दी है तो इसमें गलत क्या है?” केंद्रीय कृषि मंत्री पूसा कृषि विज्ञान मेले के उद्घाटन समारोह में बोल रहे थे। उन्होंने कहा, “नए कृषि कानून में किसानों को यह आजादी दी गई है कि वे (एपीएमसी) मंडी के बाहर या भीतर कहीं भी, किसी को भी मनचाही कीमत पर अपनी फसल बेच सकते हैं। साथ ही, मंडी के बाहर होने वाले कृषि उत्पादों के व्यापार को शुल्क मुक्त कर दिया है।”


उन्होंने सवालिया लहजे में कहा, “केंद्र सरकार ने बिना टैक्स के कहीं भी उपज बेचने की अनुमति दी और कानूनी बंदिशों से आजादी दी तो इसमें गलत क्या है?”

तोमर ने कहा, “जो राज्य सरकारें टैक्स लगा रही हैं, उनके खिलाफ तो कोई बोल नहीं रहा है, आंदोलनकारी भाई भी उन लोगों के खिलाफ आंदोलन कर रहे हैं, जिन्होंने (भारत सरकार) किसानों की फसल पर टैक्स माफ कर दिया।”

केंद्रीय कृषि मंत्री ने यहां के पूसा स्थित भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आईसीएआर) के परिसर में तीन दिवसीय वार्षिक पूसा कृषि विज्ञान मेले का शुभारंभ किया। यह मेला ‘कृषि कुंभ’ कहलाता है, जिसमें बड़ी तादाद में देशभर के किसान पहुंचे हैं। इस मौके पर उन्होंने वहां मौजूद किसानों से पूछा, “क्या यह आंदोलन न्यायोचित है?”
 

कोई भी सरकार किसानों को नुकसान पहुंचाने वाला कानून बनाने की हिमाकत नहीं कर सकती : तोमर | (Unsplash)

किसानों की ओर से ‘नहीं’ में उत्तर मिलने पर तोमर ने कहा कि दुर्भाग्य से यह आंदोलन हो रहा है। उन्होंने कहा, “हमारे देश में लोकतंत्र है, अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता है और कुछ लोग तो देश में ऐसे हैं कि जब सुबह उनकी नींद खुलती है, तब से लेकर रात में सोने के वक्त तक मोदी जी (प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी) को कोसने का संकल्प लेते हैं। बस, अंतर इतना ही है कि कभी चेहरा किसी का होता है, कभी चेहरा किसी और का।”

आत्मनिर्भर किसान की थीम पर आयोजित मेले के उद्घाटन समारोह में बतौर मुख्य अतिथि पहुंचे तोमर ने किसानों से केंद्र सरकार द्वारा लागू अनेक योजनाओं व कार्यक्रमों का पूरा लाभ उठाने का आग्रह करते हुए कहा कि देश का किसान मजबूत होगा तो गांव मजबूत होगा, खेती समृद्ध होगी तो भारत समृद्ध होगा, तभी आने वाले कल में भारत दुनिया के श्रेष्ठ राष्ट्र के रूप में स्थापित हो पाएगा।

कार्यक्रम में बतौर विशेष अतिथि पहुंचे कृषि एवं किसान कल्याण राज्यमंत्री कैलाश चौधरी ने कहा, “हमारे किसान व वैज्ञानिक प्रगति कर रहे हैं, सरकार भी कृषि क्षेत्र की तरक्की के लिए लगातार काम कर रही है।”

यह भी पढ़े :- कोरोना काल में प्रवासी श्रमिकों के लिए बड़ा संबल साबित हुई “मनरेगा” रोजगार योजना !

कार्यक्रम के दौरान केंद्रीय मंत्री तोमर ने सौर ऊर्जा चालित पूसा फार्म सन फ्रिज का उद्घाटन किया। उन्होंने फसल प्रदर्शनी का अवलोकन करने के साथ-साथ किसानों से चर्चा भी की। तोमर ने संस्थान के प्रकाशनों का विमोचन भी किया। (आईएएनएस-SM)

Popular

विशाल गर्ग (Twitter)

बेटर डॉट कॉम(Better.com) के भारतीय मूल(Indian Origin) के सीईओ विशाल गर्ग(Vishal Garg) तब से सुर्खियां बटोर रहे हैं, जब उन्होंने जूम कॉल पर 900 से अधिक कर्मचारियों, लगभग 9 प्रतिशत कर्मचारियों को अचानक निकाल दिया।

कथित तौर पर कर्मचारियों में से एक द्वारा रिकॉर्ड किए गए अब वायरल वीडियो में, गर्ग को पिछले बुधवार को यूएस-आधारित कंपनी के कर्मचारियों को यह कहते हुए सुना जा सकता है कि उन्हें बाजार की दक्षता, प्रदर्शन और उत्पादकता पर निकाल दिया जा रहा है।

Keep Reading Show less

शिया वक़्फ़ बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष वसीम रिज़वी ने आज हिन्दू धर्म अपना लिया। (Twitter)

उत्तर प्रदेश शिया वक्फ बोर्ड(Shia Waqf Board) के पूर्व अध्यक्ष वसीम रिजवी(Wasim Rizvi) ने सोमवार को हिंदू धर्म(Hindu Religion) (जिसे सनातन धर्म भी कहा जाता है) अपना लिया। एक दैनिक समाचार वेबसाइट की रिपोर्ट के अनुसार, उन्होंने अनुष्ठान के तहत डासना देवी मंदिर में स्थापित शिव लिंग पर दूध चढ़ाया।

समारोह डासना देवी मंदिर के मुख्य पुजारी नरसिंहानंद सरस्वती की उपस्थिति में सुबह 10.30 बजे शुरू हुआ, वैदिक भजनों का जाप किया गया क्योंकि रिजवी ने इस्लाम छोड़ दिया और एक यज्ञ के बाद हिंदू धर्म में प्रवेश किया। वह त्यागी समुदाय से जुड़े रहेंगे। उनका नया नाम जितेंद्र नारायण सिंह त्यागी होगा।

Keep Reading Show less

इंडियन स्कूल ऑफ हॉस्पिटैलिटी (ISH) [IANS]

दुनिया की अग्रणी हॉस्पिटैलिटी और पाक कला शिक्षा दिग्गजों में से एक, सॉमेट एजुकेशन (Sommet Education) ने हाल ही में देश के प्रीमियम हॉस्पिटैलिटी संस्थान, इंडियन स्कूल ऑफ हॉस्पिटैलिटी (ISH) के साथ हाथ मिलाया है। इसके साथ सॉमेट एजुकेशन की अब आईएसएच (ISH) में 51 प्रतिशत हिस्सेदारी है, जो पूर्व के विशाल वैश्विक नेटवर्क में एक महत्वपूर्ण एडिशन है। रणनीतिक साझेदारी सॉमेट एजुकेशन को भारत में अपने दो प्रतिष्ठित संस्थानों को स्थापित करने की अनुमति देती है। इनमें इकोले डुकासे शामिल है, जो पाक और पेस्ट्री कला में एक विश्वव्यापी शिक्षा संदर्भ के साथ है। दूसरा लेस रोचेस है, जो दुनिया के अग्रणी हॉस्पिटैलिटी बिजनेस स्कूलों में से एक है।

इस अकादमिक गठबंधन के साथ, इकोले डुकासे का अब भारत में अपना पहला परिसर आईएसएच (ISH) में होगा, और लेस रोचेस देश में अपने स्नातक और स्नातकोत्तर आतिथ्य प्रबंधन कार्यक्रम शुरू करेगा।

Keep reading... Show less