Monday, June 14, 2021
Home दुनिया International Nurses Day 2021: हमारी कृतज्ञता नर्सों के साथ!

International Nurses Day 2021: हमारी कृतज्ञता नर्सों के साथ!

आज यानी 12 मई को अंतरराष्ट्रीय नर्स दिवस, फ्लोरेंस नाइटिंगेल (Florence Nightingale) के जन्म दिवस के रूप में मनाया जाता है।

2020 और 21 में कोविड (Covid) महामारी के कारण पूरी दुनिया इस संक्रमण से लड़ रही है। दुनिया भर में अब तक 3 मिलियन से भी अधिक मौतें हो चुकी है। एक तरफ जहां पूरी दुनिया “घर पर रहें, सुरक्षित रहें” की बात बोलते थक नहीं रही, वहीं दूसरी तरफ इतनी भयावहता के बावजूद, हमारे स्वास्थ्य कार्यकर्ता – डॉक्टर, नर्स (Nurses) और अन्य सभी लोग वायरस से लड़ने और जीवन बचाने में अपनी जी तोड़ कोशिश करने में लगे हैं। अपना घर, परिवार छोड़ कर यह सभी कार्यकर्ता अपनी जान की चिंता किए बगैर दूसरों की जान बचा रहे हैं।

महामारी (Pandemic) के खिलाफ चल रही इस वैश्विक लड़ाई में नर्सेस भीं, डॉक्टर्स के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चल रहे हैं। नर्सेस हमारी स्वास्थ्य प्रणाली की रीड हैं। रोगियों की प्राथमिक देखभाल करना, उन्हें उपचार प्रदान करना, कोविड का टीका लगाना आदि। नर्सें आज सभी स्वास्थ्य देखभाल कर्मियों के बीच एक महत्वपूर्ण कड़ी के रूप में कार्य कर रहे हैं। 

आज यानी 12 मई को अंतरराष्ट्रीय नर्स दिवस, फ्लोरेंस नाइटिंगेल (Florence Nightingale) के जन्म दिवस के रूप में मनाया जाता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने उन सभी नर्सों पर महत्वपूर्ण प्रकाश डाला है। जो महामारी से लड़ने में सबसे आगे खड़े हैं इसलिए इस वर्ष की थीम नर्स : ए वॉयस टू लीड, ए विजन फॉर फ्यूचर हेल्थ केयर है। यह अंतर्राष्ट्रीय नर्स दिवस दुनिया भर में नर्सों और स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं के लिए हमारी कृतज्ञता व्यक्त करने के लिए विशेष महत्व रखता है।

Florence Nightingale
फ्लोरेंस नाइटिंगेल (Florence Nightingale) (Wikimedia Commons)

अंतरराष्ट्रीय नर्स दिवस (International Nurses Day), नर्सों को सम्मानित करने के लिए 12 मई को हर साल मनाया जाता है। इंटरनेशनल काउंसिल ऑफ नर्स ने 1953 में पहली बार यह दिवस मनाया था। एक अमेरिकी स्वास्थ्य, शिक्षा और कल्याण विभाग के अधिकारी, डोरोथी सुंदरलैंड ने “नर्स डे” घोषित करने के लिए, तत्कालीन राष्ट्रपति ड्वाइट डी आइजनहावर को प्रस्ताव भेजा था। लेकिन उन्होंने इसे मंजूर नहीं किया था। बाद में 1974 में, 12 मई को नर्सिंग के संस्थापक फ्लोरेंस नाइटिंगेल की जयंती के दिन इस दिन को मनाने के लिए चुना गया।

यह भी पढ़ें :- मुश्किल हालात में देवदूत बने लखनऊ के दो डॉक्टर

फ्लोरेंस नाइटिंगेल कौन थीं?

नाइटिंगेल एक प्रसिद्ध समाज सुधारक थीं। क्रीमियन युद्ध (Crimean War) के दौरान, उन्होंने नर्स के प्रबंधक और प्रशिक्षक के रूप में सेवा की थी। घायल सैनिकों के देखभाल में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। उनके प्रयासों के कारण, 1860 में लंदन के थॉमस अस्पताल में नाइटिंगेल के नर्सिंग स्कूल की स्थापना के साथ आधुनिक नर्सिंग की नींव रखी गई थी। यह दुनिया का पहला धर्मनिरपेक्ष स्कूल था। आज नाइटिंगेल के नाम पर, नाइटिंगेल पदक नर्सों के लिए सर्वोच्च अंतर्राष्ट्रीय पदक माना जाता है।  

हमें याद रखना चाहिए कोविड – 19 महामारी में नर्सेस एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही हैं। नर्सों के बिना इस लड़ाई को जीत पाना बहुत मुश्किल है। 

POST AUTHOR

जुड़े रहें

7,623FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी