Monday, June 14, 2021
Home देश खेती के करार कानून के 5 फायदे गिनाते हैं भारत सरकार के...

खेती के करार कानून के 5 फायदे गिनाते हैं भारत सरकार के अधिकारी

देश में खेती का करार काफी पहले से चला आ रहा है जोकि लिखित व अलिखित दोनों रूप में होता है, लेकिन केंद्र सरकार द्वारा लाए गए नये कानून के जरिए उसे एक कानूनी आधार प्रदान किया गया है।

देश में खेती का करार काफी पहले से चला आ रहा है जोकि लिखित व अलिखित दोनों रूप में होता है, लेकिन केंद्र सरकार द्वारा लाए गए नये कानून के जरिए उसे एक कानूनी आधार प्रदान किया गया है। भारत सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि नये कानून के तहत होने वाले करार में फसलों की क्वालिटी, ग्रेड और उसकी कीमतें व सेवा की शर्तें होंगी, जिनसें किसानों के हितों की अनदेखी नहीं हो पाएगी। किसानों की आय दोगुनी करने के लक्ष्य को हासिल करने के लिए सरकार की ओर से गठित समिति के अध्यक्ष अशोक दलवई की मानें तो नये कानून में किसानों के हितों को प्रमुखता दी गई है।

खेती-किसानी को लाभकारी बनाने के मकसद से मोदी सरकार द्वारा शुरू किए गए सुधार के कार्यक्रमों को लागू करने के लिए कोरोना काल में लागू तीन अहम कृषि कानूनों में कृषक (सशक्तीकरण एवं संरक्षण) कीमत आश्वासन और कृषि सेवा करार कानून 2020 भी शामिल हैं। इस कानून की खासियत है कि इसमें फसलों की क्वालिटी, ग्रेड और उसकी कीमतें व सेवा की शर्तों का जिक्र किया जाएगा। साथ ही, करार एक से पांच साल तक का होगा। तीसरी अहम और अति महत्वपूर्ण बात यह है कि इसमें करार में पहले से तय कीमत के मुकाबले फसल की कीमत ज्यादा होने पर बाजार में उपलब्ध कीमत को बेंचमार्क माना जाएगा।

दिल्ली की सीमाओं पर 26 नवंबर से प्रदर्शन कर रहे किसान संगठनों के नेताओं का कहना है कि इस कानून का फायदा कॉरपोरेट कंपनियों को होगा, क्योंकि कानून उन्हीं के हितों का ध्यान में रखकर बनाया गया है। लेकिन वरिष्ठ अधिकारी इस कानून को किसानों के लिए लाभकारी बताते हैं। नेशनल रेनफेड एरिया अथॉरिटी (एनआरएए) के सीईओ अशोक दलवई ने आईएएनएस को बताया कि नये कानून में जो मल्टीपार्टी कांट्रैक्ट का प्रावधान है। इसमें कीमत के साथ-साथ सेवा का भी करार होगा। दलवई ने नये कानून में किसानों के लिए पांच फायदे गिनाए।

यह भी पढ़ें : महिलाओं के खिलाफ अपराध रोकने के लिए एंटी रोमियो स्क्वॉड का पुर्नोत्थान

नये कानून में किसानों के लिए पांच फायदे

1. फसलों की कटाई के बाद कीमतों में जो उतार-चढ़ाव होता है उसके बारे में किसानों को पहले पता नहीं होता है, लेकिन करार में कीमत पहले ही तय हो जाएगी, जिससे किसानों को पहले से तय कीमत मिलने का भरोसा रहेगा।

2. किसानों को एक्सटेंशन टेक्टनोलॉजी मिलेगी। मतलब किस फसल का उत्पादन करना है और किस वेरायटी का उत्पादन करना है, जिसकी मांग होगी।

3. सेवा का उत्तरदायित्व स्पांसर या खरीदार उठाएगा। मसलन, वाटर मैनेजमेंट, वेस्ट मैनेजमेंट आदि की जिम्मेदारी स्पांसर ले सकता है।

4. जमीन को लेकर कोई करार नहीं होगा। यह करार सिर्फ फसल का होगा।

5. किसी प्रकार के विवाद की सूरत में समाधान सरलता से किया जाएगा। पहले गांव में ही ग्राम पंचायत स्तर पर विवादों का निपटारा किया जाएगा और ऐसा नहीं होने पर एसडीएम के स्तर पर विवादों का निपटारा किया जाएगा।

नये कृषि कानूनों को निरस्त करने की मांग कर रहे किसानों को एक बड़ी आशंका है कि इस कानून के तहत करार का निपटारा एसडीएम के स्तर पर होने से गरीब किसान को न्याय नहीं मिल पाएगा। इस मसले पर सरकार ने उन्हें मौजूदा प्रावधान के साथ-साथ सिविल कोर्ट जाने का प्रावधान कानून में शामिल करने का प्रस्ताव दिया है।(आईएएनएस)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,623FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी