Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

जो लोग हो चुके है कोविड संक्रमित उनके लिए काल है ओमिक्रॉन!

दक्षिण अफ्रीका में शोधकर्ताओं के एक दल ने कहा कि उन्हें कुछ सबूत मिले हैं कि जो लोग एक बार कोविड से संक्रमित हो गए थे, उनकी बीटा या डेल्टा वैरिएंट की तुलना में ओमिक्रॉन वैरिएंट से दोबारा संक्रमित होने की संभावना अधिक है।


जो लोग हो चुके है कोविड संक्रमित उनके लिए काल है ओमिक्रॉन! [File Photo]

सीएनएन(CNN) की एक रिपोर्ट के अनुसार, दक्षिण अफ्रीका में शोधकर्ताओं के एक दल ने शोध किया है। उन्होने कहा है कि उन्हें कुछ सबूत मिले हैं कि जो लोग एक बार कोविड(Covid 19) से संक्रमित हो गए थे, उनकी बीटा(Beta) या डेल्टा वैरिएंट (delta variant)की तुलना में ओमिक्रॉन वैरिएंट(Omicron Variant) से दोबारा संक्रमित होने की संभावना अधिक है। साथ ही साथ यह भी कहा गया है कि अभी इतनी जल्दी निश्चित रूप से इस बारे में कुछ कहना तो जल्दबाजी होगी, मगर हाल ही में दूसरी बार के संक्रमण में वृद्धि ने उन्हें संकेत दिया है कि ओमिक्रॉन में लोगों को फिर से संक्रमित करने की अधिक संभावना है। दक्षिण अफ्रीका में शोधकर्ताओं के एक दल ने कहा कि

अपको बता दें, ओमिक्रॉन(Omicron Variant) की पहचान हाल ही में नवंबर महीने में की गई थी, लेकिन इसने विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) और अन्य वैश्विक स्वास्थ्य अधिकारियों को चिंतित कर दिया है, जिन्होंने इसके कई म्यूटेंट बनने के कारण इसे खतरनाक बताया है। इसके बारे में बताया जा रहा है कि यह अन्य वैरिएंट की तुलना में अधिक संक्रामक तो है ही, साथ ही इसमें प्रतिरक्षा प्रणाली से बचने की क्षमता भी है।


Covid-19 Vaccine , Corona , Omicron कुछ विशेषज्ञ मान रहे हैं कि वैक्सीन की खुराक का भी ओमिक्रोन पर कोई खास प्रभाव नही हैं! [Pixabay]

इसके बारे में संदेह जताया जा रहा है कि वैक्सीन(Vaccine) की खुराक का भी इस पर(Omicron Variant) कोई खास प्रभाव नहीं पड़ने वाला है। हालांकि कई विशेषज्ञ इस बात पर विश्वास नहीं जा रहे हैं और उनका कहना है कि वैक्सीन किसी भी वैरिएंट(Variant) से कुछ सुरक्षा तो जरूर प्रदान करेगी। नए वैरिएंट को 'वैरिएंट ऑफ कंसर्न'(variant of concern) यानी चिंताजनक श्रेणी का बताया गया है।

स्टेलनबोश यूनिवर्सिटी के जूलियट पुलियम(Juliet Pulliam) ने कहा, "पिछले वैरिएंट के साथ हमारी अपेक्षाओं और अनुभव के विपरीत, अब हम पुन: संक्रमण के जोखिम में वृद्धि का अनुभव कर रहे हैं, जो हमारे पिछले अनुभव से अधिक है।" पुलियम और उनके सहयोगियों ने महामारी की शुरूआत के बाद से दक्षिण अफ्रीका में 27 लाख लोगों को कवर करते हुए संक्रमणों की रिपोर्ट को देखा है, जिसमें 35,000 से अधिक लोग कोविड-19 संक्रमण से एक से अधिक संक्रमित हुए हैं। पॉजिटिव टेस्ट वाले 27 लाख लोगों में से 35,670 संदिग्ध पुन: संक्रमित पाए गए।

एक प्रीप्रिंट में ऑनलाइन पोस्ट की गई अपनी रिपोर्ट में शोधकर्ताओं ने कहा है, "हमने कम से कम दो बार संक्रमित होने वाले 35,670 संदिग्ध मामलों की पहचान की (27 नवंबर 2021 तक), 332 व्यक्तियों में तीन बार संक्रमण और एक व्यक्ति में चार बार संदिग्ध संक्रमण की पुष्टि हुई है।" उन्होंने कहा, "जिन व्यक्तियों में एक से अधिक पुन: संक्रमण हुआ है, उनमें से 47 (14.2 प्रतिशत) ने नवंबर 2021 में अपने तीसरे संक्रमण का अनुभव किया, जो बताता है कि कई तीसरे संक्रमण मामले ओमिक्रॉन वैरिएंट से जुड़े हैं।"

वे मान रहे हैं कि दक्षिण अफ्रीका में मामलों में हालिया तेजी ओमिक्रॉन(Omicron Variant) के प्रसार को दर्शाती है, न कि कुछ अन्य कारक जैसे कि कमजोर प्रतिरक्षा। जिन लोगों के मामलों का वे वर्णन करते हैं उनमें वायरस अनुक्रमित या सीक्वेंस्ड नहीं हुआ है, इसलिए यह निश्चित नहीं है कि वे वास्तव में ओमिक्रॉन वैरिएंट(Omicron Variant) से संक्रमित थे या नहीं।

यह भी पढ़े - ओमिक्रॉन को देखते हुए हुआ लॉकडाउन तो पड़ेगा महंगा-डब्ल्यूएचओ

हालांकि, अधिकारियों ने कहा है कि ओमिक्रॉन वैरिएंट(Omicron Variant) अब दक्षिण अफ्रीका में प्रमुख कोरोनावायरस(corona virus) स्ट्रेन है, जो नवंबर में आनुवंशिक रूप से सीक्वेंस्ड 74 प्रतिशत नमूनों के लिए जिम्मेदार है। वैरिएंट की वास्तविक व्यापकता को निर्धारित करने के लिए अधिक संख्या में सीक्वेंसिंग चल रही है।

input : आईएएनएस ; Edited by Lakshya Gupta

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें


Popular

'संभावित रूप से हानिकारक' कंटेंट की विजिबिलिटी को कम करेगा इंस्टाग्राम (Wikimedia Commons)

मेटा(Meta) के स्वामित्व वाला फोटो-शेयरिंग प्लेटफॉर्म इंस्टाग्राम (Instagram) अपने ऐप में 'संभावित रूप से हानिकारक' कंटेंट को कम दिखाई देने के लिए नए कदम उठा रहा है। एनगैजेट की रिपोर्ट के अनुसार, कंपनी ने कहा कि यूजर्स के फीड और स्टोरीज में पोस्ट करने के तरीके को सशक्त करने वाला एल्गोरिदम अब ऐसे कंटेंट को प्राथमिकता देगा, जिसमें 'बदमाशी, अभद्र भाषा या हिंसा भड़काने वाली सामग्री हो सकती है।'

इंस्टाग्राम के नियम पहले से ही इस प्रकार की अधिकांश सामग्री को प्रतिबंधित करते हैं, जबकि परिवर्तन सीमा रेखा पोस्ट या कंटेंट को प्रभावित कर सकता है जो अभी तक ऐप के मॉडरेटर तक नहीं पहुंची है। कंपनी ने एक अपडेट में बताया, "यह समझने के लिए कि क्या कोई चीज हमारे नियमों को तोड़ सकती है, हम चीजों को देखेंगे जैसे कि कैप्शन एक कैप्शन के समान है जो पहले हमारे नियमों को तोड़ता था।"

Keep Reading Show less

सरकार ने यह करके बिल्कुल सही कदम उठाया है, अमर जवान ज्योति अस्थाई थी: जेबीएस यादव (Wikimedia Commons)

दिल्ली इंडिया गेट पर जलने वाली अमर जवान ज्योति का नेशनल वॉर मेमोरियल में विलय हो गया, सरकार के इस फैसले को डेप्युटी चीफ ऑफ आर्मी स्टाफ से 2005 में रिटायर्ड हुए लेफ्टिनेंट जनरल जेबीएस यादव ने इसे बिल्कुल सही ठहराया है। दरअसल इंडिया गेट पर पिछले 50 साल से अमर जवान ज्योति जल रही है। वहीं 25 फरवरी, 2019 को नेशनल वॉर मेमोरियल में अमर जवान ज्योति प्रज्वलित की गई थी।

साल 1971 का भारत-पाकिस्तान युद्ध के दौरान सिलीगुड़ी कॉरिडोर पर हिंदुस्तानी सेना को कमांड कर रहे, लेफ्टिनेंट जनरल जेबीएस यादव ने आईएएनएस को बताया कि, सरकार ने यह करके बिल्कुल सही कदम उठाया है, अमर जवान ज्योति अस्थाई थी। उस वक्त हमारे पास नेशनल वॉर मेमोरियल नहीं था और अंग्रेजों का बना हुआ था। फिर इसमें बदलाव करके अमर जवान ज्योति लगाई गई थी।

Keep Reading Show less

नेताजी भारतीय लोगों के दिलों में थे, हैं और आगे भी रहेंगे। ( Wikimedia Commons )

नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती समारोह पराक्रम दिवस के अंग के तौर पर आयोजित एक वेबिनार में जर्मनी से शामिल हुईं नेताजी सुभाष चंद्र बोस की बेटी डॉ. अनीता बोस फाफ ने कहा कि नेताजी के पास भारत की वित्तीय और आर्थिक मजबूती के लिए एक विजन था और भारत को आजादी मिलने से पहले ही उन्होंने एक योजना आयोग का गठन कर लिया था।

जर्मनी से इस वेबिनार को संबोधित करते हुए डॉ. अनीता बोस फाफ ने कहा कि नेताजी भारतीय लोगों के दिलों में थे, हैं और आगे भी रहेंगे। उन्होंने कहा कि हालांकि उनके पिता एक धर्मनिष्ठ हिंदू थे लेकिन उनके मन में सभी धर्मों के लिए सम्मान था। उनके पिता ने एक ऐसे भारत की कल्पना की थी जहां सभी धर्म के लोग शांतिपूर्वक सह-अस्तित्व में रहते हों। उन्होंने कहा कि नेताजी लैंगिक समानता के हिमायती थे। उनका दृष्टिकोण एक ऐसे राष्ट्र का निर्माण करना था जहां पुरुषों और महिलाओं को न केवल समान अधिकार हों, बल्कि वे समान कर्तव्यों का पालन भी कर सकें।

Keep reading... Show less