मानव मस्तिष्क में मल्टीमॉडल न्यूरॉन्स होते हैं : खोज

एलन मस्क द्वारा स्थापित स्टार्टअप ओपनएआई ने एक आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस सिस्टम में मल्टीमॉडल न्यूरॉन्स की खोज की है, जो मानव मस्तिष्क में कुछ न्यूरॉन्स की तरह ही

 एलन मस्क द्वारा स्थापित स्टार्टअप ओपनएआई ने एक आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस सिस्टम में मल्टीमॉडल न्यूरॉन्स की खोज की है, जो मानव मस्तिष्क में कुछ न्यूरॉन्स की तरह ही काम करते हैं। यह रहस्योद्घाटन इस खोज के 15 साल बाद हुआ है कि मानव मस्तिष्क में मल्टीमॉडल न्यूरॉन्स होते हैं, जो किसी विशिष्ट ²श्य सुविधा (विजुअल फीचर) के बजाय एक सामान्य उच्च-स्तरीय थीम के आसपास केंद्रित अमूर्त अवधारणाओं के समूहों का जवाब देते हैं।

इनमें से सबसे प्रसिद्ध हाले बेरी न्यूरॉन है, जो तस्वीरों, रेखाचित्रों (स्केच) और टेक्सट हाले बेरी का जवाब देता है – लेकिन इसमें अन्य नाम नहीं होते।

दो महीने पहले, ओपनएआई ने सीएलआईपी नामक एक तंत्रिका (न्यूरल) नेटवर्क की घोषणा की थी, जो प्राकृतिक भाषा पर्यवेक्षण (नेचुरल लैंग्वेज सुपरविजन) से ²श्य अवधारणाओं (विजुअल कंसेप्ट) को कुशलता से सीखता है।

मानव मस्तिष्क | (Unsplash)

सीएलआईपी को किसी भी विजुअल क्लासिफिकेशन बेंचमार्क पर लागू किया जा सकता है और इसके लिए बस ²श्य श्रेणियों के नामों को मान्यता प्रदान की जाती है।

इसे पहचानने के लिए प्रशिक्षित किया जाता है। एक नए पेपर में, ओपनएआई के शोधकर्ताओं ने अब सीएलआईपी में मल्टीमॉडल न्यूरॉन्स की उपस्थिति की खोज जारी की है।

यह भी पढ़े :- महिलाओं की सुरक्षा के लिए बनायी गई वुमेन्स शक्ति टी शर्ट !

ओपनएआई ने शुक्रवार को एक ब्लॉग पोस्ट में कहा, “सीएलआईपी में मल्टीमॉडल न्यूरॉन्स की हमारी खोज हमें एक संकेत देती है कि सिंथेटिक और प्राकृतिक दोनों प्रकार की अभिव्यक्ति प्रणालियों का एक सामान्य तंत्र क्या हो सकता है – ऐब्स्ट्रैक्शन।” (आईएएनएस-SM)
 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here