Saturday, May 15, 2021
Home व्यवसाय कृषि के लिए कोराना की आपदा अब अवसर में बदल रही है...

कृषि के लिए कोराना की आपदा अब अवसर में बदल रही है !

भारतीय अर्थव्यवस्था की रीढ़ कृषि के लिए कोराना की आपदा अब अवसर में बदल रही है। कृषि उत्पादन में इजाफा होने के साथ-साथ विदेश व्यापार में भी इसकी हिस्सेदारी बढ़ने से किसानों को उनकी फसलों का बेहतर दाम मिलने की उम्मीद जगी है क्योंकि अंतर्राष्ट्रीय बाजार में चावल, चीनी, गेहूं, मक्का समेत तमाम कृषि उत्पादों के दाम में बेतहाशा वृद्धि हुई है। वैश्विक बाजार में कृषि उत्पादों के दाम बढ़ने से भारत के निर्यात में भी इजाफा हो रहा है। अंतर्राष्ट्रीय बाजार में गेहूं का भाव बढ़ने और भारत में उत्पादन में बढ़ोतरी से दाम पर दबाव से निर्यात की संभावना बढ़ गई है। जानकार बताते हैं कि भारत चावल का परंपरागत निर्यातक है, लेकिन छह साल बाद वैश्विक बाजार में गेहूं के अपने सरप्लस स्टॉक को खपाने का भी मौका है।

अमेरिकी एजेंसी यूएसडीए के आकलन के अनुसार, भारत गेहूं और चावल का निर्यात

भारत में गेहूं और चावल की मांग-आपूर्ति (यूएसडीए का फरवरी 2021 अनुमान)- टेबल-

गेहूं (आंकड़े लाख टन में)

वर्ष पिछला स्टॉक उत्पादन आयात खपत निर्यात अंतिम स्टॉक

2020-21 247 1075.9 0.3 1030.2 18 275

2019-20 169.9 1036 0.2 954.5 1 247

2018-19 132.3 998.7 0.2 956.3 5 169.9

चावल (आंकड़े लाख टन में)

वर्ष पिछला स्टॉक उत्पादन आयात खपत निर्यात अंतिम स्टॉक

2020-21 297 1200 – 1060 150 287

2019-20 295 1184.3 – 1057.4 124.9 297

2018-19 226 1164.8 – 991.6 104.2 295

चालू वित्त वर्ष के आरंभिक नौ महीने यानी अप्रैल से दिसंबर के दौरान गेहूं के निर्यात के मूल्य में पिछले साल के मुकाबले 456 फीसदी की वृद्धि हुई जबकि गैर-बासमती चावल के निर्यात के मूल्य में करीब 123 फीसदी का इजाफा हुआ है। इसकी एक बड़ी वजह वैश्विक बाजार अनाजों के दाम में आई जोरदार तेजी है।

अंतराष्ट्रीय बाजार में जून 2020 के बाद गेहूं के भाव में 48 फीसदी से ज्यादा की तेजी आई है। वहीं, मक्के का भाव अप्रैल 2020 के बाद 91 फीसदी से ज्यादा उछला है। वैश्विक बाजार में मोटे चावल की बात करें तो इसका भाव 110 फीसदी से ज्यादा उछला है।

वैश्विक बाजार में गेहूं का भाव करीब सात साल की उंचाई पर चला गया है और मक्के का दाम भी करीब आठ साल के उंचे स्तर पर है।

विशेषज्ञ बताते हैं कि कोरोना काल में कई देशों में सप्लाई चेन प्रभावित होने से कृषि व संबद्ध क्षेत्र के उत्पादों के दाम में इजाफा हुआ है, जिसका फायदा भारतीय उत्पाद को मिल रहा है।

कृषि एवं प्रसंस्कृत खाद्य उत्पाद विकास प्राधिकरण (एपीडा) के तहत आने वाले बासमती एक्सपोर्ट डेवलपमेंट फाउंडेशन (बीईडीएफ) के निदेशक पद से हाल ही में सेवानिवृत्त हुए ए.के. गुप्ता ने आईएएनएस से कहा कि खाद्य पदार्थ आवश्यक वस्तु है जिसकी वैश्विक मांग कोरोना काल में भी बनी हुई थी, मगर कुछ देश सप्लाई करने की स्थिति में नहीं थे जिससे भारत को बेहतर अवसर मिला। उन्होंने कहा कि भारत ने अपनी बड़ी आबादी को मुफ्त अनाज मुहैया करने के साथ-साथ दुनिया के देशों को भी अनाज मुहैया करवाया। इसका श्रेय देश के किसानों को जाता है जिन्होंने रिकॉर्ड अनाज पैदा किया।

बाजार में चावल, गेहूं, मक्का समेत तमाम कृषि उत्पादों के दाम में बेतहाशा वृद्धि हुई है। (Pexel)

कृषि विशेषज्ञ इसका श्रेय केंद्र सरकार को भी देते हैं जिसने फसलों की बुवाई और कटाई से लेकर उर्वरकों और कृषि यंत्रों की सप्लाई समेत कृषि से संबंधित तमाम गतिविधियों को देशव्यापी लॉकडाउन के दौरान छूट दे दी थी।

कोरोना महामारी के संकट की घड़ी में भी देश का अन्न भंडार भर रहा है। बेशक यह किसानों की मेहनत और सरकार की ओर से सही समय पर लिए गए फैसलों का नतीजा है। साथ ही, मानसून भी मेहरबान रहा है।

भारतीय मौसम विज्ञान के महानिदेशक डॉ. मृत्युंजय महापात्र ने आईएएनएस से कहा कि विगत कुछ वर्षों से देश में मानसून अनुकूल रहा है जिससे किसानों को फायदा मिला है। विगत में 2014-15 और 2015-16 में बारिश औसत से क्रमश: 12 फीसदी और 14 फीसदी कम रही, लेकिन उसके बाद से मानसून अनुकूल रहा है जिससे अनाजों के उत्पादन में बढ़ोतरी हुई है।

हाल ही में केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी फसल वर्ष 2020-21 (जुलाई-जून) के दूसरे अग्रिम उत्पादन अनुमान के अनुसार देश में खाद्यान्नों का उत्पादन 30.33 करोड़ टन रह सकता है जिनमें चावल का उत्पादन रिकॉर्ड 12.03 करोड़ टन, गेहूं का रिकॉर्ड 10.92 करोड़ टन, पोषक व मोटा अनाज 493 लाख टन, मक्का 301.6 लाख टन और दलहनी फसल 244.2 लाख टन शामिल है।

वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, भारत ने चालू वित्त वर्ष 2020-21 के दौरान आरंभिक नौ महीनों में 22,856 करोड़ रुपये (306.8 करोड़ डॉलर) मूल्य का गैर-बासमती चावल का निर्यात किया है, जो पिछले साल के मुकाबले रुपये के मूल्य में 122.61 फीसदी ज्यादा है। वहीं, बासमती चावल का निर्यात चालू वित्तवर्ष में अप्रैल से दिसंबर के दौरान करीब 22,038 करोड़ रुपये (294.7 करोड़ डॉलर) मूल्य का हुआ जोकि पिछले साल की समान अवधि के मुकाबले रुपये के मूल्य में 5.31 फीसदी अधिक है।

यह भी पढ़े :- खेती में अधिक तकनीक का उपयोग करने की इच्छुक सरकार : तोमर

भारत ने 2020-21 में अप्रैल से दिसंबर के दौरान 1,870 करोड़ रुपये (25.2 करोड़ डॉलर) मूल्य का गेहूं निर्यात किया है, जबकि पिछले साल की इसी अवधि में गेहूं का निर्यात 336 करोड़ रुपये (480 लाख डॉलर) मूल्य का हुआ था। भारत अपने पड़ोसी देश नेपाल, श्रीलंका और बांग्लादेश के अलावा मिड्डल-ईस्ट के देशों को गेहूं निर्यात कर रहा है।

बाजार के जानकार बताते हैंे कि बांग्लादेश रूसी गेहूं का एक बड़ा खरीदार है, लेकिन रूस द्वारा निर्यात पर प्रतिबंध लगने से बांग्लादेश भारत से अपनी खरीदारी बढ़ा सकता है।

कृषि अर्थशास्त्री विजय सरदाना कहते हैं कि भारत को कृषि उत्पादों के निर्यात को बढ़ाने के लिए उत्पादों की गुणवत्ता में सुधार के साथ-साथ बेहतर रणनीति के साथ काम करना होगा जिसमें दिपक्षीय व्यापारिक समझौता अहम साबित होगा। (आईएएनएस-SM)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,635FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी