Saturday, May 15, 2021
Home देश स्वास्थ्य वायरस अटैक के बीच श्रद्धानंद को भा गई सब्जी की जैविक खेती

वायरस अटैक के बीच श्रद्धानंद को भा गई सब्जी की जैविक खेती

गोरखपुर के श्रद्धानंद तिवारी अपनी खेती-बाड़ी को उचाईयों तक ले जाने का प्रयास कर रहे हैं। लेकिन आपदा के रूप में कोरोना का अटैक हुआ तो वो जैविक सब्जियों की खेती करने में लग गए हैं।

By: विवेक त्रिपाठी

रासायनिक खाद और कीटनाशकों की वजह से बीमारियां बढ़ रही हैं। लोग अस्वस्थता के शिकार होते जा रहे हैं। ऐसे ही परिस्थितियों के बीच गोरखपुर के श्रद्धानंद तिवारी अपनी खेती-बाड़ी को उचाईयों तक ले जाने का प्रयास कर रहे हैं। लेकिन आपदा के रूप में कोरोना का अटैक हुआ तो वो जैविक सब्जियों की खेती करने में लग गए हैं। अब उन्हें इस सब्जी के माध्यम से धन वर्षा का इंतजार है।

वैश्विक महामारी कोराना के दौरान धंधा मंदा पड़ा। रोग प्रतिरोधक क्षमता (इम्यनूटी), बेहतर स्वास्थ्य के बारे में हर कोई चर्चा करने लगा। इसी समय श्रद्धानंद तिवारी ने तय किया कि वो खुद सब्जियों की जैविक खेती करेंगे। वहां रेलवे स्टेशन रोड पर उनकी कृषि निवेशों (खाद-बीज, कीटनाशक) की अच्छी खासी दुकान है। सीजन में खरीदने और सलाह लेने वालों की भीड़ लगी रहती है। खुद की दुकान होने के नाते कृषि निवेशों की कोई चिंता करनी नहीं थी। महराजगंज के निचलौल-सिसवा रोड पर तीन किलोमीटर दूर रायपुर गांव में करीब छह एकड़ जमीन थी। जमीन जंगल के किनारे थी। जंगली जानवरों से सुरक्षा के लिए उनकी कटीले तारों से बाड़बंदी और सिंचाई के लिए बोरिंग कराई। समतलीकरण के बाद नवंबर तक उनका खेत बोआई के लिए तैयार हो गया। दिसंबर में तीन एकड़ खेत में भिंडी लग गई। जमता (जर्मीनेशन) करीब 100 फीसद रहा। ठंड के नाते बढ़वार कम रही। अब मौसम के साथ बढ़वार में तेजी आयी है।

यह भी पढ़ें: इलेक्ट्रिकल इंजीनियर ने पथरीली पहाड़ी को हरा-भरा बना दिया

फरवरी के अंत में उसमें फल आने लगेंगे। 2़5 एकड़ खेत में गर्मी की गोभी लग चुकी है। अप्रैल में वह भी तैयार हो जाएगी। बाड़ का उपयोग हो इसके लिए नेनुआ और करेले की नर्सरी तैयार है। मेड़ पर लगाई गयी मूली बाजार में जाने लगी है। आज उनके खेत में करीब 25 लोगों को रोज रोजगार मिल रहा है। फसल की जरूरत के अनुसार इसमें लगातार वृद्घि होगी। फसल तैयार होने पर उसकी पैकिंग, ग्रेडिंग और बाजार तक ले जाने में ट्रांसपोरटेशन लोडिंग एवं अनलोडिंग में और लोगों को भी रोजगार मिलेगा।

बकौल श्रद्घानंद तिवारी, उनका परिवार लंबे समय से कृषि निवेशों के कारोबार से जुड़ा है। पीएम मोदी और सीएम योगी से लगातार सुनता रहा कि वर्ष 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करनी है। कृषि विविधीकरण के जरिए ही यह संभव है। लिहाजा शुरुआत कर दी। जिस तरह से कोरोना के नाते लोगों की सेहत के प्रति जागरूकता बढ़ी है, ऐसे में उम्मीद है कि जैविक उत्पाद के दाम भी अच्छे मिलेंगे। जमीन के साथ लोगों की सेहत भी सलामत रहेगी। उन्होंने यह भी बताया कि स्थानीय किसानों को भी जरूरत के अनुसार अपनी नर्सरी से पौधे उपलब्ध कराएंगे। साथ ही उनसे अपने अनुभव भी साझा करेंगे।(आईएएनएस-Sh.M)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,635FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी