Monday, January 25, 2021
Home मनोरंजन ओटीटी लहर दिलाती है दूरदर्शन युग की याद

ओटीटी लहर दिलाती है दूरदर्शन युग की याद

साल 1980 के दशक में दूरदर्शन कई कलाकारों को सुर्खियों में लाया था। उसी प्रकार इन दिनों ओटीटी दुनिया में कुछ ऐसा ही हो रहा है। कलाकारों को अपनी प्रतिभा दिखाने का मौका मिलने लगा है।

By – सुगंधा रावल

ग्लैमर से परे कंटेंट, नौटंकियों से परे किरदार और माध्यम के तौर पर एक पूरी नई स्टार प्रणाली, ये कुछ ऐसे लक्षण हैं, जो पिछले कुछ महीनों में चल रहे ओटीटी लहर को परिभाषित करते हैं।

हालांकि उद्योग पर नजर रखने वाले और व्यापार विशेषज्ञों का कहना है कि ये बातें दूरदर्शन युग की याद दिलाते हैं। वह एक ऐसा दौर था जब भारत में छोटे पर्दे ने वैश्विक अपील के साथ कहानियों का मंथन किया और कई प्रतिभाशाली कलाकारों के लिए नौकरियों के अवसर पैदा कीं। इसके साथ ही उन्हें घर-घर पहचान और नाम भी मिली। ठीक उसी तरह आज ओटीटी प्लेटफार्मों पर हो रहा है।

साल 1980 के दशक में टेलीविजन के सुनहरे युग की पटकथाओं के साथ दूरदर्शन कई कलाकारों को सुर्खियों में लाया, टेलीविजन में अभिनय के अवसरों के द्वार खोले। ओटीटी वही कर रहा है, लेकिन एक बड़े और अधिक संगठित तरीके से।

व्यापार विश्लेषक राजेश थडानी ने आईएएनएस को बताया, “ओटीटी दूरदर्शन के स्वर्ण युग का प्रतिबिंब है। यह लोगों को वह करने की अधिक गुंजाइश देता है, जो वे चाहते हैं। इसने उन कलाकारों को एक मंच दिया है जो फिल्मों में नहीं आ सके। इसने करियर को पुनर्जीवित किया है और सबके लिए आगे आने की संभावनाएं पैदा की हैं।”

यह भी पढ़ें – एंटरटेनमेंट का नया दौर आ चुका है, नए ट्रेंड आ रहे हैं

इन दिनों ओटीटी दुनिया में कुछ ऐसा ही हो रहा है, जहां डिजिटल प्लेटफॉर्म उन कलाकारों के लिए अपनी प्रतिभा दिखाने के लिए जगह दे रहा है, जिन्हें शायद ही फिल्मों में ऐसा करने के लिए ब्रेक मिला होगा।

विभिन्न क्षेत्रों के कलाकारों को ओटीटी शो और फिल्मों से लोकप्रियता मिली है। नीरज काबी, नमित दास, रसिका दुग्गल, पंकज त्रिपाठी, सुमित व्यास, मानवी गगरू, श्रीया पिलगांवकर, अमित साध, श्वेता त्रिपाठी, कुबेर सेत, अमोल पाराशर, अंगद बेदी, विजय वर्मा, प्रियांशु पेनयुली, बानी जे, सयानी गुप्ता और निधि सिंह उन नामों की सूची में सबसे आगे हैं।

इस बारे में नमित ने कहा, “मैंने अक्सर इस बारे में सोचा है कि 1980 के दशक में टेलीविजन बूम के आने और ‘हम लोग’ और अन्य शो के दिनों में क्या हुआ होगा। मैं उस युग और 2020 तक ओटीटी प्लेटफार्मों के बीच समानताएं देखता हूं।” (आईएएनएस)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

6,018FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

हाल की टिप्पणी