Wednesday, September 23, 2020
Home देश अनुच्छेद 370 को समाप्त हुए 1 साल पूरे होने पर तिलमिलाया पाकिस्तान-...

अनुच्छेद 370 को समाप्त हुए 1 साल पूरे होने पर तिलमिलाया पाकिस्तान- 5 अगस्त को ‘शोषण दिवस’ के रूप में मनाएगा

कुरैशी ने कहा, "कश्मीर के लोगों ने भारत सरकार के पिछले साल के पांच अगस्त के कदम को खारिज कर दिया है।"

पाकिस्तान ने जम्मू एवं कश्मीर से अनुच्छेद 370 समाप्त किए जाने के एक साल पर यानी पांच अगस्त को रैलियां, विरोध प्रदर्शन, कार्यक्रम, व्याख्यान और स्मृति सभाएं आयोजित कर इस दिन को ‘यौम-ए-इस्तेहसाल’ यानी शोषण दिवस के रूप में मनाने की घोषणा की है।

उल्लेखनीय है कि पांच अगस्त, 2019 को भारत सरकार ने जम्मू एवं कश्मीर से अनुच्छेद 370 और 35ए को समाप्त कर दिया था और राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेशों में विभाजित कर दिया था।

पाकिस्तान सरकार कश्मीरी लोगों के साथ एकजुटता दिखाते हुए राजधानी इस्लामाबाद में अपने मुख्य कश्मीर हाईवे का नाम श्रीनगर हाईवे भी करने जा रही है।

प्रधानमंत्री इमरान खान पाकिस्तानी कब्जे वाले कश्मीर की राजधानी मुजफ्फराबाद जाएंगे, जहां वह विधानसभा को संबोधित करेंगे।

पाकिस्तान के कई प्रमुख शहरों और पाकिस्तानी कब्जे वाले कश्मीर में कश्मीर एकजुटता रैलियां निकाली जाएंगी।

इस बड़े दिन से पहले पाकिस्तानी विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने रक्षा मंत्री परवेज खट्टक और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार मोईद यूसुफ के साथ नियंत्रण रेखा का दौरा किया और कश्मीरी निवासियों के साथ समर्थन और एकजुटता प्रदर्शित किया।

कुरैशी नियंत्रण रेखा पर चिरिकोट सेक्टर गए, जहां उन्हें सुरक्षा हालात और जारी संघर्ष के बारे में जानकारी दी गई।

कुरैशी ने कहा, “कश्मीर के लोगों ने भारत सरकार के पिछले साल के पांच अगस्त के कदम को खारिज कर दिया है।” उन्होंने आगे कहा कि 50 सालों में पहली बार संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने कश्मीर मुद्दे पर बैठकें आयोजित की हैं।

उन्होंने कहा, “इस्लामिक सहयोग संगठन (ओआईसी) की भूमिका सराहनीय है। जम्मू एवं कश्मीर पर ओआईसी संपर्क समूह ने भारत की अवैध कार्रवाइयों के खिलाफ अपनी आवाज उठाई है और इस मुद्दे पर पाकिस्तान के रुख का समर्थन किया है।”

कुरैशी ने कहा कि भारत कश्मीर मुद्दे पर अलग-थलग पड़ गया है, क्योंकि इसने हजारों कश्मीरी लोगों को एक साल से लॉकडाउन में डाल रखा है।

उन्होंने कहा, “भारत अलग-थलग पड़ गया है, ईरान ने भारत को अपने चाबाहार बंदरगाह से बाहर कर दिया है, नेपाल ने भी अपने भूभाग पर दावे किए हैं और लद्दाख में भारत के साथ जो हुआ, उसे दुनिया ने देखा है।”

सैन्य अधिकारियों ने कुरैशी के समक्ष ब्रीफिंग के दौरान कहा कि बुरहान वानी के मारे जाने के बाद 2016 से सीमा पार से संघर्षविराम उल्लंघनों में तेजी आई है।

एरिया कमांडर, मेजर जनरल आमेर अहसान नवाज ने कहा, “भारतीय संघर्षविराम उल्लंघनों में अबतक 115 नागरिक मारे गए हैं और 614 अन्य घायल हो चुके हैं।” (आईएएनएस)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

6,023FansLike
0FollowersFollow
162FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

रियाज़ नाइकू को ‘शिक्षक’ बताने वाले मीडिया संस्थानो के ‘आतंकी सोच’ का पूरा सच

कौन है रियाज़ नायकू? कश्मीर के आतंकवादी संगठन हिजबुल मुजाहिद्दीन का आतंकी कमांडर बुरहान वाणी 2016 में ...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

“कौन दिशा में लेके चला रे बटोहिया..” के सदाबहार गायक जसपाल सिंह की कहानी

“कौन दिशा में लेके चला रे बटोहिया” इस गाने को किसने नहीं सुना होगा। अगर आप 80’ के दशक से हैं...

हाल की टिप्पणी