Tuesday, October 20, 2020
Home मनोरंजन पंकज त्रिपाठी : मिजार्पुर से पहले सिनेमा ने मुझे पोस्टरों में कभी...

पंकज त्रिपाठी : मिजार्पुर से पहले सिनेमा ने मुझे पोस्टरों में कभी जगह नहीं दी

अभिनेता पंकज त्रिपाठी ने पिछले कुछ सालों में, हिंदी फिल्म उद्योग में अपनी अलग पहचान कायम की है। मिर्जापुर के अपने किरदार कालीन भैया को, उन्होंने अपने दिल के बेहद करीब बताया है।

प्रशंसित अभिनेता पंकज त्रिपाठी ने पिछले कुछ सालों में हिंदी फिल्म उद्योग में अपने काम से बड़ी संख्या में प्रशंसक बनाए हैं।

हालांकि अभिनेता का कहना है कि वेब सीरीज मिर्जापुर में उनके किरदार कालीन भैया उनके दिल के करीब हैं, क्योंकि इस भूमिका ने उन्हें लोकप्रिय बना दिया है।

पंकज से उनके दिल के सबसे करीब भूमिका के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने आईएएनएस को बताया, “सभी किरदार बहुत अच्छे हैं। लोगों ने वास्तव में उन्हें प्यार दिया, लेकिन अभिनेता के रूप में लोकप्रियता कालीन भैया ने मुझे दी, लोग मुझे कालीन भैया के नाम से जानते हैं। यह काम चरित्र ने किया है। इसने मुझे वास्तव में लोकप्रिय बना दिया है।”

यह पूछे जाने पर कि क्या वह सुरक्षित जवाब दे रहे हैं, इस पर पंकज ने इनकार किया। उन्होंने कहा, “यह कोई सुरक्षित उत्तर नहीं है। ऐसा पहली बार हुआ कि सीजन 1 (मिजार्पुर) के दौरान भारत में मेरे अपने होर्डिंग्स लगाए गए। इससे पहले किसी भी सिनेमा ने मेरे होर्डिंग्स नहीं लगाए और मैं एक अच्छा अभिनेता हूं। लोगों ने मुझे पसंद किया, लेकिन सिनेमा ने मुझे पोस्टरों में कभी जगह नहीं दी।”

यह भी पढ़ें – हॉरर फिल्म ‘तुम्बाड’ में ‘हस्तर’ किरदार का रहस्य

Pankaj Tripathi पंकज त्रिपाठी
अभिनेता पंकज त्रिपाठी। (Wikimedia Commons)

उनका मानना है कि यह ‘मिर्ज़ापुर’ था, जिसने उन्हें अब मिली सफलता को पाने में मदद की। उन्होंने कहा, “कालीन भैया और ‘मिजार्पुर’ के चरित्र ने मुझे यह स्थान दिया है। इसलिए, यह सही जवाब है।”

सीजन एक का अंत दो महत्वपूर्ण पात्रों, बबलू पंडित (विक्रांत मैसी) और स्वीटी गुप्ता (श्रिया पिलगांवकर) की मृत्यु के साथ हुआ और आगामी सीजन बदला लेने को लेकर है। गुड्डू पंडित (अली फजल) और गोलू (श्वेता त्रिपाठी) कालीन भैया और उनके बेटे मुन्ना त्रिपाठी (दिव्येंदु शर्मा) के साथ तकरार करते नजर आएंगे।

उत्तर प्रदेश के क्षेत्र पर आधारित कहानी के दूसरे सीजन में रसिका दुग्गल, विजय वर्मा, राजेश तैलंग, शीबा चड्ढा, प्रियांशु पेंदुली और ईशा तलवार भी हैं।

‘मिजार्पुर 2’ 23 अक्टूबर से एमेजॉन प्राइम वीडियो पर उपलब्ध होगा। (आईएएनएस)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

6,018FansLike
0FollowersFollow
167FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

रियाज़ नाइकू को ‘शिक्षक’ बताने वाले मीडिया संस्थानो के ‘आतंकी सोच’ का पूरा सच

कौन है रियाज़ नायकू? कश्मीर के आतंकवादी संगठन हिजबुल मुजाहिद्दीन का आतंकी कमांडर बुरहान वाणी 2016 में ...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

“कौन दिशा में लेके चला रे बटोहिया..” के सदाबहार गायक जसपाल सिंह की कहानी

“कौन दिशा में लेके चला रे बटोहिया” इस गाने को किसने नहीं सुना होगा। अगर आप 80’ के दशक से हैं...

हाल की टिप्पणी