Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
स्वास्थ्य

पतंजलि का दावा कि उसके कोरोना किट में है वायरस मारने की क्षमता

दावा किया गया है कि यह कोरोनावायरस के खिलाफ कोरोनिल नामक दवा को लेकर पहला सबूत-आधारित आयुर्वेदिक चिकित्सा शोध पत्र है।

योग गुरु और पतंजलि के सह-संस्थापक बाबा रामदेव ने शुक्रवार को पतंजलि अनुसंधान संस्थान द्वारा तैयार एक वैज्ञानिक शोध पत्र (रिसर्च पेपर) जारी किया।


दावा किया गया है कि यह कोरोनावायरस के खिलाफ कोरोनिल नामक दवा को लेकर पहला सबूत-आधारित आयुर्वेदिक चिकित्सा शोध पत्र है। पतंजलि द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में केंद्रीय मंत्री हर्षवर्धन और नितिन गडकरी की मौजूदगी में इस पत्र को लॉन्च किया गया।

पतंजलि ने एक बयान में कहा, “कोरोनिल को डब्ल्यूएचओ सर्टिफिकेशन स्कीम के अनुसार, सेंट्रल ड्रग्स स्टैंडर्ड कंट्रोल ऑर्गेनाइजेशन के आयुष सेक्शन से सर्टिफिकेट ऑफ फार्मास्युटिकल प्रोडक्ट (सीओपीपी) का सर्टिफिकेट मिला है।”

सीओपीपी के तहत, कोरोनिल को अब 158 देशों में निर्यात किया जा सकता है।

कंपनी ने कहा कि कोविड-19 वैक्सीन बनाने के वैश्विक संघर्ष के बीच, पतंजलि रिसर्च इंस्टीट्यूट ने भारत की प्राचीन चिकित्सा प्रणाली आयुर्वेद के माध्यम से पहली साक्ष्य आधारित कोरोना दवा लाने का काम पूरा किया है।

इस पर टिप्पणी करते हुए रामदेव ने कहा कि प्राकृतिक चिकित्सा के आधार पर सस्ती चिकित्सा प्रदान करते हुए दवा मानवता की मदद करेगी। उन्होंने कहा, “प्रस्तुत आंकड़ों के आधार पर, आयुष मंत्रालय ने कोविड-19 में उपायों के समर्थन के लिए कोरोनिल टैबलेट को एक दवा के रूप में मान्यता दी है।”

बता दें कि पतंजलि ने पहली बार जून 2020 में कोरोनावायरस की एक दवा कोरोनिल बनाई थी। लेकिन बाद में उस पर सवाल उठे थे कि कंपनी ने इस दवाई को बिना क्लिनिकल ट्रायल के बाजार में बेचने के लिए उतार दिया है। जबकि पतंजलि ने दावा किया कि उन्होंने इसका क्लीनिकल ट्रायल किया है और कोरोना संक्रमित लोगों पर इसका सकारात्मक असर हुआ है। बाबा रामदेव के दावे के बाद भारत सरकार के आयुष मंत्रालय ने इस पर संज्ञान लिया और कहा कि मंत्रालय को इस संबंध में कोई जानकारी नहीं है। मंत्रालय ने इस दवा के प्रचार-प्रसार पर भी रोक लगा दी थी।

कोरोनिल पर  वैज्ञानिक शोध पत्र (रिसर्च पेपर) जारी किया गया।(आईएएनएस)

रामदेव ने कहा कि शोध का उद्देश्य विश्व स्तर पर प्राचीन भारतीय चिकित्सा विज्ञान को वैज्ञानिक प्रमाण प्रदान करके और स्वास्थ्य सेवा में आत्मानिर्भर भारत के ²ष्टिकोण को पूरा करना है।

इस बीच, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर आयुर्वेद के महत्व को उजागर करने के लिए आधुनिक वैज्ञानिक उपकरणों के उपयोग की आवश्यकता पर जोर दिया। उन्होंने कहा, “आचार्यजी और स्वामीजी के नेतृत्व में पतंजलि आयुर्वेद को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलाने में मदद करेगी।”

यह भी पढ़ें: महज 600 रुपये में होगा अब कोरोना का इलाज, स्वामी रामदेव ने उतारी ‘कोरोनिल’- दिव्य कोरोना किट

मंत्री ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक ट्रेडोस अदनोम के बीच हुई बातचीत का भी हवाला दिया। उन्होंने कहा, “वैश्विक निकाय क्षेत्र में भारत के काम से प्रभावित हैं और भारत में आयुर्वेद के लिए एक वैश्विक केंद्र स्थापित करना चाहता है।”

मंत्री ने यह भी कहा कि महामारी के बाद देश में आयुर्वेद का आर्थिक योगदान काफी बढ़ गया है।

स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने कहा कि भारत में आयुर्वेद की 30 हजार करोड़ रुपये की अर्थव्यवस्था है। आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार, कोरोना महामारी से पहले इसमें 15-20 प्रतिशत की वृद्धि देखी गई थी, जो महामारी के बाद बढ़कर 50 से 90 प्रतिशत हो गई है। यह एक संकेत है कि लोगों ने इसे स्वीकार कर लिया है।(आईएएनएस)

Popular

औषधि शिक्षा और अनुसंधान(Pharmaceutical Education and Research) के छह संस्थानों को राष्ट्रीय महत्व के संस्थान घोषित करने और फार्मास्युटिकल शिक्षा और अनुसंधान के विकास को सुनिश्चित करने के लिए एक परिषद का प्रावधान करने वाला एक विधेयक सोमवार को लोकसभा में पारित हो गया।

स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ फार्मास्युटिकल एजुकेशन एंड रिसर्च (संशोधन) विधेयक, 2021(The National Institute of Pharmaceutical Education and Research (Amendment) Bill, 2021) पर बहस का जवाब दिया। बिल नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ फार्मास्युटिकल एजुकेशन एंड रिसर्च एक्ट, 1998 में संशोधन करना चाहता है, जिसके तहत पंजाब के मोहाली में एनआईपीईआर को राष्ट्रीय महत्व का संस्थान घोषित किया गया था।

Keep Reading Show less

एक अध्ययन में पता चला की सर्दी-ज़ुखाम वाले व्यक्तियों को भी कोरोना हो सकता है। (Pixabay)

हाल ही में हुए एक अध्ययन(Study) के बाद पता चला है की पूर्ण टीकाकरण करा चुके व्यक्तियों में से एक तिहाई लोग जिन्हे सर्दी-ज़ुखाम जैसे लक्षण थे , वे सच कोविड-19(Covid-19) से संक्रमित हो सकते हैं। एक समाचार वेबसाइट ने बताया की किंग्स कॉलेज लंदन के प्रोफेसर टीम स्पेक्टर के मुताबिक, सर्दी, गले में खराश या नाक बहने जैसे लक्षण वाले व्यक्तियों को खुद को तब तक आइसोलेट कर लेना चाहिए जब तक उनके अंदर नेगेटिव लक्षण न दिखने लगें।

उन्होंने बताया की लोगों को नाक की गंध चले जाना, खांसी और जुखाम का इंतज़ार नहीं करना चाहिए। स्पेक्टर ने आगे कहा की हमने अध्ययन के बाद पाया है की 4 लोग जिन्हे सर्दी-जुखाम के लक्षण थे उनमे से 1 व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव पाया गया।

Keep Reading Show less

आज के समय में लाल टोपी का मतलब सिर्फ लाल बत्ती है-नरेंद्र मोदी। (Wikimedia Commons)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी(Narendra Modi) मंगलवार को गोरखपुर पहुंचे। मौका था 10 हजार करोड़ की परियोजनाओं का उद्घाटन करने का, लेकिन प्रधानमंत्री ने मंच का इस्तेमाल विरोधियों पर तंज कसने के लिए किया। समाजवादी पार्टी(Samaajvadi Party) का नाम लिए बिना मोदी ने कहा, 'आज पूरा यूपी अच्छी तरह जानता है कि लाल टोपी(Red Cap) का मतलब लाल बत्ती है। उन्हें आपके कष्टों से कोई लेना-देना नहीं है।'

प्रधानमंत्री ने कहा, 'लाल टोपी वाले लोगों को घोटालों के लिए, अपना खजाना भरने के लिए, अवैध कब्जे के लिए, माफिया को खुली लगाम देने के लिए सत्ता की जरूरत है। लाल टोपी वालों को सरकार बनानी है, आतंकवादियों पर दया करनी है, आतंकवादियों को जेल से छुड़ाना है। याद रहे, यूपी के लिए रेड कैप यानी खतरे की घंटी वाला रेड अलर्ट है.'

Keep reading... Show less