Saturday, April 17, 2021
Home देश पीडीपी ने घाटी में हुर्रियत को वित्तीय मदद दी

पीडीपी ने घाटी में हुर्रियत को वित्तीय मदद दी

पीडीपी, जो भाजपा के साथ गठबंधन में तत्कालीन राज्य जम्मू-कश्मीर में सत्ता में थी, घाटी में अलगाववादी गतिविधियों को बनाए रखने के लिए हुर्रियत कॉन्फ्रेंस में पैसा लगा रही थी।

By:आनंद सिंह

पीपल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी), जो भाजपा के साथ गठबंधन में तत्कालीन राज्य जम्मू-कश्मीर में सत्ता में थी, घाटी में अलगाववादी गतिविधियों को बनाए रखने के लिए हुर्रियत कॉन्फ्रेंस में पैसा लगा रही थी। राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) के निलंबित डीएसपी दविंदर सिंह और हिजबुल मुजाहिदीन के आतंकवादी नवीद बाबू से संबंधित मामले की जांच में यह बात सामने आई है।

पीडीपी ने 1 मार्च, 2015 को भाजपा के साथ गठबंधन करके जम्मू-कश्मीर में सरकार बनाई थी। मुफ्ती मोहम्मद सईद मुख्यमंत्री बने थे। 7 जनवरी, 2016 को सईद के निधन हो जाने के बाद, उनकी बेटी महबूबा मुफ्ती ने 4 अप्रैल, 2016 को मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली। हालांकि, भाजपा 19 जून, 2018 को गठबंधन से अलग हो गई। 22 मार्च को एनआईए ने गिरफ्तार किए गए पीडीपी युवा विंग के प्रमुख वहीद-उर-रहमान पार्रा सहित तीन लोगों के खिलाफ एक पूरक आरोप पत्र दायर किया था, जिसमें दो गनर- शाहीन अहमद लोन और तफजुल हुसैन परिमू शामिल थे। इन पर कथित रूप से हिजबुल मुजाहिदीन के लिए एक फाइनेंसर के रूप में काम करने का आरोप है।

एनआईए ने अपनी चार्जशीट में, जिसे आईएएनएस द्वारा देखा गया है, ने दावा किया, “पार्रा ने ऑल पार्टी हुर्रियत कॉन्फ्रेंस (एपीएचसी) के अलगाववादी नेता अल्ताफ अहमद शाह उर्फ अल्ताफ फंटूश, को 5 करोड़ रुपये दिए, जिसका नाम टेरर-फंडिंग मामले में एनआईए की चार्जशीट में था। इसका मकसद हिजबुल मुजाहिदीन के आतंकवादी बुरहान वानी के मारे जाने के बाद में अशांति को बनाए रखना था।”

Huriyats in Kashmir terror funding
Caption

हुर्रियत नेता सैयद अली शाह गिलानी का दामाद अल्ताफ अहमद शाह वर्तमान में जेल में टेरर फंडिंग के मामले में तिहाड़ जेल में बंद है। चार्जशीट में, एनआईए ने कहा, “5 करोड़ रुपये की राशि पार्रा ने पीडीपी की ओर से हुर्रियत कॉन्फ्रेंस को अलगाववादी गतिविधियों को बनाए रखने के लिए दी थी।”

आरोप पत्र में यह भी दावा किया गया है कि अल्ताफ अहमद शाह, पार्रा का करीबी सहयोगी था और सुरक्षाबलों द्वारा बुरहान वानी को मारे जाने के बाद घाटी में उथल-पुथल के दौरान पार्रा के सात लगातार संपर्क में था। पार्रा को पिछले साल अक्टूबर में एनआईए ने गिरफ्तार किया था। उन्होंने हाल ही में जम्मू-कश्मीर में जिला विकास परिषद के चुनावों में जीत हासिल की थी।

यह भी पढ़ें: Antilia Case: वाजे मुंबई के लग्जरी होटल से कैसे चलाता था वसूली रैकेट

अधिकारी ने कहा कि पार्रा टेरर हार्डवेयर की खरीद के लिए हिजबुल मुजाहिदीन के आतंकवादियों के लिए धन जुटाने और ट्रांसफर करने के लिए साजिश का हिस्सा था और जम्मू-कश्मीर में राजनीतिक-अलगाववादी-आतंकवादी सांठगांठ को बनाए रखने में भी एक महत्वपूर्ण कड़ी था। दक्षिणी कश्मीर में पीडीपी के प्रभाव को बढ़ाने में विशेष रूप से उग्रवाद प्रभावित पुलवामा जिले में पार्रा का योगदान था।

एनआईए ने यह भी आरोप लगाया है कि हिजबुल मुजाहिदीन के लिए धन जुटाने के लिए आरोपी इरफान शफी मीर, दविंदर सिंह और सैयद नवीद मुश्ताक के साथ पार्रा ने कश्मीर घाटी में आतंकवादी गतिविधियों को बनाए रखने के लिए हथियारों और गोला-बारूद की खरीद को लेकर धन जुटाने के लिए साजिश रची थी।(आईएएनएस-SHM)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,646FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

हाल की टिप्पणी