Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
थोड़ा हट के

दिल्ली के छात्रों की मदद के लिए आगे आए लोग, छोटे बच्चों ने तोड़ी गुल्लक

ऐसे छात्र जिनके माता-पिता बोर्ड परीक्षाओं की 24 सौ रुपये परीक्षा शुल्क (एग्जाम फी) भरने में सक्षम नहीं है, उनके लिए क्राउड फंडिंग की जा रही है।

ऑल इंडिया पेरेंट्स एसोसिएशन बच्चों की मदद के लिए आगे आया है। (IANS , Twitter)

दिल्ली के छात्रों की मदद के लिए अब अन्य छात्र, अभिभावक एवं अभिभावक संघ आगे आने लगे हैं। ऐसे छात्र जिनके माता-पिता बोर्ड परीक्षाओं की 24 सौ रुपये परीक्षा शुल्क (एग्जाम फी) भरने में सक्षम नहीं है, उनके लिए क्राउड फंडिंग की जा रही है। ऑल इंडिया पेरेंट्स एसोसिएशन की तरफ से ऐसी ही एक पहल की गई है, जिसके तहत करीब 4.50 लाख रुपये एकत्र किए गए हैं। वहीं दूसरी ओर तीसरी, चौथी, पांचवीं में पढ़ने वाले कई छोटे बच्चों ने अपनी गुल्लक में जमा पैसे, बोर्ड परीक्षा में शामिल होने वाले छात्रों को भेंट कर दिए हैं।

तीसरी कक्षा में पढ़ने वाले आठ वर्षीय अधिराज ने अपनी गुल्लक के पूरे पैसे इस क्राउड फंडिंग में दे दिए। अधिराज की शुरुआत के बाद कई और छोटे बड़े बच्चे इस अभियान में शामिल हुए हैं, जिससे अभी तक कई छात्रों की एग्जाम फीस भरी जा चुकी है।


दिल्ली की केजरीवाल सरकार ने ऐलान किया था कि वह 12वीं के छात्रों की सीबीएसई बोर्ड एग्जाम का रजिस्ट्रेशन फीस भरेगी। बीते वर्ष सरकार ने ऐसा किया भी, लेकिन इस साल कोरोना के कारण आई आर्थिक तंगी के बाद सरकार ने इससे हाथ पीछे खींच लिए।

दक्षिणी दिल्ली के बेगमपुर नवजीवन सर्वोदय कन्या विद्यालय की 90 छात्राएं इस बार 12वीं के परिवार की आर्थिक तंगी की समस्या अपनी एक टीचर मीनाक्षी सिंह के सामने रखी। मीनाक्षी ने अपने घर पर इसका जिक्र किया।

मीनाक्षी के बेटे अधिराज ने बिना किसी देरी अपनी छोटी सी गुल्लक अपनी मां को दे दी और कहा कि इन पैसों से फीस भर दो।

यह भी पढ़ें – बिहार की लड़कियों ने रोजाना 1 रुपया दान कर खोला सैनिटरी पैड बैंक

अधिराज की गुल्लक में करीब साढ़े 12 हजार रुपये थे। अधिराज द्वारा की गई इस पहल के बाद कई और लोग उनके साथ जुड़े। इस अभियान के तहत अभी तक 1.50 लाख रुपये जुटाए जा चुके हैं।

वहीं ऑल इंडिया पेरेंट्स एसोसिएशन के अध्यक्ष अशोक अग्रवाल ने कहा, “काफी संख्या में उन्हें ऐसे बच्चों की जानकारी मिली जिनके माता-पिता की नौकरी छूट गई है और वह फीस भरने में असमर्थ हैं।”

ऐसे में एसोसिएशन ने छात्रों के लिए क्राउड फंडिंग शुरू की है। अशोक अग्रवाल ने कहा, “अच्छी बात यह रही कि बड़ी संख्या में लोग मदद के लिए आ रहे हैं। मोती नगर स्कूल के प्रिंसिपल ने भी हमारी इस पहल का स्वागत किया है। 10वीं और 12वीं के लगभग 190 छात्रों की फीस अभी तक जमा की जा चुकी है। नानकपुरा के सर्वोदय सह शिक्षा उच्चतर माध्यमिक विद्यालय में दसवीं और बारहवीं के छात्रों की मदद के लिए भी लोग सामने आ रहे हैं।” (आईएएनएस)

Popular

माइक्रोसॉफ्ट (Wikimedia Commons)

माइक्रोसॉफ्ट इंडिया(Microsoft India) ने आज छोटे और मध्यम व्यवसायों (Small And Medium Businesses) को सही डिजिटल कौशल के साथ आगे रहने में मदद करने के लिए एक नई पहल शुरू करने की घोषणा की।

माइक्रोसॉफ्ट(Microsoft) के अनुसार, एसएमबी भारत के सकल घरेलू उत्पाद में ~ 30% का योगदान करते हैं और 114 मिलियन से अधिक लोगों को रोजगार प्रदान करते हैं। हालांकि, महामारी के जवाब में एसएमबी के लिए कर्मचारी कौशल की कमी सबसे बड़ी चुनौतियों में से एक रही है।

Keep Reading Show less

भारत सरकार (Wikimedia Commons)

भारत सरकार(Government Of India) ने ट्विटर(Twitter) से जनवरी-जून 2021 की अवधि में 2,200 उपयोगकर्ता खातों पर डेटा मांगा और माइक्रो-ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म(Micro Blogging Platform) ने केवल 2 प्रतिशत अनुरोधों का अनुपालन किया।

समीक्षाधीन अवधि में भारत से ट्विटर खातों को हटाने की लगभग 5,000 कानूनी मांगें भी थीं, कंपनी की नवीनतम पारदर्शिता रिपोर्ट से पता चला है।

Keep Reading Show less

माइक्रोसॉफ्ट टीम्स ने किया 270 मिलियन एक्टिव यूज़र्स को पार। (Wikimedia Commons)

माइक्रोसॉफ्ट टीम्स(Microsoft Teams) संचार और सहयोग मंच दिसंबर तिमाही में 270 मिलियन मासिक सक्रिय उपयोगकर्ताओं में शीर्ष पर रहा, उपयोगकर्ताओं को जोड़ना जारी रखा लेकिन महामारी के शुरुआती महीनों की तुलना में बहुत धीमी गति से।

माइक्रोसॉफ्ट के सीईओ सत्या नडेला(Satya Nadella) ने कंपनी की तिमाही आय के संयोजन के साथ मंगलवार दोपहर नवीनतम संख्या का खुलासा किया। यह संख्या छह महीने पहले, जुलाई 2021 में माइक्रोसॉफ्ट द्वारा रिपोर्ट किए गए 250 मिलियन से 20 मिलियन मासिक सक्रिय उपयोगकर्ताओं की वृद्धि का प्रतिनिधित्व करती है।

Keep reading... Show less