Saturday, May 8, 2021
Home देश सुरक्षा दुर्गम क्षेत्रों में सीएपीएफ तक संचार सुविधा पहुंचाने के लिए होगा स्थायी...

दुर्गम क्षेत्रों में सीएपीएफ तक संचार सुविधा पहुंचाने के लिए होगा स्थायी समाधान

दूरसंचार सलाहकार इंडिया लिमिटेड (टीसीआईएल) द्वारा डिजिटल कम्युनिकेशन कमीशन के अनुमोदन के अनुसार परियोजना को कार्यान्वित किया जा रहा है।

By: रजनीश सिंह

देश के दुर्गम एवं दूर-दराज इलाकों में तैनात केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल (सीएपीएफ) के जवानों के लिए अपने परिवार के सदस्यों के साथ संचार स्थापित करना अब दुर्लभ घटना नहीं होगी। केंद्र सरकार ने भारत ब्रॉडबैंड नेटवर्क लिमिटेड (बीबीएनएल) को समस्या का स्थायी समाधान खोजने का निर्देश दिया है।

इस दिशा में काम पहले से ही चल रहा है और बीबीएनएल को डिजिटल सैटेलाइट फोन टर्मिनल (डीएसपीटी) की रिप्रोविजनिंग (पुनसर्ंरचना) की गई है। दूरसंचार सलाहकार इंडिया लिमिटेड (टीसीआईएल) द्वारा डिजिटल कम्युनिकेशन कमीशन के अनुमोदन के अनुसार परियोजना को कार्यान्वित किया जा रहा है। वहीं दूरसंचार विभाग (डीओटी) ने हाल ही में गृह मंत्रालय (एमएचए) के साथ सूचना साझा की है।

डीओटी के तहत यूनिवर्सल सर्विस ऑब्लिगेशन फंड (यूएसओएफ) नियमित आधार पर डीएसपीटी की पुनसर्ंरचना की निगरानी कर रहा है।

आईएएनएस द्वारा एक्सेस किए गए दस्तावेज से पता चलता है कि कार्यान्वयन एजेंसी सामग्री के परिवहन और स्थापना (इंस्टालेशन) टीम के मूवमेंट में कोविड-19 स्थिति के कारण बहुत कठिनाइयों का सामना कर रही है, लेकिन पिछले महीनों की तुलना में स्थिति बेहतर होने के साथ अब काम बेहतर हो गया है।

एमएचए और एमओडी एजेंसियों के साथ निकट समन्वय में बीबीएनएल और टीसीआईएल हालांकि सभी डीएसपीटी साइटों के संचालन के लिए अपने स्तर पर सर्वश्रेष्ठ प्रयास कर रहे हैं।

एमएचए द्वारा डीएसपीटी को सीएपीएफ को देश के दूर-दराज या दुर्गम क्षेत्रों से अपने परिवार के सदस्यों के साथ संवाद करने में सक्षम बनाने का काम सौंपा गया है। इन डीएसपीटी साइटों को यूएसओएफ से सब्सिडी प्रदान की जाती है।

13 मई, 2019 से सैटेलाइट बंद के कारण डीएसपीटी सेवाओं के पूरी तरह से काम करना बंद कर देने के बाद, दूर-दराज के क्षेत्रों में बेहतर संचार प्रणाली के लिए सरकार का यह कदम काफी महत्वपूर्ण और प्रभावी साबित होगा।

जवानों और उनके परिजनों के बीच संचार की समस्या को समाप्त करने के लिए स्थायी समाधान खोजने पर जोर दिया गया है और इसके लिए 21 जनवरी, 2020 को डीओटी में एक बैठक बुलाई गई थी, जिसमें एमएचए, सीमा सड़क संगठन (बीआरओ), रक्षा मंत्रालय, सेना मुख्यालय, समन्वय पुलिस वायरलेस निदेशालय (डीसीपीडब्ल्यू) और बीबीएनएल के अधिकारियों ने भाग लिया था।

भारत का दुर्गम क्षेत्र
दुर्गम इलाकों में भी संचार सुविधा होगी बेहतर।(Pixabay)

इस बैठक में तीन सूत्री फैसले लिए गए और सीएपीएफ के लिए संचार की स्थायी सुविधा प्राप्त करने को लेकर मंथन हुआ।

10 लाख से अधिक जवानों वाले सीएपीएफ में सात सुरक्षा बल आते हैं, जिसमें असम राइफल्स (एआर), सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ), केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ), केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ), भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीपीपी), राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (एनएसजी) और सशस्त्र सीमा बल (एसएसबी) शामिल हैं।

ये बल चीन, पाकिस्तान, बांग्लादेश, नेपाल और भूटान जैसे पड़ोसी देशों के साथ लगती सीमाओं पर आंतरिक सुरक्षा और सीमाओं पर सतर्कता सुनिश्चित करने के लिए एमएचए के तहत कार्य करते हैं।

यह भी पढ़ें: बांग्लादेश सेना के अधिकारियों ने भारतीय सेना से व्हाइट-वाटर राफ्टिंग सीखी

कई सीएपीएफ कर्मियों को दुर्गम स्थानों, दूर-दराज के पहाड़ी और बर्फीले इलाकों में तैनात किया जाता है, जहां से वे तीन महीनों से भी अधिक समय तक अपने घर पर नहीं जा पाते हैं।

उचित मोबाइल कनेक्टिविटी की कमी के कारण, वे कई-कई दिनों तक अपने परिवार के सदस्यों से संपर्क तक नहीं कर पाते हैं।

सरकार के कदम का उद्देश्य सीएपीएफ कर्मियों की मदद के लिए संचार मुद्दों को स्थायी रूप से सुधारना है।(आईएएनएस)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,640FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी