Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

पीएमईजीपी के तहत उत्पादन गतिविधियों से फल-फूल रहा कारगिल और लेह

कारगिल और लेह का शांत एवं अनूठा हिमालयी इलाका सरकार के प्रमुख प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम (पीएमईजीपी) ( PMEGP ) के तहत बनाए गए स्व-टिकाऊ रोजगार के परिणामस्वरूप उत्पादन गतिविधियों से फल-फूल रहा है।

By : शशि भूषण

कारगिल और लेह का शांत एवं अनूठा हिमालयी इलाका सरकार के प्रमुख प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम ( PMEGP )  (पीएमईजीपी) के तहत बनाए गए स्व-टिकाऊ रोजगार के परिणामस्वरूप उत्पादन गतिविधियों से फल-फूल रहा है।


2017-18 के बाद से लगभग 1000 विभिन्न छोटी और मध्यम विनिर्माण इकाइयों ने स्थानीय युवाओं के लिए 8200 से अधिक रोजगार के अवसर पैदा किए हैं।

2017-18 से 2020 तक पीएमईजीपी योजना के लिए नोडल कार्यान्वयन एजेंसी खादी और ग्रामोद्योग आयोग (केवीआईसी) ने कारगिल में 802 परियोजनाएं और लेह क्षेत्र में 191 परियोजनाएं स्थापित करने के साथ ही कारगिल में 6781 नौकरियां और लेह में 1421 नौकरियां पैदा की हैं। केवीआईसी ने इन परियोजनाओं के लिए कारगिल में मार्जिन मनी के रूप में 26.67 करोड़ रुपये और इस अवधि के दौरान लेह क्षेत्र में 5.68 करोड़ रुपये संवितरित किए।

सीमेंट ब्लॉक से लेकर लोहे और स्टील के सामान, ऑटोमोबाइल रिपेयर वर्कशॉप, टेलरिंग यूनिट्स, वुडन फर्नीचर मैन्युफैक्च रिंग यूनिट्स, वुड कार्विग यूनिट्स, साइबर कैफे, ब्यूटी पार्लर और गोल्ड ज्वेलरी बनाने जैसी कुछ पहलें हैं, जो पीएमईजीपी के तहत समर्थित हैं। इनके जरिए स्थानीय लोगों को सम्मानजनक आजीविका कमाने का मौका मिला है।

यहां तक कि 2020-21 के पहले छह महीनों के दौरान, जब कोविड-19 महामारी के कारण लॉकडाउन लगाया गया था, केवीआईसी ने स्थानीय लोगों को कारगिल में 26 और विभिन्न क्षेत्रों में लेह में 24 नई परियोजनाएं स्थापित करने में मदद की, जिससे दोनों क्षेत्रों में 350 नौकरियां पैदा हुईं।

केवीआईसी के चेयरमैन विनय कुमार सक्सेना ने कारगिल और लेह में रोजगार के इन अवसरों के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पर्यावरणीय दृष्टि से चुनौतीपूर्ण लेह-लद्दाख क्षेत्र के सर्वांगीण विकास के लिए जिम्मेदार बताया।
 

स्थानीय महिलाओं को नियमित रूप से स्वरोजगार अपनाने के लिए प्रेरित किया है । ( आईएएनएस ) 

 

सक्सेना ने कहा, “कारगिल और लेह ने विभिन्न विनिर्माण गतिविधियों को बनाए रखने की अपार क्षमता दिखाई है। लेह और कारगिल देश के बाकी हिस्सों से लगभग छह महीने तक कट जाते हैं। हालांकि, ये उत्पादन इकाइयां पूरे वर्ष इन क्षेत्रों में वस्तुओं की स्थानीय उपलब्धता सुनिश्चित करेंगी।” 

यह भी पढ़ें : रविशंकर प्रसाद ने पूछा- जब एक मंत्री का टारगेट 100 करोड़ है तो बाकियों का क्या होगा ?


कारगिल और लेह में लाभार्थियों ने खुशी व्यक्त करते हुए कहा कि उन्हें उत्पादन इकाइयों के शुरू होने के बाद नौकरियों की तलाश में दूसरे राज्यों में पलायन नहीं करना पड़ा। इससे न केवल उनके लिए स्वरोजगार पैदा हुआ, बल्कि इस क्षेत्र के कई अन्य बेरोजगार युवाओं के लिए रोजगार के अवसर पैदा हुए।

कारगिल के मिनजी गांव के रहने वाले मोहम्मद बाकिर, जिन्होंने 10 लाख रुपये के शुरुआती ऋण के साथ सीमेंट ब्लॉक उत्पादन इकाई शुरू की थी, अब 52 लाख रुपये का सालाना कारोबार कर रहे हैं। उन्होंने अपनी निर्माण इकाई में आठ व्यक्तियों को नियुक्त किया है।

इसी तरह, लोहा और इस्पात की वस्तुओं के उत्पादन में लगे इस्माइल नासिरी ने कारगिल के पोयेन गांव में 25 लाख के साथ अपनी इकाई शुरू की। उन्होंने अब 10 व्यक्तियों को नियुक्त किया है और 76 लाख रुपये का सालाना कारोबार कर रहे हैं।

इसने स्थानीय महिलाओं को नियमित रूप से स्वरोजगार अपनाने के लिए प्रेरित किया है, जो बाहर जाने और स्वतंत्र रूप से काम करने को लेकर अनिच्छुक थीं। केवीआईसी द्वारा समर्थित कई महिला उद्यमी सफलतापूर्वक इन जिलों में कटाई, सिलाई इकाइयां और ब्यूटी पार्लर संचालित कर रही हैं और मुनाफा कमा रही हैं।
(AK आईएएनएस ) 
 

Popular

माइक्रोसॉफ्ट गेमिंग के सीईओ फिल स्पेंसर ने एक ट्वीट में कहा कि सोनी प्लेटफॉर्म पर सीओडी का भविष्य है। ( Pixabay )

माइक्रोसॉफ्ट ने आखिरकार शुक्रवार को पुष्टि की कि वह लोकप्रिय गेम कॉल ऑफ ड्यूटी (सीओडी) को सोनी प्लेस्टेशन पर बने रहने की अनुमति देगा, क्योंकि अमेरिकी टेक दिग्गज ने सीओडी निर्माता एक्टिविजन ब्लिजार्ड को 69 बिलियन डॉलर में खरीद लिया था। माइक्रोसॉफ्ट गेमिंग के सीईओ फिल स्पेंसर ने एक ट्वीट में कहा कि सोनी प्लेटफॉर्म पर सीओडी का भविष्य है।

स्पेंसर ने कहा, "सोनी में नेताओं के साथ इस सप्ताह अच्छी बातचीत हुई। मैंने एक्टिविजन ब्लिजार्ड के अधिग्रहण पर सभी मौजूदा समझौतों का सम्मान करने और सोनी प्लेस्टेशन पर कॉल ऑफ ड्यूटी रखने की हमारी इच्छा की पुष्टि की।" उन्होंने कहा, "सोनी हमारे उद्योग का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है और हम अपने रिश्ते को महत्व देते हैं।"
ऐसी चिंताएं थीं कि सीओडी माइक्रोसॉफ्ट एक्सबॉक्स एक्सक्लूसिव फ्रैंचाइजी बन सकता है।

Microsoft, game, technology, soni PlayStation, \u092e\u093e\u0907\u0915\u094d\u0930\u094b\u0938\u0949\u092b\u094d\u091f, \u0938\u094b\u0928\u0940, माइक्रोसॉफ्ट एक्सबॉक्स और सोनी प्लेस्टेशन गेमिंग कंसोल में बेहद लोकप्रिय है। ( Wikimedia Commons )

Keep Reading Show less

उत्तर प्रदेश में ठाकुरों ने योगी आदित्यनाथ के भाजपा सरकार की बागडोर संभालने के साथ जाति के गौरव का अनुभव किया है। ( wikimedia Commons )

लगभग तीन दशकों के बाद, उत्तर प्रदेश में ठाकुरों ने योगी आदित्यनाथ के भाजपा सरकार की बागडोर संभालने के साथ जाति के गौरव का अनुभव किया है। योगी आदित्यनाथ गोरक्ष पीठ के प्रमुख भी हैं, जो एक क्षत्रिय पीठ है, इसका एक अतिरिक्त फायदा है। उत्तर प्रदेश में ठाकुर, एक शक्तिशाली समुदाय होने के बावजूद, जिसका शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में प्रभाव है, 1988 में वीर बहादुर सिंह के शासन के अंत के बाद सत्ता के गलियारों में अपनी आवाज खोजने में विफल रहे हैं। हालांकि राजनाथ सिंह 2000-2002 में मुख्यमंत्री थे, लेकिन उन्होंने अपने कार्यकाल में जानबूझकर जाति के कोण को कम करके आंका था। ठाकुर राज्य की आबादी का केवल 8 प्रतिशत हैं, लेकिन वे लगभग 50 प्रतिशत भूमि के मालिक हैं।

2017 में योगी आदित्यनाथ के मुख्यमंत्री बनने पर वह बहुत खुश थे। इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता है कि ठाकुर समुदाय के अधिकारियों को अच्छी पोस्टिंग दी गई है, भले ही ब्राह्मण ही मुख्य सचिव जैसे उच्च पदों पर बने हुए हैं। विपक्ष ने योगी सरकार पर ठाकुर के हितों की रक्षा करने और ठाकुर अपराधियों को बचाने का आरोप लगाया है, लेकिन मुख्यमंत्री इसके बारे में अडिग हैं। योगी आदित्यनाथ, जिन्हें अधिकांश ठाकुर सम्मानपूर्वक महाराज के रूप में संबोधित करते हैं, उनको ठाकुर अधिकारों के संरक्षक के रूप में देखा जाता है।

Keep Reading Show less

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी है दुनिया के सबसे लोकप्रिय नेता ( wikimedia Commons )

अमेरिकी डेटा इंटेलिजेंस फर्म ‘द मॉर्निंग कंसल्ट’ की एक सर्वे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अप्रूवल रेटिंग 71% दर्ज की गई है यह जानकारी 'द मॉर्निंग कंसल्ट' ने अपने ट्विटर हैंडल के जरिए साझा की है। 'द मॉर्निंग कंसल्ट' के सर्वे के मुताबिक अप्रूवल रेटिंग में प्रधानमंत्री मोदी ने अमरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन, ब्रिटिश प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन समेत दुनिया भर के 13 राष्ट्र प्रमुखों को पीछे छोड़ दिया है।

मॉर्निंग कंसल्ट’ दुनिया भर के टॉप लीडर्स की अप्रूवल रेटिंग ट्रैक करता है। मॉर्निंग कंसल्ट पॉलिटिकल इंटेलिजेंस वर्तमान में ऑस्ट्रेलिया, ब्राजील, कनाडा, फ्रांस, जर्मनी, भारत, इटली, जापान, मैक्सिको, दक्षिण कोरिया, स्पेन, यूनाइटेड किंगडम और संयुक्त राज्य अमेरिका में नेताओं की रेटिंग पर नज़र रख रही है। रेटिंग पेज को सभी 13 देशों के नवीनतम डेटा के साथ साप्ताहिक रूप से अपडेट किया जाता है।

Keep reading... Show less