Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

कारगर नहीं रही प्लाजमा थेरेपी,जल्द निरस्त करने की तैयारी

भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) ने मंगलवार को प्लाज्मा थेरेपी को लेकर एक बड़ा बयान जारी किया, जिसमें कहा गया है कि कोविड-19 के प्रबंधन के लिए राष्ट्रीय नैदानिक प्रोटोकॉल से प्लाज्मा थेरेपी को हटाया जा सकता है।

रिपोर्ट की मानें तो प्लाज्मा थेरेपी मरीजों को फायदा पहुंचाने में नाकामयाब रही है। (Wikimedia Commons)

भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) ने मंगलवार को प्लाज्मा थेरेपी को लेकर एक बड़ा बयान जारी किया है, जिसे कोविड-19 से पीड़ित गंभीर मरीजों के लिए जीवन रक्षक के रूप में माना जा रहा है। आईसीएमआर के महानिदेशक (डीजी) बलराम भार्गव ने कहा कि कोविड-19 के प्रबंधन के लिए राष्ट्रीय नैदानिक प्रोटोकॉल से प्लाज्मा थेरेपी को हटाया जा सकता है।

उन्होंने कहा, “हमने कोविड-19 प्रबंधन के लिए राष्ट्रीय कार्यबल के साथ चर्चा की है। हम संयुक्त निगरानी समिति के साथ आगे चर्चा कर रहे हैं और राष्ट्रीय दिशानिर्देशों से प्लाज्मा थेरेपी को हटाने पर विचार कर रहे हैं।”


भार्गव ने स्वास्थ्य मंत्रालय के साप्ताहिक प्रेस ब्रीफिंग के दौरान कहा, “हम कमोबेश किसी निर्णय की ओर पहुंच रहे हैं (राष्ट्रीय नैदानिक प्रोटोकॉल से प्लाज्मा थेरेपी को हटाने के लिए)।”

यह बयान दीक्षांत प्लाज्मा थेरेपी की प्रभावकारिता पर किए गए कई अध्ययनों के मद्देनजर आया है, जिसमें कहा गया है कि इसने गंभीर बीमारी की स्थिति में मृत्युदर को कम नहीं किया है।

यह भी पढ़ें- महज 600 रुपये में होगा अब कोरोना का इलाज, स्वामी रामदेव ने उतारी ‘कोरोनिल’- दिव्य कोरोना किट

सितंबर में सामने आए आईसीएमआर के अध्ययन से पता चला है कि प्लाज्मा थेरेपी कोविड-19 के गंभीर मरीजों की जान बचाने में विफल रही है।

भारत ने प्लाज्मा थेरेपी की प्रभावकारिता का अध्ययन करने के लिए प्लेसिड परीक्षण नाम से दुनिया का सबसे बड़ा याच्छिक नियंत्रित परीक्षण किया था। देशभर के 39 केंद्रों पर 22 अप्रैल से 14 जुलाई के बीच 464 रोगियों पर परीक्षण किया गया। अध्ययन सितंबर में एक मेडिकल जर्नल में प्रकाशित हुआ था। परीक्षण के परिणाम से पता चला कि प्लाज्मा थेरेपी मरीजों को फायदा पहुंचाने में नाकामयाब रही है। (आईएएनएस)

Popular

कड़ी मेहनत और द्राढ़ता से खिलाड़ियों को फॉर्म में वापस आने में मदद मिलती है- कोहली (file photo)


भारतीय कप्तान विराट कोहली(Virat Kohli) ने गुरुवार को वर्चुअल प्रेस कॉन्फ्रेंस(press conference) करी। इस प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कोहली ने कहा है कि न्यूजीलैंड के खिलाफ शुक्रवार से यहां वानखेड़े स्टेडियम(Wankhede Stadium) में शुरू हो रहे दूसरे टेस्ट के लिए टीम में बदलाव के बारे में कड़ा फैसला लेना बहुत मुश्किल नहीं होगा। वह खिलाड़ी और टीम की आवश्यकताओं के बारे में अच्छे से जानते हैं, जो मैच में निर्णय लेने में एक बड़ी भूमिका निभाएंगे।

विराट कोहली(Virat Kohli) ने कहा, "आपको स्पष्ट रूप से उस स्थिति को समझना होगा जहां टीम को रखा गया है। आपको यह समझना होगा कि खिलाड़ी कहां खड़ा है, आपको परिस्थितियों को समझना होगा और आपको अच्छी तरह से संवाद करना होगा। टीम में विश्वास करना मुश्किल नहीं है। टीम के खिलाड़ियों को एक-दूसरे पर भरोसा है और वे समझते हैं कि टीम की स्थिति और जरूरत के हिसाब से फैसला लिया जाएगा।"

Keep Reading Show less

चक्रवाती तूफान का सामना करने के लिए तैयार है एनडीआरफ (File Photo)

चक्रवाती तूफान के खतरे के मद्देनजर तैयारियों को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी(Narendra Modi) द्वारा बुलाई गई बैठक में शामिल होने के बाद आईएएनएस से बात करते हुए एनडीआरएफ(NDRF) डीजी अतुल करवाल(Atul Karwal) ने कहा कि अंडमान निकोबार(Andaman and Nicobar) की 2 टीमों को मिलाकर एनडीआरएफ ने कुल 62 टीमों को तैनात है।

NDRF, Atul Karwal राज्यों ने जितनी टीम की मांग की थी एनडीआरएफ ने उतनी टीमों की तैनाती कर दी है- एनडीआरएफ डीजी अतुल करवाल(Twitter)

Keep Reading Show less

अभिनेत्री पद्मिनी कोल्हापुरे (Padmini Kolhapure) [Wikimedia Commons]

'दिल बेकरार' से वापसी करने के बाद, अनुभवी अभिनेत्री पद्मिनी कोल्हापुरे (Padmini Kolhapure) ने प्रतिष्ठित गीत 'ये गलियां ये चौबारा' का नया वर्जन गाया है। इस गाने में बचपन से युवा लड़की की शादी के दिन तक आदर्श मां-बेटी के बंधन को दर्शाती एक एक प्यारी छवि देखने को मिलती है।

उसी पर बोलते हुए, पद्मिनी कहती हैं कि अपनी बेटी की शादी के समय एक मां जो भावनाओं से गुजरती है, उसे शब्दों में बयां नहीं किया जा सकता है। खुशी से लेकर दुख तक खालीपन की भावना तक, एक समय में बहुत सी चीजें महसूस होती हैं। 'ये गलियां ये चौबारा' उन सभी भावनाओं का प्रतिपादन है।

Keep reading... Show less