Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

निष्क्रियता और अतिसक्रियता से बचकर न्यायपूर्ण कार्य करे पुलिस : गृहमंत्री

गृहमंत्री अमित शाह ने कहा कि कोई भी संगठन तभी सफलतापूर्वक चलता है, जब उसको चलाने वाले व्यवस्था का हिस्सा बन इसको मजबूत करने के लिए काम करें।

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह (फाइल फोटो, PIB)

गृहमंत्री अमित शाह (Home Minister Amit Shah) ने पुलिस को निष्क्रियता और अतिसक्रियता से बचकर न्यायपूर्ण कार्य करने की सलाह दी है। वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये भारतीय पुलिस सेवा के 72वें बैच के परिवीक्षाधीन अधिकारियों से संवाद करते हुए गृहमंत्री ने कोरोना में जान गंवाने वाले पुलिस और स्वस्थ्यकर्मियों को श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए डॉक्टर दिवस और चार्टर्ड एकाउंटेंट्स दिवस (Chartered Accountants Day) की शुभकामनाएं दी। गृहमंत्री अमित शाह ने कहा कि किसी भी संगठन के लिए व्यवस्था बहुत जरूरी है।

उन्होंने कहा कि कोई भी संगठन तभी सफलतापूर्वक चलता है, जब उसको चलाने वाले व्यवस्था का हिस्सा बन इसको मजबूत करने के लिए काम करें। संगठन की व्यवस्था सुधारने से संगठन स्वत: ही सुधरता है और बेहतर परिणाम देता है। शाह ने यह भी कहा कि संगठन को व्यवस्था केंद्रित करना ही सफलता का मूल मंत्र है।


केंद्रीय गृहमंत्री कहा कि पुलिस पर निष्क्रियता (नो एक्शन) और अति सक्रियता (एक्सट्रीम एक्शन) के आरोप लगते हैं। (Wikimedia Commons)

यह भी पढ़ें :- भारत को पुरानी सोच छोड़ प्रक्रियाओं को लचीला बनाने की जरूरत : सेना प्रमुख

गृहमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का यह विजन है कि व्यवस्था तभी बदली जा सकती है जब उसकी मशीनरी को आज की आवश्यकताओं के अनुसार प्रशिक्षित किया जाए। उन्होंने कहा कि प्रशिक्षण में ही समस्याओं को दूर करने का बीजारोपण किया जाना चाहिए, ताकि व्यक्ति को अधिक से अधिक उत्तरदायी और कर्तव्यपरायण बनाया जा सके। शाह ने कहा कि प्रशिक्षण व्यक्ति के स्वभाव, काम करने की पद्धति और पूरे व्यक्तित्व को ढालने का काम करता है और अगर प्रशिक्षण ठीक से किया जाये तो जीवनभर इसके अच्छे परिणाम आते हैं।

केंद्रीय गृहमंत्री कहा कि पुलिस पर निष्क्रियता (नो एक्शन) और अति सक्रियता (एक्सट्रीम एक्शन) के आरोप लगते हैं। उन्होंने कहा कि पुलिस को इनसे बचकर न्यायपूर्ण कार्य (जस्ट एक्शन) की दिशा में आगे बढ़ना चाहिए। शाह ने कहा कि जस्ट एक्शन का मतलब है कि स्वाभाविक ऐक्सन और पुलिस को कानून को समझकर न्यायोचित कार्य करना चाहिए। (आईएएनएस-SM)

Popular

नवजात के लिए माँ के दूध से कोविड संक्रमण का नही है कोई खतरा ( Pixabay )

Keep Reading Show less

5 राज्यों के विधानसभा चुनावों की तारीख़ की घोषणा के बाद कार्यकर्तओं के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का पहला सवांद कार्यक्रम (Wikimedia Commons)


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए अपने संसदीय क्षेत्र वारणशी के भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के बूथ स्तर के कार्यकर्ताओं से बातचीत की। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भाजपा कार्यकर्ताओं से बात करते हुए कहा कि "उन्हें किसानों को रसायन मुक्त उर्वरकों के उपयोग के बारे में जागरूक करना चाहिए।"

नमो ऐप के जरिए प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने भाजपा के बूथ स्तर के कार्यकर्ताओं से बातचीत के दौरान बताया कि नमो ऐप में 'कमल पुष्प" नाम से एक बहुत ही उपयोगी एवं दिलचस्प सेक्शन है जो आपको प्रेरक पार्टी कार्यकर्ताओं के बारे में जानने और अपने विचारों को साझा करने का अवसर देता है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने नमो ऐप के सेक्शन 'कमल पुष्प' में लोगों को योगदान देने के लिए आग्रह किया। उन्होंने बताया की इसकी कुछ विशेषतायें पार्टी सदस्यों को प्रेरित करती है।

Keep Reading Show less

हुदा मुथाना वर्ष 2014 में आतंकवादी समूह आईएस में शामिल हुई थी। घर वापसी की उसकी अपील पर यूएस कोर्ट ने सुनवाई से इनकार कर दिया (Wikimedia Commons )

2014 में अमेरिका के अपने घर से भाग कर सीरिया के अतंकवादी समूह इस्लामिक स्टेट (आईएस) में शामिल होने वाली 27 वर्षीय हुदा मुथाना वापस अपने घर लौटने की जद्दोजहद में लगी है। हुदा मुथाना वर्ष 2014 में आतंकवादी समूह इस्लामिक स्टेट के साथ शामिल हुई साथ ही आईएस के साथ मिल कर सोशल मीडिया पर पोस्ट कर आतंकवादी हमलों की सराहना की और अन्य अमेरिकियों को आईएस में शामिल होने के लिए प्रोत्साहित किया था। हुदा मुथाना को अपने किये पर गहरा अफसोस है।

वर्ष 2019 में हुदा मुथाना के पिता ने संयुक्त राज्य अमेरिका (यूएस) के सुप्रीम कोर्ट में अमेरिका वापस लौटने के मामले पर तत्कालीन ट्रंप प्रशासन के खिलाफ मुक़द्दमा दायर किया था। संयुक्त राज्य अमेरिका (यूएस) के सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को बिना किसी टिप्पणी के हुदा मुथाना के इस मामले पर सुनवाई से इनकार कर दिया।

Keep reading... Show less