Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

2020 में दुनिया को अलविदा कहने वाले लोकप्रिय चेहरे

यह साल अपने साथ कई लोगों को ले गया, खासकर कोरोना महामारी के कारण। इनमें से कुछ कोविड से अपनी लड़ाई हार गए, तो कुछ अन्य कारणों से दुनिया को अलविदा कह गए।

सुशांत सिंह राजपूत का 2020 में निधन हो गया था।(सोशल मीडिया)

साल 2020 को कई लोकप्रिय चेहरे खोने के लिए याद किया जाएगा। यह साल अपने साथ कई लोगों को ले गया, खासकर कोरोना महामारी के कारण। इनमें से कुछ कोविड से अपनी लड़ाई हार गए, तो कुछ अन्य कारणों से दुनिया को अलविदा कह गए। आईएएनएस इस साल अपने प्रशंसकों और परिवारों को अलविदा कह गए लोकप्रिय लोगों की सूची लेकर आया है।

दिव्या भटनागर : ‘ये रिश्ता क्या कहलाता है’ की टीवी अभिनेत्री का पिछले कुछ हफ्तों से कोविड-19 से जूझने के बाद 7 दिसंबर को निधन हो गया। वायरस से संक्रमित होने के बाद वह नवंबर से अस्पताल में भर्ती थीं। उनकी उम्र 34 साल थी। दिव्या ने ‘तेरा यार हूं मैं’, ‘उड़ान’, ‘जीत गई तो पिया मोरे’ और ‘विष’ जैसे धारावहिकों में भी अभिनय किया था।


वीजे चित्रा : टेलीविजन अभिनेत्री और होस्ट को तमिल शो ‘पांडियन स्टोर्स’ में अभिनय के लिए जाना जाता है। वह 9 दिसंबर को चेन्नैइज नजरथपेट में एक होटल के कमरे में मृत पाई गई थी। टीएनएम के अनुसार, चेन्नई पुलिस का कहना है कि चित्रा की मौत आत्महत्या के कारण हुई थी, लेकिन उनके रिश्तेदारों का मानना है कि उनकी हत्या हुई है। वह 29 साल की थीं।

रवि पटवर्धन : वयोवृद्ध हिंदी और मराठी अभिनेता का निधन 6 दिसंबर को मुंबई में दिल का दौरा पड़ने से हो गया। सांस लेने में तकलीफ की शिकायत के बाद उनको एक निजी अस्पताल में ले जाया गया था। वह 84 साल के थे। पटवर्धन सत्तर के दशक के पहले से मराठी सिनेमा और टेलीविजन में एक जाना पहचाना चेहरा थे, जो अक्सर जज, वकील, ग्राम प्रधान, पुलिसकर्मी या एक परिवार के पितृसत्तात्मक परिवार के प्रमुख की भूमिका निभाते थे। पटवर्धन ने ‘तेजाब’, ‘नरसिम्हा’, ‘चमत्कार’, ‘तक्षक’, ‘यशवंत’, ‘प्रतिघाट’, ‘मुजरिम’, ‘हफ्ता बंद’, ‘सलाखें’, ‘युगपुरुष’, और ‘राजू बन गया जेंटलमैन’ जैसी कई बॉलीवुड फिल्मों में भी काम किया था।

सौमित्र चटर्जी : प्रसिद्ध अभिनेता का निधन 15 नवंबर को हुआ था। वह 85 वर्ष के थे। दादासाहेब फाल्के विजेता अभिनेता लगभग 40 दिनों तक कोलकाता के बेले व्यू अस्पताल के आईसीयू में थे। उनकी प्रमुख समस्या कोविड-19 एन्सेफैलोपैथी थी। चटर्जी का 5 अक्टूबर को कोरोनावायरस टेस्ट रिपोर्ट पॉजीटिव आई थी और अगली सुबह अस्पताल में भर्ती हो गए थे।

आसिफ बसरा : बसरा (53) ने कथित तौर पर 12 नवंबर को हिमाचल प्रदेश के धर्मशाला में अपने आलीशन किराए के आवास पर आत्महत्या कर ली। वह यहां करीब चार सालों से रह रहे थे। पुलिस ने आईएएनएस को जानकारी दी कि उन्होंने अपने पालतू कुत्ते के पट्टे से फंदा लगाकर आत्महत्या की थी। ‘ब्लैक फ्राइडे’, ‘परजानिया’, ‘जब वी मेट’ और ‘काई पो चे’ जैसी कई अन्य फिल्मों में नजर आए बसरा को आखिरी बार हॉटस्टार टीवी सीरीज ‘हॉस्टेजेस’ में देखा गया था।

यह भी पढ़ें: सुशांत की मौत पर अभिनेता कुमुद मिश्रा ने साझा किए अपने विचार

शॉन कॉनरी : महान अभिनेता का 31 अक्टूबर को 90 वर्ष की आयु में निधन हो गया। हॉलीवुड स्क्रीन पर मूल जेम्स बॉन्ड के रूप में लोकप्रिय कॉनरी का अभिनय करियर लगभग पांच दशकों का रहा। उन्होंने 1962 में जेम्स बॉन्ड के रूप में वैश्विक सुपरस्टारडम की शूटिंग की, जो 007 सीरीज की पहली फिल्म, ‘डॉ. नो’ थी, उसके बाद उन्होंने ‘फ्रॉम रशिया विद लव’ (1963), ‘गोल्डफिंगर’ (1964), ‘थंडरबॉल’ (1965), ‘यू ओनली लिव ट्वाइस’ (1967), ‘डायमंड्स आर फॉरएवर’ (1971) और भी कई फिल्मों में काम किया।

एसपी बालासुब्रमण्यम : फिल्मी दुनिया में एसपीबी या बालू के नाम से प्रसिद्ध मशहूर पाश्र्व गायक और पद्मश्री विजेता ने पांच दशकों में 16 भाषाओं में 40,000 से अधिक गाने रिकॉर्ड करवाए। 25 सितंबर को चेन्नई में उनका निधन हो गया। वह 74 वर्ष के थे। बालासुब्रह्मण्यम गंभीर कोविड-19 निमोनिया से ग्रसित थे।

आशालता वबगांवकर : अनुभवी अभिनेत्री कथित तौर पर कोविड-19 से पीड़ित थीं, 22 सितंबर को सतारा के एक निजी अस्पताल में उनका निधन हुआ। वह 79 वर्ष की थीं। आशालता ने 100 से अधिक हिंदी और मराठी फिल्मों में काम किया।

निशिकांत कामत : फिल्म निर्माता ने 17 अगस्त को हैदराबाद के एक अस्पताल में अंतिम सांस ली। वह 50 वर्ष के थे। कामत पिछले दो वर्षो से लिवर सिरोसिस से जूझ रहे थे। उन्होंने अजय देवगन-तब्बू स्टारर ‘दृश्यम’, इरफान खान-स्टारर ‘मदारी’ और जॉन अब्राहम के साथ ‘फोर्स’ और ‘रॉकी हैंडसम’ जैसी बॉलीवुड फिल्मों का निर्देशन किया था।

कुमकुम : दिग्गज अभिनेत्री का निधन 28 जुलाई को हो गया। उनके परिवार ने उनकी मृत्यु का कारण बीमारी बताई। कुमकुम को गुरु दत्त ने ढूंढा था। कुमकुम ने ‘प्यासा’, ‘मेम साब’, ‘ललकार’, ‘गीत’, ‘राजा और रंक’ जैसी कई फिल्मों में काम किया था।

ऋषि कपूर : साल 2018 में उन्हें पहली बार कैंसर का पता चला था, जिसके बाद वे इलाज के लिए लगभग एक साल तक न्यूयॉर्क में रहे थे। वह सितंबर 2019 में भारत लौट आए। हालांकि 30 अप्रैल को हमेशा के लिए दुनिया को अलविदा कह गए। वह 67 वर्ष के थे। ऋषि कपूर ने अपनी पहली फिल्म ‘बॉबी’ में एक किशोर आइकन की भूमिका निभाने के लिए प्रसिद्धि पाई। वह सत्तर, अस्सी और नब्बे के दशक की ‘हिना’ सहित कई हिट फिल्मों में एक रोमांटिक हीरो के रूप में लोकप्रिय हुए।

अभिनेता ऋषि कपूर । ( Wikimedia Commons )

यह भी पढ़ें : हॉलीवुड अभिनेता जेफ डेनियल ने बताया अराजनैतिक होने का अर्थ

जगदीप : वयोवृद्ध बॉलीवुड कॉमेडियन का 8 जुलाई को मुंबई में उम्र से जुड़ी स्वास्थ्य समस्याओं के कारण निधन हो गया। वह 81 वर्ष के थे। जगदीप का जन्म 29 मार्च, 1939 को अमृतसर में हुआ था, उनका वास्तविक नाम सैयद इश्तियाक अहमद जाफरी था। उन्होंने 400 से अधिक फिल्मों में अभिनय किया था। उन्हें रमेश सिप्पी की ब्लॉकबस्टर ‘शोले’ (1975) में सूरमा भोपाली की भूमिका के लिए जाना जाता है। नब्बे के दशक के बच्चे उन्हें राजकुमार संतोषी की ‘अंदाज अपना अपना’ (1994) में सलमान खान के पिता के रूप में याद करेंगे। उनकी आखिरी रिलीज हुई फिल्म 2017 में ‘मस्ती नहीं सस्ती’ है।

सरोज खान : लोकप्रिय कोरियोग्राफर का निधन 2 जुलाई को दिल का दौरा पड़ने से हुआ। वह 71 साल के थे। खान को कुछ समय से सांस लेने की शिकायत की थी, जिसके बाद उन्हें मुंबई के गुरु नानक अस्पताल में भर्ती कराया गया था। खान ने साढ़े तीन दशकों के दौरान 2000 से अधिक गानों को कोरियोग्राफ किया था।

सरोज खान । (Pinterest )

पंडित जसराज : महान शास्त्रीय गायक और पद्म विभूषण विजेता पंडित जसराज का 90 वर्ष की आयु में अमेरिका में 17 अगस्त को निधन हो गया। हरियाणा में साल 1930 में जन्मे, शास्त्रीय गायक ने मेवाती घराने को वैश्विक संगीत गायन के रूप में प्रस्तुत किया। करीब 80 साल के करियर के साथ पंडित जसराज ने भारतीय संगीत को दुनिया के मंच पर पेश किया।

चैडविक बॉसमैन : सुपरमैन ब्लैक पैंथर की अपनी भूमिका के लिए जाने जाने वाले बॉसमैन 2016 से पेट के कैंसर से जूझ रहे थे। उनकी मृत्यु 28 अगस्त को हुई। वह 43 वर्ष के थे। उन्होंने ‘कैप्टन अमेरिका : सिविल वॉर’, ‘एवेंजर्स : इन्फिनिटी’ में भी सुपरहीरो की भूमिका निभाई थी।

सुशांत सिंह राजपूत : शुरुआत में यह माना गया था कि उन्होंने 14 जून को आत्महत्या की थी, लेकिन उनकी मौत के कारण की जांच अभी भी जारी है। वह 34 वर्ष के थे। सुशांत ने टीवी धारावाहिक ‘पवित्र रिश्ता’ में मानव देशमुख के रूप में अभिनय से लोकप्रियता हासिल की थी। साल 2013 में उन्होंने ‘काई पो चे’ के साथ बड़े पर्दे पर कदम रखा था और कई फिल्मों में काम किया। ‘दिल बेचेरा’ उनकी आखिरी फिल्म रही।

बासु चटर्जी : महान फिल्मकार का निधन 93 साल की उम्र में 4 जून को हो गया। वह उन फिल्मकारों में से हैं, जिन्होंने आम आदमी को हिंदी व्यावसायिक सिनेमा का नायक बनाया। उन्हें ‘रजनीगंधा’, ‘चितचोर’, ‘खट्टा मीठा’, ‘प्रियतम’, ‘शौकीन’ और ‘चमेली की शादी’ जैसी फिल्मों के लिए जाना जाता है।

यह भी पढ़ें : क्या मनोरंजन ‘सेना’ से बड़ा है ?

वाजिद खान : लोकप्रिय संगीतकार जोड़ी साजिद-वाजिद में से एक वाजिद खान का 1 जून को इंतकाल हो गया। 5 जून को, उनके परिवार ने बताया कि वाजिद की मृत्यु दिल का दौरा पड़ने से हुई। साजिद-वाजिद को सलमान खान अभिनीत फिल्म ‘दबंग’ में उनके गीतों के लिए जाना जाता है।

इरफान खान । (social media )

इरफान खान : अभिनेता इरफान खान ने 29 अप्रैल को अंतिम सांस ली। उन्हें पेट के संक्रमण के कारण धीरूभाई अंबानी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। वह 54 वर्ष के थे। अभिनेता कई वर्षो से न्यूरोएंडोक्राइन ट्यूमर से जूझ रहे थे और चिकित्सा सुविधा ले रहे थे। इरफान ‘हिंदी मीडियम’, ‘अंग्रेजी मीडियम’ और ‘लाइफ इन ए मेट्रो’ जैसी व्यावसायिक फिल्मों से लोकप्रियता हासिल की थी।

किर्क डगलस : 5 फरवरी को 103 साल की उम्र में उनका निधन हो गया। उन्होंने 60 सालों में लगभग 90 फिल्मों और टीवी श्रृंखलाओं में अभिनय किया। (आईएएनएस)

Popular

प्रमुख हिंदू नेता और श्री नारायण धर्म परिपालन योगम के महासचिव वेल्लापल्ली नतेसन (wikimedia commons)

हमारे देश में लव जिहाद के जब मामले आते है , तब इस मुद्दे पर चर्चा जोर पकड़ती है और देश कई नेता और जनता अपनी-अपनी राय को वयक्त करते है । एसे में एक प्रमुख हिंदू नेता और श्री नारायण धर्म परिपालन योगम के महासचिव वेल्लापल्ली नतेसन ने सोमवार को एक बयान दिया जिसमें उन्होनें कहा कि यह मुस्लिम समुदाय नहीं बल्कि ईसाई हैं जो देश में धर्मांतरण और लव जिहाद में सबसे आगे हैं।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार एनडीए के सहयोगी और भारत धर्म जन सेना के संरक्षक वेल्लापल्ली नतेसन नें एक कैथोलिक पादरी द्वारा लगाए गए आरोपों पर प्रतिक्रिया दी , जिसमे कहा गया था हिंदू पुरुषों द्वारा ईसाई धर्म महिलाओं को लालच दिया जा रहा है। नतेसन नें पाला बिशप जोसेफ कल्लारंगट की एक टिप्पणी जो कि विवादास्पद "लव जिहाद" और "मादक जिहाद" की भी जमकर आलोचना की और यह कहा कि इस मुद्दे पर "मुस्लिम समुदाय को निशाना बनाना सही नहीं है"।

Keep Reading Show less

महंत नरेंद्र गिरि (Wikimedia Commons)

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की सोमवार को संदिग्ध हालात में मौत हो गई। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि को बाघंबरी मठ स्थित उनके आवास पर श्रद्धांजलि दी। मुख्यमंत्री ने कहा कि दोषियों को जांच के बाद सजा दी जाएगी। उन्होंने कहा ''यह एक दुखद घटना है और इसी लिए अपने संत समाज की तरफ से, प्रदेश सरकार की ओर से उनके प्रति श्रद्धांजलि व्यक्त करने के लिए में स्वयं यहाँ उपस्थित हुआ हूँ। अखाड़ा परिषद और संत समाज की उन्होंने सेवा की है। नरेंद्र गिरि प्रयागराज के विकास को लेकर तत्पर रहते थे। साधु समाज, मठ-मंदिर की समस्याओं को लेकर उनका सहयोग प्राप्त होता था। उनके संकल्पों को पूरा करने की शक्ति उनके अनुयायियों को मिले''

योगी आदित्यनाथ ने कहा '' कुंभ के सफल आयोजन में नरेंद्र गिरि का बड़ा योगदान था। एक-एक घटना के पर्दाफाश होगा और दोषी अवश्य सजा पाएगा। मेरी अपील है सभी लोगों से की इस समय अनावश्यक बयानबाजी से बचे। जांच एजेंसी को निष्पक्ष रूप से कार्यक्रम को आगे बढ़ाने दे। और जो भी इसके लिए जिम्मेदार होगा उसको कानून की तहत कड़ी से कड़ी सजा भी दिलवाई जाएगी।

Keep Reading Show less

By: कम्मी ठाकुर, स्वतंत्र पत्रकार एवं स्तम्भकार, हरियाणा

केजरीवाल सरकार की झूठ, फरेब, धूर्तता और भ्रष्टाचार की पोल खोलता 'बोल रे दिल्ली बोल' गीतरुपी शब्दभेदी बाण एकदम सटीक निशाने पर लगा है। सुभाष, आजाद, भगतसिंह जैसे आजादी के अमर शहीद क्रांतिकारियों के नाम व चेहरों को सामने रखकर जनता को बेवकूफ बना सुशासन ईमानदारी और पारदर्शिता का सब्जबाग दिखाकर सत्ता पर काबिज हुए अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी सरकार आज पूरी तरह से मुस्लिम तुष्टिकरण, भ्रष्टाचार, कुशासन एवं कुव्यवस्था के दल-दल में धंस चुकी है। आज केजरीवाल का चाल, चरित्र और चेहरा पूरी तरह से बेनकाब हो चुका है। दिल्ली में कोविड-19 के दौरान डॉक्टरों सहित सैकड़ों विभिन्न धर्म-संप्रदाय के मेडिकल स्टाफ के लोगों ने बतौर कोरोना योद्धा अपनी जाने गंवाई थी। लेकिन उन सब में केजरीवाल के चश्मे में केवल मुस्लिम डॉक्टर ही नजर आया, जिसके परिजनों को 'आप सरकार' ने एक करोड़ की धनराशि का चेक भेंट किया। किंतु बाकी किसी को नहीं बतौर मुख्यमंत्री यह मुस्लिम तुष्टिकरण, असंगति, पक्षपात आखिर क्यों ?

Keep reading... Show less