Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

21वीं सदी में दुनिया की आशाएं और अपेक्षाएं भारत से हैं : प्रधानमंत्री मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि 21वीं सदी में दुनिया की आशाएं और अपेक्षाएं भारत से हैं और भारत की आशा और अपेक्षा आपके साथ जुड़ी हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी । (PIB)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पंडित दीनदयाल पेट्रोलियम विश्वविद्यालय गांधीनगर के 8वें दीक्षांत समारोह में शनिवार को युवाओं से कहा कि 21वीं सदी में दुनिया की आशाएं और अपेक्षाएं भारत से हैं और भारत की आशा और अपेक्षा आपके साथ जुड़ी हैं। हमें तेज गति से चलना ही होगा, आगे बढ़ना ही होगा।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, “आज की जो पीढ़ी है, 21वीं सदी का जो युवा है, उसको एक क्लीन स्टेट के साथ आगे बढ़ना होगा। कुछ लोंगों के मन में ये जो पत्थर की लकीर बनी हुई है, कि कुछ बदलेगा नहीं, उस लकीर को क्लीन करना होगा। और क्लीन हर्ट का मतलब साफ नीयत।”


यह भी पढ़े : ऊर्जा जरूरतों में प्राकृतिक गैस की हिस्सेदारी को 4 गुना बढ़ाने का प्रयास : पीएम मोदी

बदलाव भी ज़रूरी

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, “आप देखिए जीवन में वही लोग सफल होते है, वही लोग कुछ कर दिखाते है जिनके जीवन में सेन्स ऑफ रेस्पांसबिलिटी का भाव होता है। विफल वो होते है जो सेंस ऑफ बर्डन में जीते है। सेंस ऑफ रेस्पांसबिलिटी का भाव व्यक्ति के जीवन में सेंस ऑफ अपार्चुनिटी को भी जन्म देता है।” एवं कहा कि बदलाव चाहे खुद में करना हो, या दुनिया में करना हो, वो कभी एक दिन, एक हफ्ते या एक साल में नहीं होता। बदलाव के लिए थोड़ा-थोड़ा प्रयास नियमित करना होता। नियमित होकर किए गए छोटे-छोटे काम बड़ा बदलाव ला सकते हैं।

प्रधानमंत्री मोदी ने युवाओं को सीख देते हुए कहा कि इच्छाओं के अंबार से संकल्प की शक्ति अपरंपार होती है। करने के लिए बहुत कुछ है, देश लिए पाने को बहुत कुछ है, पर आपके लक्ष्य टुकड़ों में बिखरे नहीं होने चाहिए। आप कमिटमेंट के साथ आगे बढ़ेंगे तो अपने भीतर ऊर्जा का भंडार महसूस करेंगे। (आईएएनएस )

Popular

केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर(Wikimedia Commons)

उत्तर प्रदेश और पंजाब सहित पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव(Assembly elections2022)अब ज्यादा दूर नहीं है। जिसको देखते हुए सभी राजनैतिक दल अपनी तैयारियों में लग चुके हैं। तो वहीं केंद्र में सत्ताधारी भारतीय जनता पार्टी(BJP) पंजाब और पश्चिमी उत्तर प्रदेश में दिखते नुकसान के कारण पहले तीन कृषि कानून रद्द कर दिए गए हैं। इसके अलावा एक और फैसला हुआ है जो कि किसानों पर खासा प्रभाव डाल सकता है।

दरासल, केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर(Narendra Singh Tomar) ने शनिवार को जानकारी दी कि अब किसानों द्वारा पराली जलाना अब अपराध नहीं माना जाएगा। इसके अलावा कृषि मंत्री तोमर ने किसानों से एक बार फिर घर जाने की अपील की, इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी(PM Modi) भी कृषि कानून वापसी के दौरान किसानों से अपील कर चुके हैं। अगर इन सभी चीजों का राजनैतिक मायने निकाले तो मतलब साफ है कि बीजेपी(BJP) उत्तर प्रदेश में सरकार वापसी करने के लिए पूरी जी जान से जुटी है उसके लिए चाहे कुछ भी करना पड़े।

Keep Reading Show less

तेजी से फैल रहे कोरोना के नए वैरिएंट पर प्रधानमंत्री मोदी ने दिया निर्देश।(PIB)

कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रोन के खतरे को देखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अधिकारियों को अंतर्राष्ट्रीय यात्राओं में छूट देने की योजना की समीक्षा करने का निर्देश दिया है। शनिवार को कोविड-19 और टीकाकरण से संबंधित स्थिति की समीक्षा के लिए बुलाई गई एक व्यापक उच्च स्तरीय बैठक की अध्यक्षता करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रोन के खतरे को देखते हुए सतर्क और सक्रिय रहने की जरूरत पर जोर देते हुए इस नए वेरिएंट के आने और दुनिया के कई देशों में बदल रहे हालात को देखते हुए अघिकारियों से अंतर्राष्ट्रीय यात्रा प्रतिबंधों में ढ़ील देने की योजना की समीक्षा करने को कहा।

कोविड-19 को लेकर शनिवार को बुलाई गई इस उच्च स्तरीय महत्वपूर्ण बैठक में प्रधानमंत्री ने कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रोन के असर , विभिन्न देशों में पड़े प्रभाव और भारत में इसके असर को लेकर भी जानकारी ली। बैठक के दौरान पीएम मोदी ने लोगों को अधिक सतर्क रहने और मास्किंग और सोशल डिस्टेंसिंग जैसी उचित सावधानी बरतने की जरूरत पर जोर देते हुए कहा कि जिन इलाकों से कोरोना के ज्यादा मामले सामने आ रहे हैं , उन-उन इलाकों में गहन नियंत्रण और सक्रिय निगरानी जारी रहनी चाहिए। बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश में कोविड वैक्सीन की दूसरी खुराक का कवरेज बढ़ाने की जरूरत पर बल देते हुए राज्यों को यह सुनिश्चित करने को कहा है कि जिन लोगों को पहली खुराक मिली है उन्हें दूसरी खुराक समय पर दी जाए।

शनिवार को लगभग 2 घंटे तक चली इस उच्चस्तरीय बैठक में कोविड -19 के लिए सार्वजनिक स्वास्थ्य तैयारियों और टीकाकरण संबंधी स्थिति की समीक्षा की गई। प्रधानमंत्री को कोविड-19 संक्रमणों और आंकड़ो के मामलें में वैश्विक हालात की भी जानकारी दी गई। बैठक में प्रधानमंत्री ने टीकाकरण अभियान में प्रगति और 'हर घर दस्तक' अभियान के तहत किए जा रहे प्रयासों की जानकारी भी ली । इस दौरान उन्होने सभी राज्यों को दूसरी खुराक का दायरा बढ़ाने का निर्देश देते हुए राज्यों को यह सुनिश्चित करने पर जोर दिया कि जिन लोगों को पहली खुराक मिली है उन्हें दूसरी खुराक समय पर दी जाए।

कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रोन के असर, विभिन्न देशों में पड़े प्रभाव और भारत में इसके असर को लेकर जानकारी लेते हुए प्रधानमंत्री ने इस नए वेरिएंट के खतरे के मद्देनजर लोगों को अधिक सतर्क रहने और उचित सावधानी बरतने ( मास्किंग और सोशल डिस्टेंसिंग ) की जरूरत पर भी बल दिया। इसके साथ ही पीएम मोदी ने सभी अंतर्राष्ट्रीय आगमन की निगरानी की आवश्यकता पर जोर देते हुए जोखिम वाले देशों पर विशेष ध्यान देने का भी निर्देश दिया। उन्होने अधिकारियों को नए वेरिएंट के आने और दुनिया के कई देशों में बदल रहे हालात को देखते हुए अंतर्राष्ट्रीय यात्रा प्रतिबंधों में ढील देने की योजना की समीक्षा करने को भी कहा।

राज्य और जिला स्तर पर उचित जागरूकता सुनिश्चित करने के लिए प्रधानमंत्री ने अधिकारियों को मिलकर काम करने का निर्देश देते हुए कहा कि ज्यादा कोरोना वाले मामलों की रिपोर्ट करने वाले क्षेत्रों में गहन नियंत्रण और सक्रिय निगरानी जारी रहनी चाहिए और उन राज्यों को आवश्यक तकनीकी सहायता प्रदान की जानी चाहिए जहां इसके ज्यादा मामले सामने आ रहे हैं। पीएम ने वायरस के वेंटिलेशन और हवा से पैदा होने वाले व्यवहार के बारे में भी जागरूकता पैदा करने की जरूरत पर बल दिया।

Keep reading... Show less