Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
इतिहास

वीरकोन्या प्रीतिलता : पहली शहीद महिला बंगाल की उनका गौरवशाली इतिहास

महज़ 21 साल की छोटी सी उम्र में उनकी शहादत ने बंगाल में अन्य क्रांतिकारियों को प्रेरणा की लहरें भेजीं।

महिला क्रांतिकारी वीरकोन्या प्रीतिलता, बंगाल की पहली महिला शहीद थी (wikimedia commons)

हमारे देश को आजादी दिलाने के लिए कई क्रांतिकारियों ने अहम् भूमिका निभाई थी । अंग्रेजों के खिलाफ सशस्त्र क्रांति में केवल पुरुषों ने भूमिका नहीं निभाई थी , बल्कि उनके साथ कई महिलाओं ने भी देश को आजाद कराने के लिए अपना मत्वपूर्ण योगदान दिया था । उनमें से ही महिला क्रांतिकारि वीरकोन्या प्रीतिलता, बंगाल की पहली महिला शहीद थी जिन्होंने लगभग 40 क्रांतिकारियों के साथ पहाड़ी यूरोपीय क्लब नामक श्वेत वर्चस्ववादी क्लब पर एक सफल छापे और हमले का नेतृत्व किया था। 23 सितंबर 1932 को अंग्रेजों के कब्जे से बचने के लिए उन्होंने आत्महत्या कर ली थी। महज़ 21 साल की छोटी सी उम्र में उनकी शहादत ने बंगाल में अन्य क्रांतिकारियों को प्रेरणा की लहरें भेजीं।

हालांकि, 21 साल की बच्ची के सर्वोच्च बलिदान की शहादत जो कि अपनी मातृभूमि को ब्रिटिश शासन से मुक्त कराने के लिए दी गई थी उसे बंगाल भूल चुका है।

भारत का इतिहास स्वतंत्रता सेनानियों द्वारा प्रदर्शित वीरता, धैर्य और धृढ़ संकल्प के उदाहरणों से भरा पड़ा है जो किअंग्रेजों के खिलाफ था । उनमें से कुछ क्रांतिकारियों को इतिहास की पाठ्यपुस्तकों में प्रमुखता से शामिल किया गया हैं, जबकि अन्य क्रांतिकारियों को कभी भी उनकी योग्य मान्यता प्राप्त नहीं हुई है। आप को बता दे कि वीरकोन्या प्रीतिलता बंगाल एक ऐसी ही भूली-बिसरी क्रांतिकारी हैं।

एसे ही एक वीर बहादुर प्रीतिलता थी जिन्होंने भारत को अंग्रेजों से मुक्त कराने में पुरुषों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चल सकती हैं। उन्होंने अपने वीर उदाहरण के माध्यम से बंगाल की महिलाओं को संदेश दिया था

क्रांतिकारियों को 23 सितंबर, 1932 को यूरोपीय क्लब में ब्रिटिश अधिकारियों पर हमला करने का काम प्रीतिलता वडेदार के नेतृत्व में सौंपा गया था। उनकों 40 लोगों के समूह का नेतृत्व करना था। वीर प्रीतिलता ने एक पंजाबी व्यक्ति के रूप में खुद को प्रच्छन्न किया, जबकि अन्य ने शर्ट और लुंगी पहनी थी। क्रांतिकारियों ने क्लब की घेराबंदी कर दी और आग लगा दी। तैनात पुलिस अधिकारियों के जवाबी हमले में क्लब के अंदर क्रांतिकारियों को नुकसान हुआ।
अपनी पुस्तक 'चटगांव आर्मरी रेडर्स' में महान क्रांतिकारी कल्पना दत्ता ने बताया कि कैसे मास्टर दा सूर्य सेन, शीर्ष नेता, प्रीतिलता वाडेदार को पोटेशियम साइनाइड कैप्सूल सौंपने के विचार के खिलाफ थे।

मास्टरदा ने बताया कि ' मैं आत्महत्या में विश्वास नहीं करता। लेकिन जब वह अपनी अंतिम विदाई देने आई तो उसने मुझसे पोटेशियम साइनाइड को बाहर कर दिया। वह बहुत उत्सुक थी और फंसने की स्थिति में इसकी आवश्यकता के बारे में बहुत अच्छी तरह से तर्क दिया। जिसके बाद मैं उसे वह दे दिया।'
इसलिए, प्रीतिलता वडेदार की भागीदारी और उनकी अंतिम शहादत महत्वपूर्ण हो गई, क्योंकि सशस्त्र क्रांति काफी हद तक पुरुषों का मामला था।

\u092d\u093e\u0930\u0924 \u0926\u0947\u0936 \u0915\u093e \u0927\u094d\u0935\u091c भारत का इतिहास स्वतंत्रता सेनानियों द्वारा प्रदर्शित वीरता, धैर्य और धृढ़ संकल्प के उदाहरणों से भरा पड़ा है (pixabay )




जगबंधु वडेदार और प्रतिभा देवी के घर 5 मई, 1911 को प्रीतिलता का जन्म बांग्लादेश के चटगांव में हुआ था। उनके पिता नगर पालिका कार्यालयों में क्लर्क थे और मुश्किल से ही गुजारा करते थे। जगबंधु वडेदार ने अपनी बेटी को अच्छी शिक्षा प्रदान की आर्थिक कठिनाइयों होने के बावजूद भी । उन्होंने चटगांव शहर के प्रसिद्ध खस्तागीर बालिका विद्यालय में एक छात्र के रूप में 'स्ट्राइक इंटेलीजेंश' के लक्षण प्रदर्शित किए।
पढाई की बात करे तो प्रीतिलता ने 1927 में अपनी मैट्रिक पूरी की, उसके बाद 1929 में इंटरमीडिएट की परीक्षा दी। उन्होंने ढाका बोर्ड के सभी उम्मीदवारों में पहला स्थान हासिल किया। उन्होंने स्नातक की डिग्री दर्शनशास्त्र में हासिल की जिसके लिए कोलकाता के बेथ्यून कॉलेज में प्रवेश लिया। यह उस समय के आसपास था जब ब्रिटिश पुलिस ने उनके माता-पिता और परिवार को प्रताड़ित किया और उनके पिता की नौकरी चली गई, जिससे परिवार की जिम्मेदारी प्रीतिलता वद्देदार के कंधों पर आ गई।
अपनी स्नातक की डिग्री पूरी करने के बाद, वह चटगांव लौट आई और नंदनकरण अपर्णाचरण स्कूल की प्रधानाध्यापिका बन गईं । महात्मा गांधी के 'अहिंसा' के विचार को 1930 के दशक में बंगाल ने त्याग दिया था। ब्रिटिश शासन के खिलाफ सशस्त्र संघर्ष का समर्थन करने वाले क्रांतिकारी संगठनों ने बंगाल में केंद्र-स्तर हासिल कर लिया था।
मास्टरदा सूर्य सेन और निर्मल सेन से प्रीतिलता का परिचय उनके एक क्रांतिकारी चचेरे भाई ने कराया था। उन दिनों महिलाओं को क्रांतिकारी समूहों में स्वीकार किया जाना दुर्लभ था। प्रीतिलता को न केवल स्वीकार किया गया था बल्कि उसे लड़ने और हमलों का नेतृत्व करने में प्रशिक्षित किया गया था।

हालाँकि उनका समावेश शुरू में ब्रिटिश अधिकारियों को धोखा देने के लिए था, प्रीतिलता जल्द ही समूह में रैंक तक पहुँच गई। 18 अप्रैल, 1930 के चटगांव शस्त्रागार छापे के दौरान, प्रीतिलता टेलीफोन लाइनों, टेलीग्राफ कार्यालय को नष्ट करने में सफल रही। सूर्य सेन के अलावा, वह क्रांतिकारी रामकृष्ण विश्वास से भी प्रेरित थीं। वह रेल अधिकारी तारिणी मुखर्जी की गलती से हत्या करने के आरोप में कोलकाता के अलीपुर सेंट्रल जेल में जेल की सजा काट रहा था, हालांकि उसका निशाना पुलिस महानिरीक्षक (चटगांव) क्रेग था।
स्वतंत्रता सेनानी कल्पना दत्ता ने अपनी पुस्तक में प्रीतिलता के साथ अपने अनुभव साझा किए।
उन्होंने बताया कि कैसे प्रीतिलता दुर्गा पूजा पर एक बकरे की बलि देने से हिचकती थी, जिससे साथी क्रांतिकारियों ने सशस्त्र संघर्ष में उसकी क्षमता पर सवाल उठाया और प्रीतिलता से पूछा गया "क्या आप देश की आजादी के लिए भी अहिंसक तरीके से लड़ना चाहती हैं?" । उन्होंने जवाब दिया कि जब मैं देश की आजादी के लिए अपनी जान देने के लिए तैयार हूं, तो जरूरत पड़ने पर किसी की जान लेने में भी मैं जरा भी नहीं हिचकिचाऊंगी।

यह भी पढ़े : क्या आने वाले समय में, पंजाब 'सेंट पीटरपुर' कहलाएगा?


जब वह सूर्य सेन से मिलने गई तो 13 जून, 1932 को प्रीतिलता बाल-बाल बच गई। उनके ठिकाने को ब्रिटिश सैनिकों ने घेर लिया, जिससे टकराव हुआ। उसे 'मोस्ट वांटेड' क्रांतिकारियों की सूची में डाल दिया था । क्योंकि ब्रिटिश अधिकारी सतर्क हो गए मास्टर दा नस्लवादी, श्वेत वर्चस्ववादी 'पहातार्ली यूरोपियन क्लब' को निशाना बनाना चाहते थे। क्लब के बाहर नोटिस बोर्ड पर लिखा था, "कुत्तों और भारतीयों को अनुमति नहीं है।"
अपनी पुस्तक में कल्पना दत्ता ने बताया कि कैसे प्रीतिलता के माता-पिता तबाह हो गए थे।

साथ ही उन्होंने कहा कि प्रीति या उनके महान बलिदान को चटगांव के लोग नहीं भूले हैं। वे किसी भी अजनबी को उसका पिता बताते हुए कहते हैं कि वह उस पहली लड़की का पिता है जिसने हमारे देश के लिए अपनी जान दी थी।

Input: आईएएनएस; Edited By: Pramil Sharma

Popular

नागरिक उड्डयन मंत्रालय की तरफ से चलाई जा रही है कृषि उड़ान 2.O योजना(Wikimedia commons)

नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया(Jyotiraditya Scindia) ने बुधवार को कृषि उड़ान 2.0' योजना का शुभारंभ करने के लिए आयोजित एक कार्यक्रम में भाग लिया। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए सिंधिया ने कहा कि 'कृषि उड़ान 2जेड.0' आपूर्ति श्रृंखला में बाधाओं को दूर कर किसानों की आय दोगुनी करने में मदद करेगी। यह योजना हवाई परिवहन द्वारा कृषि-उत्पाद की आवाजाही को सुविधाजनक बनाने और प्रोत्साहित करने का प्रस्ताव करती है।

सिंधिया(Jyotiraditya Scindia) ने कहा, "यह योजना कृषि क्षेत्र के लिए विकास के नए रास्ते खोलेगी और आपूर्ति श्रृंखला, रसद और कृषि उपज के परिवहन में बाधाओं को दूर करके किसानों की आय को दोगुना करने के लक्ष्य को प्राप्त करने में मदद करेगी। क्षेत्रों (कृषि और विमानन) के बीच अभिसरण तीन प्राथमिक कारणों से संभव है - भविष्य में विमान के लिए जैव ईंधन का विकासवादी संभावित उपयोग, कृषि क्षेत्र में ड्रोन का उपयोग और योजनाओं के माध्यम से कृषि उत्पादों का एकीकरण और मूल्य प्राप्ति।"

Keep Reading Show less

चंदा बंद सत्याग्रह जिसे No List No Donation के नाम से भी जाना जाता है। (File Photo)

सत्याग्रह का सामन्य अर्थ होता है "सत्य का आग्रह।" सर्वप्रथम इसका प्रयोग महात्मा गांधी द्वारा किया गया था। उन्होंने भारत में कई आंदोलन चलाए, जिनमें चंपारण, बारदोली, खेड़ा सत्याग्रह आदि प्रमुख। हैं। सत्याग्रह स्वराज प्राप्त करने और सामाजिक संघर्षों को मिटाने का एक नैतिक और राजनीतिक अस्त्र है। आज हम ऐसे ही एक सत्याग्रह की बात करेंगे जिसे गांधी जी से प्रेणा लेकर शुरू किया गया था।

"चंदा बंद सत्याग्रह" जिसे No List No Donation के नाम से भी जाना जाता है। यह आम आदमी पार्टी के विरुद्ध एक अमरीकी डॉक्टर वह NRI सेल के सह-संयोजक डॉ. मुनीश रायजादा द्वारा साल 2016 में शुरू किया गया था। डॉ. मुनीश जब आम आदमी पार्टी से जुड़े थे, तब उन्हें पार्टी के NRI सेल का सह-संयोजक नियुक्त किया गया था।

Keep Reading Show less

वन्य जीव अभयाण्य में अब हिरण, चीतल, तेंदुआ, लकड़बग्घा जैसे जानवरों का परिवार बढ़ गया है।(Pixabay)

कोरोना काल में जब सब कुछ बंद चल रहा था । झारखंड के पलामू टाइगर रिजर्व(Palamu Tiger Reserve) में कोरोना काल के दौरान सैलानियों और स्थानीय लोगों का प्रवेश रोका गया तो यहां जानवरों की आमद बढ़ गयी। इस वन्य जीव अभयाण्य में अब हिरण, चीतल, तेंदुआ, लकड़बग्घा जैसे जानवरों का परिवार बढ़ गया है। आप को बता दे कि लगभग एक दशक के बाद यहां हिरण की विलुप्तप्राय प्रजाति चौसिंगा की भी आमद हुई है। इसे लेकर परियोजना के पदाधिकारी उत्साहित हैं। पलामू टाइगर प्रोजेक्ट(Palamu Tiger Reserve) के फील्ड डायरेक्टर कुमार आशुतोष ने आईएएनएस से बातचीत में कहा कि लोगों का आवागमन कम होने जानवरों को ज्यादा सुरक्षित और अनुकूल स्पेस हासिल हुआ और इसी का नतीजा है कि अब इस परियोजना क्षेत्र में उनका परिवार पहले की तुलना में बड़ा हो गया है।

पिछले हफ्ते इस टाइगर रिजर्व(Palamu Tiger Reserve) के महुआडांड़ में हिरण की विलुप्तप्राय प्रजाति चौसिंगा के एक परिवार की आमद हुई है। फील्ड डायरेक्टर कुमार आशुतोष के मुताबिक एक जोड़ा नर-मादा चौसिंगा और उनका एक बच्चा ग्रामीण आबादी वाले इलाके में पहुंच गया था, जिसे हमारी टीम ने रेस्क्यू कर एक कैंप में रखा है। चार सिंगों वाला यह हिरण देश के सुरक्षित वन प्रक्षेत्रों में बहुत कम संख्या में है।

Palamu Tiger Reserve वन्य जीव अभयाण्य में अब हिरण, चीतल, तेंदुआ, लकड़बग्घा जैसे जानवरों का परिवार बढ़ गया है।(Unsplash)

Keep reading... Show less