Tuesday, June 15, 2021
Home खेल रहाणे शांत, लेकिन बतौर कप्तान आक्रामक : सचिन तेंदुलकर

रहाणे शांत, लेकिन बतौर कप्तान आक्रामक : सचिन तेंदुलकर

भारत के महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर ने कहा है कि अजिंक्य रहाणे शांत स्वभाव के हैं और उनके इस स्वभाव से उनकी कमजोरी उजागर नहीं होनी चाहिए।

By : कैसर मोहम्मद अली 

भारत के महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर ने कहा है कि अजिंक्य रहाणे शांत स्वभाव के हैं और उनके इस स्वभाव से उनकी कमजोरी उजागर नहीं होनी चाहिए। उन्होंने साथ ही कहा कि रहाणे भी कप्तान कोहली की तरह ही बतौर कप्तान आक्रामक होते हैं।

32 वर्षीय रहाणे नियमित कप्तान विराट कोहली की गैर मौजूदगी में आस्ट्रेलिया के खिलाफ जारी चार मैचों की टेस्ट सीरीज के बाकी बचे तीन मैचों में भारतीय टीम की कप्तानी करेंगे क्योंकि कोहली अपने पहले बच्चे के जन्म के कारण स्वदेश लौट आए हैं। रहाणे का कप्तान के रूप में शतप्रतिशत रिकॉर्ड रहा है। उन्होंने अब तक दो टेस्ट मैचों की भारत की कप्तानी की है और दोनों में भारत ने जीत दर्ज की है। ये दोनों मैच उन्होंने 2017 में धर्मशाला में आस्ट्रेलिया के खिलाफ ही जीता था।

तेंदुलकर ने आईएएनएस से कहा, “अजिंक्य पहले भी भारत की कप्तानी कर चुके हैं और उनके शांत रहने का मतलब यह नहीं है कि वे आक्रामक नहीं है। आक्रामकता दिखाने का हर किसी का अपना अलग-अलग तरीका होता है। कोई आक्रामकता नहीं दिखाता है, तो इसका मतलब यह नहीं है कि वह आक्रामक नहीं है। उदाहरण के लिए चेतेश्वर पुजारा-वह काफी शांत स्वभाव के हैं। लेकिन उनकी शारीरिक भाषा खेल पर होती है। इसका मतलब यह नहीं कि पुजारा किसी से कम है।” 47 वर्षीय तेंदुलकर ने कहा कि कप्तान के रूप में रहाणे की रणनीति कोहली से अलग हो सकती है, लेकिन उनका और उनकी टीम का एक ही लक्ष्य होगा-मैच जीतना।

भारत के महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर । (Wikimedia Commons )

उन्होंने कहा, ” प्रत्येक व्यक्ति के पास प्रतिक्रिया देने और स्थितियों पर प्रतिक्रिया करने का अपना तरीका है, लेकिन मैं आपको आश्वस्त कर सकता हूं कि आपकी मंजिल एक है। उनके पास वहां पहुंचने के लिए अलग-अलग रास्ते हैं और यह है कि वे भारत को कैसे जीत दिला सकते हैं। इसलिए, अजिंक्य की अगल शैली और अलग रणनीति होगी। यह टीम प्रबंधन पर निर्भर करता है कि वे कैसे योजना बनाते हैं और कैसे उसे लागू करते हैं।”

यह भी पढ़ें :भारत को टेस्ट मैच जीतना है तो कुछ अद्भुत करना होगा : सचिन तेंदुलकर

रहाणे ने पहले टेस्ट की पहली पारी में 42 रन बनाए थे जबकि दूसरे टेस्ट में वह खाता भी नहीं खोल सके थे। हालांकि तेंदुलकर को उम्मीद है कि रहाणे अपनी के जरिए टेस्ट सीरीज में सफल होंगे। तेंदुलकर ने कहा, ” वह अनुभवी खिलाड़ी हैं। वह काफी लंबे समय से हैं और विदेशों में उन्होंने अच्छे रन बनाए हैं। यह केवल क्रीज पर समय बिताने की बात है। मुझे लगता है कि उनके अंदर दबाव को झेलने की क्षमता है और वो ऐसा कर सकते हैं।” (आईएएनएस)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,623FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी