Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

महिलाओं के खिलाफ अत्याचार को कम करने का फैसला किया है : रेलवे

ट्रेनों में महिला यात्रियों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए भारतीय रेलवे ने कहा कि, उसने ट्रेनों और रेलवे परिसर में महिलाओं के खिलाफ अपराध को रोकने के लिए सभी जोनल रेलवे को दिशा-निर्देश जारी किए हैं।

ट्रेनों में महिला यात्रियों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए भारतीय रेलवे (Indian Railway) ने शनिवार को कहा कि उसने ट्रेनों और रेलवे परिसर में महिलाओं (Womens) के खिलाफ अपराध को रोकने के लिए सभी जोनल रेलवे (Zonal railway) को दिशा-निर्देश जारी किए हैं। रेल मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने कहा कि लगभग 2.3 करोड़ यात्री प्रतिदिन भारतीय रेल से यात्रा करते हैं, जिनमें से 20 प्रतिशत महिलाएं हैं। उन्होंने कहा कि हाल के दिनों में ट्रेनों और रेलवे परिसरों में महिलाओं के खिलाफ अपराध की घटनाएं चिंता का सबब रही हैं।


अधिकारी ने कहा कि रेलवे ने महिला यात्रियों की सुरक्षा के लिए कुछ उपाय करने और रेलवे में महिलाओं के खिलाफ अत्याचार को कम करने का फैसला किया है।

प्रवक्ता ने कहा कि रेलवे ने ट्रेनों (Trains) में और रेलवे परिसर में महिलाओं के खिलाफ अपराध की घटनाओं को रोकने के लिए सभी जोनल रेलवे और उत्पादन इकाइयों को दिशा-निर्देश जारी किए हैं।

उन्होंने कहा कि रेलवे की कार्य योजना में अल्पकालिक के साथ-साथ दीर्घकालिक उपाय भी शामिल हैं। बिना किसी देरी के प्राथमिकता पर मौजूदा संसाधनों से अल्पकालिक योजनाओं को तुरंत लागू किया जाना चाहिए। इनमें संदिग्धों पर नजर रखना, ड्यूटी अधिकारियों और कर्मचारियों द्वारा गश्ती लगाने के दौरान घटना की आशंका वाले स्थानों पर नियमित दौरा शामिल हो सकता है।

महिलाओं की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए निवारक उपायों पर चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि रेलवे स्टेशनों (Railway stations), सर्कुलेटिंग एरिया, पार्किंग (Parking), फुट ओवर ब्रिज (एफओबी), एप्रोच रोड, प्लेटफॉर्म (Platform) के छोर, यार्ड, वाशिंग लाइन, डेमू / ईएमयू कार शेड, सैलून साइडिंग, रखरखाव डिपो आदि सभी संवेदनशील स्थानों को कवर करते हुए उचित प्रकाश व्यवस्था सुनिश्चित की जानी चाहिए।

रेलवे निवारक योजना का उद्देश्य प्लेटफार्मों या याडरें, परित्यक्त क्वार्टरों, पृथक स्थानों पर इमारतों पर भी ध्यान केंद्रित करना है क्योंकि इन स्थानों पर गार्ड नहीं होते। उन्होंने कहा कि इंजीनियरिंग विभाग के परामर्श से ऐसी संरचनाओं को तत्काल ध्वस्त किया जाना चाहिए।

अधिकारी ने कहा कि जब तक उन्हें ढहाया नहीं जाता है तब तक उन पर नियमित रूप से रात के समय या उस समय नजर रखी जानी चाहिए जब वहां लोग कम होते हों। ट्विटर

भारतीय रेलवे ने महिला यात्रियों की सुरक्षा के लिए कुछ उपाय करने का फैसला किया है। (ट्विटर)

प्रवक्ता ने कहा कि अनाधिकृत प्रवेश और निकासों को भी बंद किया जाना चाहिए। स्टेशनों के यार्ड या गड्ढों या आस-पास के रेलवे क्षेत्र को अवांछित वनस्पतियों से साफ रखना चाहिए जो असामाजिक तत्वों के छिपने के लिए कवर प्रदान कर सकते हैं।

रेलवे की योजना वेटिंग रूम (Waiting room) पर भी केंद्रित है। योजना के मुताबिक, ये अप्रयुक्त नहीं रहने चाहिए और व्यक्तियों को उचित प्रविष्टि के बाद वेटिंग रूम में प्रवेश करने की अनुमति दी जानी चाहिए, विशेष रूप से रात में और ऐसे समय में जब यात्रियों की न्यूनतम उपस्थिति हो। ड्यूटी अधिकारी द्वारा इसका औचक निरीक्षण भी किया जाना चाहिए।

उन्होंने कहा कि ट्रेनों (Trains) और रेलवे परिसर में बिना पहचान पत्र के किसी भी कर्मचारी को जाने की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए।

रोकथाम योजना में रेलयार्ड (Raiilyard) और कोचिंग डिपो में उचित पहचान पत्र के बिना लोगों के प्रवेश पर रोक लगाना भी शामिल है।

अधिकारी ने कहा कि स्टेशन परिसर में रेलवे द्वारा दी जा रही मुफ्त वाईफाई इंटरनेट (Wifi internet) सेवाओं के जरिए पोर्न देखने वाले लोगों पर नजर रखने के लिए रेलवे कर्मचारियों को इसे रोकने हेतु सेवा प्रदाताओं के साथ संवाद करना होगा|

यह भी पढ़े :- राज्यों में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए सरकार ने एक नई योजना लॉन्च की !

अधिकारी ने कहा कि महिलाओं (Womens) के खिलाफ अपराध के मामलों का उनके तार्किक निष्कर्ष तक पालन किया जाना चाहिए।

अधिकारी ने यह भी कहा कि महिलाओं से छेड़छाड़ की घटनाओं को नियंत्रित करने के लिए जीआरपी और आरपीएफ अधिकारियों को महिलाओं के खिलाफ किसी भी प्रकार के अपराध के बारे में शिकायत प्राप्त करने पर तुरंत आवश्यक कार्रवाई करनी चाहिए।

अधिकारी ने कहा कि सीसीटीवी (CCTV) निगरानी प्रणाली का प्रभावी ढंग से इस्तेमाल किया जाना चाहिए और लगाए गए कैमरों एवं उनके द्वारा कवर किए गए क्षेत्र को समय-समय पर ऑडिट किया जाना चाहिए। (आईएएनएस-SM)

Popular

मोहम्मद खालिद (IANS)

मिलिए झारखंड(Jharkhand) के हजारीबाग निवासी मृतकों के अज्ञात मित्र मोहम्मद खालिद(Mohammad Khalid) से। करीब 20 साल पहले उनकी जिंदगी हमेशा के लिए बदल गई, जब उन्होंने सड़क किनारे एक मृत महिला को देखा। लोग गुजरते रहे लेकिन किसी ने ध्यान नहीं दिया।

हजारीबाग में पैथोलॉजी सेंटर चलाने वाले खालिद लाश को क्षत-विक्षत देखकर बेचैन हो गए। उन्होंने एक गाड़ी का प्रबंधन किया, एक कफन खरीदा, मृत शरीर को उठाया और एक श्मशान में ले गए, बिल्कुल अकेले, और उसे एक सम्मानजनक अंतिम संस्कार(Last Rites) दिया। इस घटना ने उन्हें लावारिस शवों का एक अच्छा सामरी बना दिया, और तब से उन्होंने लावारिस शवों को निपटाने के लिए इसे अपने जीवन का एक मिशन बना लिया है।

Keep Reading Show less

भारत आज स्टार्टअप की दुनिया में सबसे अग्रणी- मोदी। (Wikimedia Commons)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी(Narendra Modi) ने आज अपने "मन की बात"("Mann Ki Baat") कार्यक्रम में देशवासियों से बात करते हुए स्टार्टअप के महत्व पर ज़ोर दिया। प्रधानमंत्री ने कहा की जो युवा कभी नौकरी की तलाश में रहते थे वे आज नौकरी देने वाले बन गए हैं क्योंकि स्टार्टअप(Startup) भारत के विकास की कहानी में महत्वपूर्ण मोड़ बन गया है। उन्होंने आगे कहा की स्टार्ट के क्षेत्र में भारत अग्रणी है क्योंकि तक़रीबन 70 कंपनियों ने भारत में "यूनिकॉर्न" का दर्जा हासिल किया है। इससे वैश्विक स्तर पर भारत का कद और मज़बूत होगा।

उन्होंने आगे कहा की वर्ष 2015 में देश में मुश्किल से 9 या 10 यूनिकॉर्न हुआ करते थे लेकिन आज भारत यूनिकॉर्न(Unicorn) की दुनिया में भारत सबसे ऊँची उड़ान भर रहा है।

Keep Reading Show less