Tuesday, October 20, 2020
Home खेल धोनी के बाद सुरेश रैना ने भी साझा किया प्रधानमंत्री का खत,...

धोनी के बाद सुरेश रैना ने भी साझा किया प्रधानमंत्री का खत, कहा- “धन्यवाद नरेंद्र मोदी जी”

मोदी ने अपने पत्र में लिखा, "पीढ़ियां न सिर्फ आपको एक अच्छे बल्लेबाज के रूप में याद करेंगी बल्कि एक उपयोगी गेंदबाज के तौर पर भी आपकी भूमिका को भुलाया नहीं जा सकेगा।

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हाल ही में अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कहने वाले बल्लेबाज सुरेश रैना की तारीफ की है और कहा है कि रैना कभी अपने लिए नहीं खेले बल्कि हमेशा देश के लिए खेले। रैना ने महेंद्र सिंह धोनी के साथ देश के 74वें स्वतंत्रता दिवस पर अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट की घोषणा की थी।

मोदी ने रैना को संबोधित करते हुए एक पत्र में लिखा, “15 अगस्त को आपने वो फैसला किया जो निश्चित तौर पर आपके जीवन का सबसे मुश्किल फैसला रहा होगा। मैं संन्यास शब्द का इस्तेमाल नहीं करना चाहता क्योंकि आप संन्यास लेने के लिए काफी युवा और ऊजार्वान थे।”

यह भी पढ़ें: रोहित शर्मा सहित इन 5 खिलाड़ियों को मिलेगा खेल रत्न, अंतिम मुहर लगनी बाकी

उन्होंने लिखा, “क्रिकेट के मैदान पर एक बहुत यादगार सफर के बाद आप अपने जीवन की दूसरी पारी के लिए तैयारी कर रहे हो।”

33 साल के रैना ने ट्वीट करते हुए प्रधानमंत्री का धन्यवाद दिया।

रैना ने लिखा, “जब हम खेलते हैं तब हम अपने देश के लिए अपना खून पसीना लगा देते हैं। आपके देश के लोग और आपके देश का प्रधानमंत्री जब आपको प्यार दे तो इससे बड़ी शाबाशी कुछ नहीं हो सकती। आपकी तारीफ और शुभकामनाओं के लिए शुक्रिया नरेंद्र मोदी जी। मैं इन्हें कृतज्ञता के साथ ग्रहण करता हूं।”

इससे पहले पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने भी प्रधानमंत्री द्वारा उन्हे लिखा गया ख़त ट्वीटर पर साझा किया था।

रैना ने 13 साल में भारत के लिए 18 टेस्ट, 226 वनडे और 78 टी-20 मैच खेले हैं।

प्राधनमंत्री ने लिखा, “आपने क्रिकेट को जिया है। आपकी खेल में दिलचस्पी मुरादनगर की गलियों से जीवन के शुरुआती पलों में ही शुरू हो गई थी और फिर आपने लखनऊ के मैदान पर अपने पैर जमाए। वहां से आपका सफर बेहद शानदार रहा है जिसमें सबसे अहम भारत का प्रतिनिधित्व करना शामिल है- उस देश का जिसे आप बहुत प्यार करते हैं।”

मोदी ने अपने पत्र में लिखा, “पीढ़ियां न सिर्फ आपको एक अच्छे बल्लेबाज के रूप में याद करेंगी बल्कि एक उपयोगी गेंदबाज के तौर पर भी आपकी भूमिका को भुलाया नहीं जा सकेगा। आप एक ऐसे गेंदबाज थे जिस पर कप्तान मुश्किल समय में भरोसा कर सकता था। आपकी फील्डिंग भी बेहतरीन थी। इस दौर के कुछ सर्वश्रेष्ठ अंतरराष्ट्रीय कैचों में आपका नाम आता है। आपने अपनी फील्डिंग से जितने रन बचाए हैं उनका हिसाब करने में काफी दिन बीत जाएंगे।”

प्रधानमंत्री मोदी का सुरेश रैना को लिखा गया पत्र (Image: Suresh Raina, Twitter)

रैना भारत की पुरुष टी-20 की कप्तानी करने वाले सबसे युवा कप्तान थे। वह भारत की उस टीम का भी हिस्सा थे जिसने पहला अंतर्राष्ट्रीय टी-20 मैच खेला था।

मोदी ने लिखा, “एक बल्लेबाज के तौर पर अपने तीनों प्रारूपों में अपनी अलग पहचान बनाई खासकर टी-20 क्रिकेट में। यह आसान प्रारूप नहीं है। आपकी फुर्ती और सतर्कता इस प्रारूप के लिए सम्पत्ति थी।”

रैना 2011 विश्व कप जीतने वाली भारतीय टीम का भी हिस्सा थे। उन्होंने पूरे विश्व कप में अपनी बल्लेबाजी से टीम में खासा योगदान दिया था।

प्राधनमंत्री ने लिखा, “भारत 2011 विश्व कप में आपके रोल को नहीं भूल सकता, खासकर बाद के मैचों में। मैंने आपको मोटेरा स्टेडियम में आस्ट्रेलिया के खिलाफ खेले गए क्वार्टरफाइनल मैच में देखा था। आपकी पारी ने टीम की जीत में अहम रोल निभाया था।”

यह भी पढ़ें: फीफा विश्व कप क्वालीफायर 2022 के स्थगित होने पर, भारतीय खिलाड़ियों ने जताई खुशी

उन्होंने कहा, “मैं भरोसे के साथ कह सकता हूं कि प्रशंसक आपकी खूबसूरत कवर ड्राइव को मिस करेंगे, जिसको मैंने उस दिन अपनी आंखों से देखा था।”

प्रधानमंत्री ने लिखा, खिलाड़ियों की प्रशंसा मैदान के अलावा मैदान के बाहर भी होती है। आपका जुझारूपन कई युवाओं को प्ररेणा देगा। अपने क्रिकेट करियर के दौरान, आपने चोट और अन्य चुनौतियों का सामना किया लेकिन हर बार चुनौतियों से पार पाई।’

उन्होंने आगे लिखा, “सुरेश रैना हमेशा टीम भावना के साथ खेले। आपने निजी रिकॉर्ड के लिए नहीं बल्कि टीम और भारत के के लिए खेला। मैदान पर आपका जुझारूपन कमाल रहता था और हमने देखा भी कि विपक्षी टीम के विकेट पर आपका जश्न अलग ही होता था।”

प्रधानमंत्री मोदी का सुरेश रैना को लिखा गया पत्र (Image: Suresh Raina, Twitter)

मोदी ने अपने पत्र के अंत में रैना के महिला सशक्तिकरण, स्वच्छ भारत अभियानों में किए गए समर्थन की भी तारीफ की।

उन्होंने लिखा, “समाज के प्रति आपकी चिंता और सहानुभूति कई मौकों पर देखी गई है। आपने महिला सशक्तिकरण और स्वच्छ भारत का समर्थन कर जरूरतमंदों की मदद की।”

उन्होंने लिखा, “मैं इस बात से काफी खुश हूं कि आप भारत के सांस्कृतिक जड़ों से जुड़े हुए हैं। आने वाले दिनों में आप जो भी करेंगे उसमें आप आप उतने ही सफल होंगे जितने क्रिकेट में है, यह मुझे भरोसा है।”

यह भी पढ़ें: ट्रम्प ने आखिर क्यूं कहा कि अगर कमला हैरिस निर्वाचित हुईं तो बाइडन की भी बॉस होंगी?

उन्होंने लिखा, “मुझे उम्मीद है कि आप इस समय का उपयोग प्रियंका, ग्रासिया और रियो के साथ अच्छा समय बिता कर करेंगे।”

मोदी ने अंत में लिखा, “भारत को खेल में एक लीडर बनाने के लिए आप जो कर सकते थो वो करने के लिए शुक्रिया।”(आईएएनएस)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

6,018FansLike
0FollowersFollow
167FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

रियाज़ नाइकू को ‘शिक्षक’ बताने वाले मीडिया संस्थानो के ‘आतंकी सोच’ का पूरा सच

कौन है रियाज़ नायकू? कश्मीर के आतंकवादी संगठन हिजबुल मुजाहिद्दीन का आतंकी कमांडर बुरहान वाणी 2016 में ...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

“कौन दिशा में लेके चला रे बटोहिया..” के सदाबहार गायक जसपाल सिंह की कहानी

“कौन दिशा में लेके चला रे बटोहिया” इस गाने को किसने नहीं सुना होगा। अगर आप 80’ के दशक से हैं...

हाल की टिप्पणी