Monday, June 14, 2021
Home देश देशी-विदेशी परिंदों के लिए नया आश्रयस्थली बना राजधानी जलाशय

देशी-विदेशी परिंदों के लिए नया आश्रयस्थली बना राजधानी जलाशय

By: मनोज पाठक पटना के राजधानी जलाशय के आसपास इन दिनों देशी और विदेशी पक्षियों का जमावड़ा लगा हुआ है। इस जलाशय को देखने के लिए अब लोग भी जुटने लगे हैं। राजधानी के 7 एकड़ में फैले इस Rajdhani reservoir को चार जनवरी से स्कूली बच्चों के लिए खोल दिया गया है। वन विभाग

By: मनोज पाठक

पटना के राजधानी जलाशय के आसपास इन दिनों देशी और विदेशी पक्षियों का जमावड़ा लगा हुआ है। इस जलाशय को देखने के लिए अब लोग भी जुटने लगे हैं।

राजधानी के 7 एकड़ में फैले इस Rajdhani reservoir को चार जनवरी से स्कूली बच्चों के लिए खोल दिया गया है। वन विभाग के अधिकारियों का कहना है कि इस जलाशय में गेडवॉल, नॉर्दर्न शोवलर, लेसर व्हिसिलिंग डक, कॉम्ब डक, लालसर, मूरहेन, कॉरमोरंट और पिनटेल जैसे पक्षी देखे जा रहे हैं। तालाब के चारों ओर पेड़-पौधे लगाकर जंगल जैसा नजारा बनाया गया है। इसमें 73 प्रजाति के पेड़-पौधे लगाए गए हैं।

उन्होंने कहा कि पेड, पौधों की ओर प्रवासी पक्षी आकर्षित हो सकेंगे और यहां अपना डेरा जमा सकें। तालाब और उसके आसपास के क्षेत्र का अभी और सौंदर्यीकरण करवाया जाना है। फिलहाल दिसंबर खत्म होने वाला है और इस तालाब में पक्षियों की भरमार दिख रही है।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बुधवार को इस तालाब का निरीक्षण किया। वह काफी देर तक पक्षियों को निहारते रहे। उन्होंने काफी देर तक दूरबीन से भी पक्षियों को देखा। उन्होंने कहा था कि इस बात की बहुत खुशी है कि इस तालाब में पक्षी आ रहे हैं। पहले इसमें सिर्फ मछली पालन होता था। लेकिन, अब पर्यावरण संरक्षण की ²ष्टि से इसे विकसित किया गया है।

उल्लेखनीय है कि यह मृतप्राय जलाश्य था, जिसे अब विकसित किया गया है। वन क्षेत्र अधिकारी (रेंजर) अरविंद कुमार शर्मा बताते हैं कि तालाब के चारों ओर लोगों की सैर के लिए 12 फुट का चौड़ा रास्ता बनाया गया है। यहां आने वाले पर्यटक न केवल दुर्लभ पक्षियों को बहुत करीब से देख सकेंगे बलिक जंगलों के भ्रमण का भी एहसास करेंगे। उन्होंने बताया कि इस जलाशय को अभी बच्चों के लिए खोला गया है।

देशी-विदेशी परिंदों के लिए नया आश्रयस्थली बना राजधानी जलाशय
बिहार के मुख्यमंत्री नितीश कुमार राजधानी जलाशय का जायज़ा लेते हुए।(आईएएनएस)

सोमवार को बड़ी संख्या में बच्चे यहां पुहंचे और तरह-तरह के पक्षियों को देखकर रोमांचित हुए। बताया जा रहा है कि इस जलाशय के आसपास अगस्त-सितंबर से ही पक्षियों का आगमन प्रारंभ हो गया। वन अधिकारियों का कहना है, यहां न केवल सरइबेरियन पक्षी आ रहे हैं बलिक यूरोप और अफ्रीका से भी पक्षी पहुंचे हैं।

यहां विभिन्न तरह के पेड़ पौघे लगाए गए हैं, जिनमें अधिकांश औषधीय पौधे हैं।

यह भी पढ़ें: बेहतर काम के लिए बिहार को ‘डिजिटल इंडिया अवार्ड’, राष्ट्रपति करेंगे सम्मानित

मंदार नेचर क्लब, भागलपुर के संस्थापक और पक्षियों के जानकार अरविंद कुमार मिश्र बताते हैं कि एक साल पहले तक यहां पक्षी नहीं आते थे, लेकिन विभाग द्वारा इस क्षेत्र को पक्षियों के आश्रयस्थली के रूप में विकसित किए जाने के बाद यह क्षेत्र आज पक्षियों के लिए पनाहगार बना हुआ है।

उन्होंने बताया कि प्रवासी पक्षी दिसंबर में गर्म प्रदेशों में आते थे, वे अब नवंबर में आने लगे हैं। ऐसा इसलिए हुआ है क्योंकि इन पक्षियों के मूल प्रदेशों में जबरदस्त बर्फबारी हुई है। वहां भोजन की किल्लत और सभी जलाशयों में बर्फ जमा होने के कारण ये पक्षी यहां आए हैं। प्रजनन काल के दौरान ये सभी पक्षी वापस अपने क्षेत्र लौट जाते हैं।(आईएएनएस)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,623FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी