Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
राजनीति

भाजपा ने शुरू की मिशन 2022 की तैयारियां

राष्ट्रीय कार्यकारिणी ने दिखाया कि भाजपा अपनी शक्ति का विस्तार करने के लिए राजनीतिक रूप से प्रतिबद्ध है - एक ऐसा गुण जिसे विपक्ष अच्छी तरह से आत्मसात करना चाहेगा।

भाजपा का मेन एजेंडा तीन अंतर सम्बंधित बिंदुओं पर केंद्रित है- सन्देश, संगठन और नेतृत्व (Wikimedia Commons)

भारतीय जनता पार्टी की हाल ही में दिल्ली में हुई राष्ट्रिय कार्यकारिणी की बैठक का प्रमुख एजेंडा तीन अंतर समन्धित बिंदुओं पर केंद्रित था- सन्देश, संगठन और नेतृत्व। जैसा की हम सब जानते हैं की इस साल उत्तर प्रदेश और गुजरात जैसे प्रमुख राज्यों में चुनाव है ऐसे में इन चुनावो में भाजपा की साख दांव पर लगी है और भाजपा इन्हे किसी भी हाल में जीतना चाहेगी।

इस वर्ष कोरोना की दूसरी लहर में कथित कुप्रबंधन के कारण मोदी सरकार की बहुत आलोचना हुई। अब जैसे की चुनाव नज़दीक हैं तो भाजपा अब इस आलोचना को दूर करने के तरीके की खोज में जुट गई है। भाजपा उच्च टीकाकरण, कोरोना काल के दौरान गरीबों को मुफ्त अनाज और वैक्सीन के ऊपर विपक्ष द्वारा फैलाई गई अफवाओं को आलोचना दूर करने के तरीके के तौर पर इस्तेमाल कर सकता है।


हमने अक्सर देखा है की भाजपा अपने चुनावी कैंपेन में राज्य के मुद्दों से ज़्यादा राष्ट्रीय मुद्दों को तरजीह देती है ऐसे जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 का हटना एक दफा फिर भाजपा का एक प्रमुख मुद्दा हो सकता है। हमने यह भी देखा की भाजपा राष्ट्रीय सुरक्षा के मुद्दे को भी अत्यधिक तरजीह देती है ऐसे में अगर प्रधानमंत्री मोदी चुनावी मंच से पाकिस्तान को चेतावनी दे दें तो इसपर हमें आश्चर्य नहीं करना चाहिए।

हमने पिछले दिनों तमाम अफवाहें सुनी की पार्टी के कई नेता उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ सहज महसूस नहीं करते लेकिन बैठक में पार्टी ने यह सन्देश दे दिया की आगामी आने वाले पांच राज्यों के चुनाव में पार्टी ने अपना भार योगी आदित्यनाथ पर दाल दिया है और खासकर उत्तर प्रदेश का नेतृत्व योगी आदित्यनाथ ही करने वाले हैं। यह सन्देश जितना पार्टी के बहार वालों के लिए ज़रूरी है उतना ही पार्टी के अंदर वालों के लिए भी।

\u0928\u0930\u0947\u0902\u0926\u094d\u0930 \u092e\u094b\u0926\u0940', Narendra Modi बीते कई वर्षों से नरेंद्र मोदी देश के सबसे लोकप्रिय नेता हैं (Wikimedia Commons)


हमने अक्सर देखा है की भाजपा जब भी अपना चुनावी घोषणा पत्र या संकल्प पत्र जारी करती है तो उसमे भाजपा के मुख्यमंत्रियों से ज़्यादा प्रधानमंत्री मोदी की प्रशंसा होती है। यह किसी से नहीं छुपा है की प्रधानमंत्री मोदी देश के सबसे लोकप्रिय नेता हैं जोकि भाजपा की सबसे बड़ी ताकत है लेकिन हर बार सिर्फ एक व्यक्ति-विशेष पर निर्भर रहना यह ना तो भाजपा के लिए ना ही भारतीय राजनीति के लिए अच्छा है। यह एक ऐसी गलती यही जोकि पूर्व में कई राजनितिक दलों ने की है।

यह भी पढ़ें- जानें महापर्व छठ पूजा क्यों है बाकि त्यौहारों से खास

संगठनात्मक मोर्चे पर, पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा अपने पूर्ववर्ती अमित शाह के बूथ समितियों के स्तर पर पार्टी की ताकत बनाने पर ध्यान केंद्रित करने की उम्मीद कर रहे हैं। यह संगठनात्मक ताकत कुछ हद तक लोकप्रिय असंतोष को बेअसर करने में एक भूमिका निभाती है, और यही कारण है कि पीएम मोदी ने पार्टी कार्यकर्ता पर नागरिकों के लिए सेतु के रूप में ध्यान केंद्रित किया।

पार्टी ने भाजपा के हालिया राजनीतिक झटके (विशेष रूप से पश्चिम बंगाल) को कम करके अपने कार्यकर्ताओं के मनोबल को बढ़ाने की उम्मीद की, और इसके निरंतर विस्तार की ओर इशारा किया, भले ही कांग्रेस का समर्थन खोना जारी है। लेकिन, मूल रूप से, राष्ट्रीय कार्यकारिणी ने दिखाया कि भाजपा अपनी शक्ति का विस्तार करने के लिए राजनीतिक रूप से प्रतिबद्ध है - एक ऐसा गुण जिसे विपक्ष अच्छी तरह से आत्मसात करना चाहेगा।

Input- Various Source Edited By- Saksham Nagar

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें!

From Your Site Articles

Popular

मोहम्मद खालिद (IANS)

मिलिए झारखंड(Jharkhand) के हजारीबाग निवासी मृतकों के अज्ञात मित्र मोहम्मद खालिद(Mohammad Khalid) से। करीब 20 साल पहले उनकी जिंदगी हमेशा के लिए बदल गई, जब उन्होंने सड़क किनारे एक मृत महिला को देखा। लोग गुजरते रहे लेकिन किसी ने ध्यान नहीं दिया।

हजारीबाग में पैथोलॉजी सेंटर चलाने वाले खालिद लाश को क्षत-विक्षत देखकर बेचैन हो गए। उन्होंने एक गाड़ी का प्रबंधन किया, एक कफन खरीदा, मृत शरीर को उठाया और एक श्मशान में ले गए, बिल्कुल अकेले, और उसे एक सम्मानजनक अंतिम संस्कार(Last Rites) दिया। इस घटना ने उन्हें लावारिस शवों का एक अच्छा सामरी बना दिया, और तब से उन्होंने लावारिस शवों को निपटाने के लिए इसे अपने जीवन का एक मिशन बना लिया है।

Keep Reading Show less

भारत आज स्टार्टअप की दुनिया में सबसे अग्रणी- मोदी। (Wikimedia Commons)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी(Narendra Modi) ने आज अपने "मन की बात"("Mann Ki Baat") कार्यक्रम में देशवासियों से बात करते हुए स्टार्टअप के महत्व पर ज़ोर दिया। प्रधानमंत्री ने कहा की जो युवा कभी नौकरी की तलाश में रहते थे वे आज नौकरी देने वाले बन गए हैं क्योंकि स्टार्टअप(Startup) भारत के विकास की कहानी में महत्वपूर्ण मोड़ बन गया है। उन्होंने आगे कहा की स्टार्ट के क्षेत्र में भारत अग्रणी है क्योंकि तक़रीबन 70 कंपनियों ने भारत में "यूनिकॉर्न" का दर्जा हासिल किया है। इससे वैश्विक स्तर पर भारत का कद और मज़बूत होगा।

उन्होंने आगे कहा की वर्ष 2015 में देश में मुश्किल से 9 या 10 यूनिकॉर्न हुआ करते थे लेकिन आज भारत यूनिकॉर्न(Unicorn) की दुनिया में भारत सबसे ऊँची उड़ान भर रहा है।

Keep Reading Show less