Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
राजनीति

पहले की सरकारें लूटते हुए नहीं थकती थी, हम काम करते नहीं थकते- नरेंद्र मोदी

यूपी के महोबा में 32 अरब 64 करोड़ 74 हजार की परियोजनाओं का उद्घाटन करते समय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी विपक्ष पर जमकर बरसे।

नरेंद्र मोदी (Wikimedia Commons)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी(Narendra Modi) ने शुक्रवार को महोबा(Mahoba) में 32 अरब 64 करोड़ 74 हजार लागत की परियोजनाओं का उद्घाटन और शिलान्यास किया। इस मौके पर उन्होंने विपक्ष पर जमकर निशाना साधा।

प्रधानमंत्री ने कहा, "बुन्देलखंड(Bundelkhand) के लोगों ने आजतक उन्हें लूटने वाली सरकारें देखी हैं आज वे उनके विकास के लिए काम करने वाली सरकार को देख रहे हैं। वे उत्तर प्रदेश को लूट कर नहीं थकते थे हम काम करके नहीं थक रहे हैं बुंदेलखंड को लूटकर पहले की सरकार चलाने वालों ने अपने परिवार का भला किया। आप भले ही बूँद-बूँद को तरसते रहे लेकिन इसमें भी उन्हें कोई सरोकार नहीं था।"


महोबा में पेयजल परियोजना का उद्घाटन करते समय प्रधानमंत्री ने आगे कहा, "किसानों को हमेशा समस्याओं में उलझाए रखना ही कुछ राजनीतिक दलों का आधार रहा है। वह लोग समस्याओं की राजनीति करते हैं और हम समाधान की राष्ट्रनीति करते हैं। केन-बेतवा लिंक का समाधान भी हमारी ही सरकार ने निकाला है, सभी पक्षों से संवाद करके रास्ता निकाला है।"

प्रधानमंत्री ने कहा कि परिवारवादियों की सरकारें किसानों को सिर्फ अभाव में रखना चाहती थीं। वो किसानों के नाम से घोषणाएं करते थे, लेकिन किसान तक पाई भी नहीं पहुंचती थी। जबकि पीएम किसान सम्मान निधि से हमने अब तक 1 लाख 62 हजार करोड़ रुपए सीधे किसानों के बैंक खातों में भेजे हैं।

narendra modi, mahoba, bundelkhand नरेंद्र मोदी ने इस मौके पर विपक्ष पर जमकर निशाना साधा (Pixabay)


कहा, मां नर्मदा और सरदार सरोवर के आशीर्वाद से जैसी सफलता हमने गुजरात में पाई वैसी ही सफलता बुंदेलखंड में पाने के लिए हम दिन रात जुटे हैं। हमारे गुजरात के कच्छ में भी पलायन होता था और देश में जनसंख्या बढ़ती थी और कच्छ की जनसंख्या कम होती थी। जब हमें मौका मिला तो आज कच्छ में लोग आकर अपना भाग्य आजमा रहे हैं।

कहा कि समय के साथ यही क्षेत्र पानी की चुनौतियों और पलायन का केंद्र कैसे बन गया? क्यों इस क्षेत्र में लोग अपनी बेटी को ब्याहने से कतराने लगे, क्यों यहां की बेटियां पानी वाले क्षेत्र में शादी की कामना करने लगीं। इन सवालों के जवाब महोबा के लोग, बुंदेलखंड के लोग जानते हैं।

उन्होंने कहा कि 2017 में योगी सरकार(Yogi Government) आने के बाद अर्जुन सहायक परियोजना पर काम शुरू किया गया। बीते 7 सालों में हम कैसे सरकार को दिल्ली के बंद कमरों से निकालकर देश के कोने-कोने में ले आए हैं, महोबा उसका साक्षात गवाह है। ये धरती ऐसी योजनाओं, ऐसे फैसलों की साक्षी रही है, जिन्होंने देश की गरीब माताओं-बहनों-बेटियों के जीवन में बड़े और सार्थक बदलाव किए हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि महोबा का क्षेत्र तो सैंकड़ों वर्ष पहले जल संरक्षण और प्रबंधन का उत्तम माडल हुआ करता था। बुंदेल, परिहार और चंदेल राजाओं के काल में यहां तालाबों और सरोवरों पर जो काम हुआ वह आज भी जल संरक्षण का एक बेहतरीन उदाहरण है। सिंध, बेतवा, केन जैसी नदियों के पानी ने बुंदेलखंड को समृद्धि और प्रसिद्धि भी दी। यही बुंदेलखंड का चित्रकूट की धरती ने प्रभु राम को आशीर्वाद दिया और वन संपदा ने उनका साथ दिया। लेकिन सवाल यह है कि कुछ समय बाद यही क्षेत्र पानी की चुनौतियां और पलायन का केंद्र कैसे बन गया।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि साथियों इन लोगों ने बुंदेलखंड के साथ जैसा बर्ताव किया उसे यहां के लोग कभी भी भूल नहीं सकते। नलकूप हैंडपंप की बातें तो बहुत हुईं लेकिन पहले की सरकारों ने नहीं बताया कि भूजल के अभाव में उससे पानी कैसे आएगा। ताल-तलैया के नाम पर फीते बहुत काटे लेकिन हुआ क्या मुझसे बेहतर आप जानते हैं। बांधों और तालाबों के नाम पर खुदाई की योजनाओं में कमीशन, सूखा राहत में घोटाले, बुंदेलखंड को लूटकर पहले की सरकार चलाने वालों ने अपने परिवार का भला किया।

यह भी पढ़ें-
झांसी की रानी लक्ष्मीबाई: जाओ रानी याद रखेंगे ये कृतज्ञ भारतवासी|

उन्होंने कहा कि दिल्ली और यूपी में लंबे समय तक शासन करने वालों ने इस क्षेत्र को उजाड़ने में कोई कसर नहीं छोड़ी। यहां के संसाधनों को कैसे माफिया के हवाले किया गया है, यह किसी से छिपा नहीं है। अब देखिये जब इन्हीं माफिया पर यूपी में बुलडोजर चल रहा है तो कुछ लोग हाय तौबा मचा रहे हैं। ये लोग कितनी भी तौबा मचा लें, यूपी के विकास के काम बुंदेलखंड के विकास के काम रुकने वाले नही हैं

Input-IANS ; Edited By- Saksham Nagar

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें

Popular

भारत के पूर्व मुख्य कोच रवि शास्त्री (File Photo)

भारत के पूर्व मुख्य कोच रवि शास्त्री(Ravi Shastri) ने सोमवार को राष्ट्रीय टीम और कप्तान विराट कोहली(Virat Kohli) की टेस्ट क्रिकेट को अपनाने और 'पिछले पांच वर्षो में फॉर्मेट के राजदूत' होने के लिए प्रशंसा की। मुंबई(Mumbai) में सीरीज के फाइनल में विश्व टेस्ट चैंपियंस(WTC) पर 372 रन की जीत के बाद न्यूजीलैंड को हराकर टीम इंडिया ने आईसीसी रैंकिंग में शीर्ष स्थान हासिल किया।


Keep Reading Show less

विशाल गर्ग (Twitter)

बेटर डॉट कॉम(Better.com) के भारतीय मूल(Indian Origin) के सीईओ विशाल गर्ग(Vishal Garg) तब से सुर्खियां बटोर रहे हैं, जब उन्होंने जूम कॉल पर 900 से अधिक कर्मचारियों, लगभग 9 प्रतिशत कर्मचारियों को अचानक निकाल दिया।

कथित तौर पर कर्मचारियों में से एक द्वारा रिकॉर्ड किए गए अब वायरल वीडियो में, गर्ग को पिछले बुधवार को यूएस-आधारित कंपनी के कर्मचारियों को यह कहते हुए सुना जा सकता है कि उन्हें बाजार की दक्षता, प्रदर्शन और उत्पादकता पर निकाल दिया जा रहा है।

Keep Reading Show less

शिया वक़्फ़ बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष वसीम रिज़वी ने आज हिन्दू धर्म अपना लिया। (Twitter)

उत्तर प्रदेश शिया वक्फ बोर्ड(Shia Waqf Board) के पूर्व अध्यक्ष वसीम रिजवी(Wasim Rizvi) ने सोमवार को हिंदू धर्म(Hindu Religion) (जिसे सनातन धर्म भी कहा जाता है) अपना लिया। एक दैनिक समाचार वेबसाइट की रिपोर्ट के अनुसार, उन्होंने अनुष्ठान के तहत डासना देवी मंदिर में स्थापित शिव लिंग पर दूध चढ़ाया।

समारोह डासना देवी मंदिर के मुख्य पुजारी नरसिंहानंद सरस्वती की उपस्थिति में सुबह 10.30 बजे शुरू हुआ, वैदिक भजनों का जाप किया गया क्योंकि रिजवी ने इस्लाम छोड़ दिया और एक यज्ञ के बाद हिंदू धर्म में प्रवेश किया। वह त्यागी समुदाय से जुड़े रहेंगे। उनका नया नाम जितेंद्र नारायण सिंह त्यागी होगा।

Keep reading... Show less