मंदिर यात्रा, देशभक्ति और नारे; 'आप' चली है हिंदुत्व कार्ड हथियाने!

दिल्ली की सत्ताधारी आम आदमी पार्टी (आप) के विधायकों ने बजट सत्र के दौरान पहली बार 'जय श्री राम' का जाप किया।
 | 
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल।(फाइल फोटो)

By: प्रवीण द्विवेदी

दिल्ली की सत्ताधारी आम आदमी पार्टी (AAP) के विधायकों ने बजट सत्र के दौरान पहली बार 'जय श्री राम' का जाप किया, जो आठ मार्च को शुरू होकर 12 मार्च को समाप्त हुआ है। हालांकि इससे भाजपा(BJP) विधायक दूर ही रहे और यहां तक कि उन्होंने इन नारों के बीच चैंबर छोड़ने का फैसला किया। आप, जो अब तक एक हिंदू(Hindu) टैग पाने को लेकर विपरीत विचार रखती थी, उसने इस बार एक देशभक्ति बजट प्रस्तुत किया।

20 मार्च को 2021-22 के लिए बजट पेश करते हुए, वित्त विभाग की जिम्मेदारी संभालने वाले उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने वार्षिक बजट को देशभक्ति बजट करार दिया और कहा कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल(Arvind Kejriwal) के नेतृत्व में दिल्ली सरकार(Delhi Government) ने रामराज्य(RamRajya) के 10 सिद्धांतों को अपनाया है। उन्होंने पिछले छह वर्षों के दौरान अपनी पार्टी के विकास कार्यो का हवाला देते हुए अपने दावों को सही ठहराने के लिए सभी प्रयास किए। आप ने सत्र के पहले दिन से ही उपराज्यपाल के अभिभाषण के ठीक बाद विधानसभा में देशभक्ति का माहौल बनाने की कोशिश की और यह देखा जाना बाकी है कि देशभक्ति और रामराज्य का भारतीय जनता पार्टी (BJP) के खिलाफ उपयोग कितना प्रभावी होगा।

केजरीवाल(Arvind Kejriwal) ने गुजरात के सूरत की अपनी हालिया यात्रा के दौरान, जहां उनकी पार्टी ने नगर निकाय चुनावों में अप्रत्याशित प्रदर्शन किया है, कहा था कि लोगों ने आप को न केवल गुजरात में, बल्कि कई अन्य चुनावी राज्यों में भी वैकल्पिक रूप से लेना शुरू कर दिया है। आप विधायक और पार्टी प्रवक्ता सौरव भारद्वाज ने कहा कि पार्टी ने अपनी उपलब्धियों पर प्रकाश डाला और अपने विकास कार्यों को देशभक्ति के साथ जोड़ा, यह सोचकर कि विपक्ष (BJP) इसका समर्थन करेगा। हालांकि, उन्होंने कहा कि भाजपा(BJP) की प्रतिक्रिया ने उन्हें चकित कर दिया है।

AAP
केजरीवाल सरकार हिन्दुओं को लुभाने की जद्दोजहद में।(फाइल फोटो)

उन्होंने कहा, "हम यह देखकर आश्चर्यचकित थे कि भाजपा विधायकों ने देशभक्ति या राम राज्य के नारे लगाने पर ध्यान ही नहीं दिया। ऐसा लगता है कि भाजपा नेतृत्व को अभी यह तय करना है कि आप की देशभक्ति का विरोध करना है या फिर इसका विरोध करना है।" आईएएनएस द्वारा यह पूछे जाने पर कि क्या पार्टी अन्य राज्यों में अपनी देशभक्ति की रणनीति अपनाएगी, इस पर भारद्वाज ने कहा, "यह आप की राजनीतिक रणनीति नहीं है। यह भाजपा के लिए एक जवाब के रूप में आया है, क्योंकि यह सवाल किया गया है कि क्या केजरीवाल रामभक्त हैं या नहीं। इसलिए, केजरीवाल ने भाजपा का जवाब दिया कि वह हनुमान भक्त हैं और उनकी सरकार रामराज्य के सिद्धांतों का पालन करती है।" हालांकि केजरीवाल और सिसोदिया ने उनकी देशभक्ति का समर्थन नहीं करने को लेकर विधानसभा में और बाहर भाजपा पर निशाना साधा।

यह भी पढ़ें: पहले चंदा गायब और अब 500 रुपए में भीड़!

दिल्ली विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष रामवीर सिंह बिधूड़ी ने आईएएनएस को बताया कि भाजपा आप की देशभक्ति के सिलेबस का स्वागत करेगी, अगर वे मोदी सरकार की राम मंदिर के निर्माण और पाकिस्तान के खिलाफ सर्जिकल स्ट्राइक सहित उपलब्धियों को मानें, अन्यथा, उनकी देशभक्ति का सिलेबस पूरी तरह से देशभक्ति का सिलेबस नहीं होगा।" उन्होंने कहा, "अगर वे भगवान राम के भाजपा के मार्ग को अपनाते हैं तो हम इसका स्वागत करेंगे, लेकिन उनकी (आप) रणनीति पीएम मोदी और भाजपा की उपलब्धियों को शामिल किए बिना अधूरी रहेगी।"

राम मंदिर का निर्माण पूरा होने के बाद केजरीवाल की ओर से वरिष्ठ नागरिकों को अयोध्या ले जाने के बयान पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए बिधूड़ी ने कहा कि भाजपा इस कदम का विरोध नहीं करेगी, क्योंकि अगर वे ऐसा करते हैं यह तो हमारे लिए एक तरह से जीत की स्थिति होगी। उन्होंने कहा, "केजरीवाल को वरिष्ठ नागरिकों को अयोध्या ले जाना चाहिए, मैं व्यक्तिगत रूप से बहुत खुश होऊंगा। लेकिन, अयोध्या रवाना होने से पहले, उन्हें इस सपने को सच करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को धन्यवाद देना चाहिए।"(आईएएनएस-SHM)