Sunday, June 13, 2021
Home इतिहास बिस्मिल की फांसी ने गोरखपुर को बना दिया क्रांतिकारियों का गढ़

बिस्मिल की फांसी ने गोरखपुर को बना दिया क्रांतिकारियों का गढ़

By: विवेक त्रिपाठी

 चौरी-चौरा शताब्दी वर्ष के उद्घाटन समारोह में गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि यह महज एक थाने में आगजनी की घटना नहीं थी। यह उस आग का नतीजा थी जो वर्षों से लोगों के दिलों में जल रही थी। इसका असर बहुत व्यापक था। इतिहास में भले इस घटना की अनदेखी की गई हो पर बाद के दिनों में आजादी मिलने तक की घटनाएं प्रधानमंत्री की बातों का सबूत हैं। चौरी-चौरा की घटना के बाद गोरखपुर जंगे आजादी की अगुआई करने वाले शीर्ष नेताओं के लिए तीर्थ बन गया।

दस्तावेज के अनुसार 19 दिसंबर 1927 को काकोरी कांड के आरोप में यहां के जेल में हुई रामप्रसाद बिस्मिल की फांसी के बाद तो यह क्रांतिकारी आंदोलन का भी गढ़ बन गया। इन सबसे प्रभावित होकर यहां के लोगों ने नमक आंदोलन से लेकर 1942 की अगस्त क्रांति तक सबमें बढ़चढ़ कर हिस्सा लिया था। 4 अक्टूबर 1929 को गांधीजी का दूसरी बार गोरखपुर आना हुआ। उन्होंने गोला, घुघली, गोरखपुर, महराजगंज, बरहज और चौरी-चौरा में सभाएं कीं। उनका यह दौरा 8 फरवरी 1921 के दौरे से अधिक व्यापक और असरदार था।
 

स्वतंत्रता सेनानियों से सम्मना में डाक टिकट।(Wikimedia Commons)

गांधीजी संभवत: गोला के पास सरयू नदी स्थित बारानगर घाट से आए थे। इस यात्रा में गांधीजी ने गोला में पहली सभा की थी। जेबी कृपालानी की अगुआई में उनका स्वागत हुआ। गोला के बाद बड़हलगंज, गगहा और कौड़ीराम के रास्ते वे गोरखपुर होते हुए तय कार्यक्रम के अनुसार घुघली पहुंचे। उसी दिन वे गोरखपुर लौटे और परेड ग्राउंड पर सभा की। 5 और 6 अक्टूबर को उन्होंने महराजगंज, बरहज बाजार और चौरी-चौरा में भी जनसभाएं कीं। वह साइमन कमीशन के बहिष्कार का दौर था। इसके विरोध में देश भर में काला दिवस मनाया जा रहा था। ऐसे में गांधी ने यहां आकर उस समय चलाए जा रहे विदेशी सामानों और शराब के बहिष्कार और इनकी दुकानों पर दिए जा रहे धरने को और प्रभावी बनाया। 1940 में लालडिग्गी पार्क में जवाहर लाल की जनसभा हुई। फिरंगी हुकुमत ने इसमें दिये गये उनके भाषण को राजद्रोह मानते हुए चार साल की सजा दी। सजा के लिए देहरादून जाने के पहले तीन दिन गोरखपुर के जेल में ही रहे। इसी दौरान दशरथ प्रसाद द्विवेदी ने स्वदेश नामक अखबार के जरिए लोगों में आजादी की अलख जगायी। विश्वनाथ मुखर्जी ने ब्रिटिश हुकूमत के शोषण के खिलाफ मजदूरों में इंकलाब की भावना जगाई। बैरिस्टर शाकिर अली ने नेहरू, भुल्ला भाई देसाई और आसफ अली के साथ मिलकर आजाद हिंद फौज के अधिकारियों और सिपाहियों के खिलाफ चल रहे मुकदमों की पैरवी की। पंडित गौरीशंकर मिश्र, जामिन अली, मौलवी सुभानउल्लाह, शिब्बन लाल सक्सेना, फिराक गोरखपुरी, मुंशी प्रेमचंद्र, शचीद्र नाथ सान्याल, बाबा राघवदास, मधुकर दीघे, शिवरतन लाला बनर्जी, जैसे न जाने कितने ज्ञात और अज्ञात लोगों ने अपने तरीके से आजादी की इस लड़ाई में अपना सब कुछ कुर्बान कर दिया।

बिस्मिल मूलत: शाहजहांपुर के रहने वाले थे। 9 अगस्त 1925 को काकोरी के पास ट्रेन से खजाना लूटने के मामले में वह भी चंद्रशेखर आजाद, मन्मथ नाथ गुप्त, अशफाक उल्लाह, राजेंद्र लाहिड़ी, शचीद्रनाथ सान्याल, केशव चक्रवर्ती, मुरारीलाल, मुकुंदीलाल और बनवारी लाल के साथ अभियुक्त थे। इस आरोप में वह गोरखपुर जेल में बंद थे।

फांसी के तीन दिन पहले बिस्मिल ने अपनी मां और साथी को बेहद मर्मस्पर्शी पत्र लिखा था। मां को लिखे पत्र का मजमून कुछ यूं है – शीघ्र ही मेरी मृत्यु की खबर तुमको सुनाया जाएगा। मुझे यकीन है कि तुम समझ कर धैर्य रखोगी कि तुमहारा पुत्र माताओं की माता भारत माता की सेवा में अपने जीवन को बलिदेवी पर भेंट कर गया।

इसी तरह अशफाक को संबोधित पत्र में उन्होंने लिखा कि, प्रिय सखा..अंतिम प्रणाम! मुझे इस बात का संतोष है कि तुमने संसार में मेरा मुंह उज्जवल कर दिया। जैसे तुम शरीर से बलशाली थे वैसे ही मानसिक वीर और आत्म के भी उच्च सिद्ध हुए। तुमको यह सोच कर संतोष होगा कि जिसने अपना सब कुछ मातृ सेवा के लिए कुर्बान कर दिया उसने अपने प्रिय सखा .को भी इसी मातृ भूमि को भेंट चढ़ा दिया।

यह भी पढ़ें: यह शौर्य गाथा है शहीद वीरांगना रानी अवंतीबाई की

बिस्मिल की फांसी से पूरा गोरखपुर हिल उठा। खद्दर के कफन में लिपटे उनके शव के अंतिम संस्कार में हजारों लोग शामिल हुए। बाबा राघव दास उनकी राख को लेकर बरहज गए।

इतिहास ने जिस महत्वपूर्ण घटना की अनदेखी की वह मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की पहल पर चौरी-चौरा शताब्दी वर्ष के जरिए एक बार फिर लोगों के दिलो-दिमाग पर अमिट रूप से चस्पा हो गई।(आईएएनएस)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,623FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी