Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

विद्यार्थियों का बहुमूल्य वर्ष खराब नहीं होने देगी सरकार : निशंक

डॉ. निशंक ने बताया कि उन्हें पिछले कुछ दिनों से देश भर के अभिभावकों, शिक्षाविदों, विद्यार्थियों के असंख्य मेल मिल रहे हैं जिनमें माता-पिता और छात्रों ने निवेदन किया है कि वे परीक्षा देना चाहते हैं, वे पिछले वर्षों से परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं और किसी भी सूरत में शून्य वर्ष नहीं चाहते।

डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक, केन्द्रीय शिक्षा मंत्री(फ़ाइल फोटो, PIB)

जेईई और एनईईटी (नीट) परीक्षा के आयोजन पर मचे घमासान के बीच केंद्रीय शिक्षा मंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक ने स्पष्ट किया है कि मंत्रालय द्वारा इन दोनों परीक्षाओं के सुरक्षित संचालन के लिए पूरी तैयारियां कर ली गयी है और सरकार परीक्षा आयोजन के लिए कृत संकल्प है। डॉ निशंक ने कहा कि वो प्रतिभाशाली विद्यार्थियों के जीवन में शून्य शैक्षणिक वर्ष नहीं चाहते। उन्होंने कहा कठिनाईयां आती हैं पर जीवन को आगे बढ़ना है, और हम अपने विद्यार्थियों के उज्जवल भविष्य निर्माण के प्रति अत्यंत सजग हैं। बता दें कि जेईई मेन 2020 और नीट, जिसे पहले अप्रैल-मई के लिए निर्धारित किया गया था, स्थगित कर दिया गया था और अब सितंबर में आयोजित किया जा रहा है।

डॉ. निशंक ने बताया कि उन्हें पिछले कुछ दिनों से देश भर के अभिभावकों, शिक्षाविदों, विद्यार्थियों के असंख्य मेल मिल रहे हैं जिनमें माता-पिता और छात्रों ने निवेदन किया है कि वे परीक्षा देना चाहते हैं, वे पिछले वर्षों से परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं और किसी भी सूरत में शून्य वर्ष नहीं चाहते। अपनी अपील में डॉ. निशंक ने सभी छात्रों से अनुरोध किया कि वे पूरी मेहनत से परीक्षा दें और परीक्षा केंद्रों की सुरक्षा के बारे में चिंता न करें।


यह भी पढ़ें: शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल ने नई शिक्षा नीति से जुड़े हर सवाल का दिया जवाब, पढ़ें

शिक्षा के राजनीतिकरण पर दु:ख प्रकट करते हुए डॉ. निशंक ने कहा, मैं अपने सभी विपक्षी साथियों से माननीय सर्वोच्च न्यायालय के आदेशों का पालन करने का अनुरोध करता हूं कि राजनीति को छोड़कर, उन्हें विद्यार्थियों के सुनहरे भविष्य निर्माण में सहयोग करना चाहिए।

नीट और जेईई के मुद्दे पर जहां पूरा विपक्ष परीक्षा टलवाने के लिए हर संभव कोशिश में लगा है, वहीं शिक्षा मंत्री ने आईएएनएस से कहा है कि देश के शिक्षा मंत्री होने के नाते देश के शिक्षार्थियों का भविष्य वो कभी बर्बाद नहीं होने देंगे। उन्होंने कहा कि विपक्ष छात्रों के नाम पर जो राजनीति कर रहा है, वह पूरी तरह अनैतिक है, छात्रों के पीछे छुप कर हो रही ओछी राजीनति सभी छात्र समझते हैं। उन्होंने कहा कि परीक्षा को लेकर वैसे ही काफी तनाव होता है और परीक्षा अगर समय से नहीं होंगी तो ये तनाव लम्बे समय तक बरकरार रहेगा।

शिक्षा मंत्री ने और क्या कहा-

छात्रों का साल बर्बाद नहीं होने देना चाहते:

शिक्षा मंत्री ने कहा कि विद्यार्थी साल भर के लिए इस दिन के लिए जीतोड़ मेहनत करता है और अंत में अगर उसे परीक्षा देने का भी मौका न मिले तो यह उसके प्रति अन्याय होगा। उन्होंने कहा कि छात्र हर हाल में परीक्षा चाहते हैं। प्रवेश परीक्षाओं से छात्रों के भविष्य की दिशा तय होती है, और बार बार परीक्षा तिथि के बढ़ने से छात्रों को न केवल एक अकादमिक वर्ष का नुकसान उठाना पडेगा, बल्कि आगे चलकर उन्हें प्रोफेशनल करियर में भी इसका नुकसान उठाना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि माननीय सुप्रीम कोर्ट ने भी यही कहा है। निशंक ने कहा कि नीट परीक्षा के एडमिट कार्ड डाउनलोड करने वाले स्टूडेंट्स की संख्या हर दिन लगातार बढ़ रही है और अभी तक 19 लाख प्रवेश पत्र डाउनलोड हो चुके हैं, जो इस बात को दशार्ता है कि विद्यार्थियों में परीक्षा के लिए जबरदस्त उत्साह है।

शिक्षाविदों की राय:

शिक्षा मंत्री ने कहा कि भारत और विदेश के 150 से ज्यादा शिक्षाविदों, जिसमें दिल्ली विश्वविद्यालय, इग्नू, लखनऊ विश्वविद्यालय, जेएनयू, बीएचयू और आईआईटी दिल्ली के अलावा लंदन विश्वविद्यालय, कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय, येरूशलम के हेब्रू विश्वविद्यालय और इजरायल के बेन गुरियन विश्वविद्यालय के शिक्षाविद शामिल हैं, ने प्रधानमंत्री को पत्र लिख कर कहा है कि संयुक्त प्रवेश परीक्षा जेईई मेंस और राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा नीट को और टालने का मतलब छात्रों के भविष्य के साथ खिलवाड़ करना होगा, क्योंकि इससे उनका एक कीमती साल बर्बाद हो जाएगा। उन्होंने लिखा कि युवाओं के सपनों और भविष्य के साथ किसी भी कीमत पर समझौता नहीं किया जा सकता है। पत्र में परीक्षा स्थगित करने के मामले को विद्यार्थियों के भविष्य के साथ खिलवाड़ बताया गया है। निशंक ने कहा माननीय न्यायालय और नेशनल टेस्टिंग एजेंसी भी कह चुकी है कि बच्चों के एक कीमती साल को यूं ही बर्बाद हो जाना कोई समझदार कदम नहीं होगा। नेशनल टेस्टिंग एजेंसी के अनुसार अगर इसे शून्य वर्ष मान लेते हैं तो हम अगले साल के एक सत्र में दो साल के उम्मीदवारों को कैसे समायोजित कर पाएंगे।

परीक्षा के दौरान सभी सेफ्टी मेजर्स भी फॉलो किए जाएंगे:

निशंक ने कहा कि वो स्वयं इस बात पर नजर रखेंगे कि परीक्षा के दौरान सभी सेफ्टी मेजर्स भी फॉलो किए जाएं। उन्होंने कहा कि एक कमरे में छात्रों की संख्या 24 से घटाकर 12 कर दी गई है, तकरीबन 99 फीसदी कैंडिडेट्स को उनका चुना हुआ टेस्ट सेंटर दिया गया है। जेईई परीक्षा के सेंटर्स 570 से बढ़ाकर 660 कर दिए हैं, जबकि नीट परीक्षा के सेंटर्स 2,846 से बढ़ाकर 3,843 कर दिए गए हैं। इसके अलावा जेईई मेन परीक्षा के लिए नंबर ऑफ शिफ्ट्स भी बढ़ा दी गईं हैं। वहीं, परीक्षा कक्षा के बाहर सामाजिक दूरी और सुरक्षा का अनुपालन सुनश्चित करने के लिए भी पूरी सावधानी बरती जाएगी। (आईएएनएस)

Popular

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद।(PIB)

राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने बुधवार को दोहराया कि भारत सामूहिक स्वास्थ्य और आर्थिक कल्याण सुनिश्चित करने के लिए Covid-19 महामारी के खिलाफ एक निर्णायक और समन्वित प्रतिक्रिया देने के वैश्विक प्रयासों में सबसे आगे रहा है। कोविंद ने यह भी कहा कि दुनिया के सबसे बड़े टीकाकरण अभियान के तहत भारतीयों को अब तक 80 करोड़ से अधिक खुराक मिल चुकी है।

राष्ट्रपति भवन से एक विज्ञप्ति में कहा गया है कि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने बुधवार को एक आभासी समारोह में आइसलैंड, गाम्बिया गणराज्य, स्पेन, ब्रुनेई दारुस्सलाम और श्रीलंका के लोकतांत्रिक गणराज्य के राजदूतों/उच्चायुक्तों से परिचय पत्र स्वीकार किए।

अपना परिचय पत्र प्रस्तुत करने वाले राजदूत निम्न हैं : महामहिम गुडनी ब्रैगसन, आइसलैंड के राजदूत, महामहिम मुस्तफा जवारा, गाम्बिया गणराज्य के उच्चायुक्त, महामहिम जोस मारिया रिडाओ डोमिंगुएज, स्पेन के राजदूत, महामहिम दातो अलैहुद्दीन मोहम्मद ताहा, ब्रुनेई दारुस्सलाम के उच्चायुक्त, महामहिम अशोक मिलिंडा मोरागोडा, श्रीलंका के लोकतांत्रिक समाजवादी गणराज्य के उच्चायुक्त।


इस अवसर पर अपने संबोधन में राष्ट्रपति ने इन सभी राजदूतों को उनकी नियुक्ति पर बधाई दी और उन्हें भारत में एक सफल कार्यकाल के लिए शुभकामनाएं दीं। उन्होंने कहा कि भारत के इन सभी पांच देशों के साथ घनिष्ठ संबंध हैं और भारत इनके साथ शांति, समृद्धि का एक समन्वित दृष्टिकोण साझा करता है।

Keep Reading Show less

भारत का खूबसूरत क्षेत्र कोडाईकनाल।(Unsplash)

भारत के तमिलनाडु राज्य में स्थित कोडाईकनाल एक पर्वतीय नगर है। यह समुद्र तल 2133 मी. की ऊंचाई पर पिलानी नामक पहाड़ पे बसा हैं। ये अपनी प्राकृतिक सुंदरता और शांत वातावरण से सब को मनमोहित कर देता है । खूबसूरत प्राकृतिक दृश्य के कारण इसे भारत का स्विट्जरलैंड भी कहा जाता हैं। यहां पर घूमने का मजा तब बढ़ जाता है, जब मानसून दस्तक देता है, क्योंकि इस समय यहां के झरने वादियां और भी खूबसूरत हो जाते हैं। यहां कुरिंजी नामक एक फूल है जो कि 12 वर्षों में खिलता है, जिससे यहां की पहाड़ियों में सुंदरता और निखरती है और इसकी महक मदहोश कर देने वाली होती है। कोडाईकनाल में प्रकृति की सुंदरता अपने तमाम रूपों में नजर आती है। विशाल चट्टान , शांत झील ,फलों के बगीचे और यहां के हरे भरे दृश्य अपनी सुंदरता की कहानियां व्यक्त करते हैं। मानसून में यह जगह जन्नत सी नजर आती है। यहां पर लोग पिकनिक मनाने , घूमने फिरने , या हनीमून के लिए आते हैं।

\u0915\u094b\u0921\u093e\u0908\u0915\u0928\u093e\u0932 \u090f\u0915 \u092a\u0930\u094d\u0935\u0924\u0940\u092f \u0928\u0917\u0930 तमिलनाडु राज्य में स्थित कोडाईकनाल एक पर्वतीय नगर(wikimedia commons)

Keep Reading Show less

देश भर से जमा की गई 2 लाख से अधिक ईंटें। (IANS)

राम भक्तों द्वारा दी गई और विश्व हिंदू परिषद (विहिप) (Vishwa Hindu Parishad) द्वारा तीन दशक लंबे मंदिर आंदोलन के दौरान देश भर से जमा की गई 2 लाख से अधिक ईंटों का इस्तेमाल अब राम जन्मभूमि स्थल पर भव्य मंदिर का निर्माण के लिए किया जाएगा।

मंदिर ट्रस्ट के सदस्य अनिल मिश्रा ने कहा, "1989 के 'शिलान्यास' के दौरान कारसेवकों द्वारा राम जन्मभूमि पर एक लाख पत्थर रखे गए थे। कम से कम, 2 लाख पुरानी कार्यशाला में रह गए हैं, जिन्हें अब निर्माण स्थल पर स्थानांतरित कर दिया जाएगा। ईंटों पर भगवान राम का नाम लिखा है और यह करोड़ों भारतीयों की आस्था का प्रमाण है।

Keep reading... Show less