Tuesday, December 1, 2020
Home इतिहास "खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी"

“खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी”

आज महिलाओं के सशक्तिकरण की मिसाल रानी लक्ष्मीबाई का जन्मदिन है। रानी लक्ष्मीबाई के शौर्य के चर्चे भारत में ही नहीं बल्कि विश्वभर में होते हैं।

“सिंहासन हिल उठे राजवंशों ने भृकुटी तानी थी,
बूढ़े भारत में भी आई फिर से नयी जवानी थी, 
गुमी हुई आज़ादी की कीमत सबने पहचानी थी, 
दूर फिरंगी को करने की सबने मन में ठानी थी। 

चमक उठी सन सत्तावन में, वह तलवार पुरानी थी, 
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी, 
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी”

सुभद्रा कुमारी चौहान द्वारा रचित यह कविता रानी लक्ष्मीबाई के साहस, शौर्य एवं सूझ-बूझ को दर्शाता है। रानी लक्ष्मीबाई का जीवन उन सभी सोच पर तीखा प्रहार करता है जो यह सोचते हैं कि महिलाओं के भीतर पराक्रम की कमी है। आज के युग में महिलाएं हर वह बुलंदियां अर्जित कर रही हैं जिनका पुरुष केवल स्वप्न देखते हैं। किरण बेदी, बछेंद्री पाल, आरती साहा, साइना नेहवाल यह वह नाम हैं जिन्होंने विश्वभर में भारत के नाम एवं गौरव को ऊंचा किया।

झाँसी की रानी वह वीरांगना थीं जिन्होंने अग्रेजों के दांतों तले चने चबाने पर विवश कर दिया। 19 नवंबर 1828 में बनारस, उत्तरप्रदेश में जन्मी लक्ष्मीबाई का दूसरा नाम मणिकर्णिका है, जिसका अर्थ है कान में पहने जाने वाली मणि और इसी नाम से वाराणसी में एक घाट भी उपस्थित है। युद्ध कौशल और राजनीति में वह पारंगत थीं। इस बात सुबूत है जॉन हेनरी सिलवेस्टर द्वारा लिखित किताब ‘रिकलेक्शंस ऑफ़ द कैंपेन इन मालवा एंड सेंट्रल इंडिया’ में जिसमे वह लिखते हैं कि  “अचानक रानी ज़ोर से चिल्लाई, ‘मेरे पीछे आओ’ वे लड़ाई के मैदान से इतनी तेज़ी से हटीं कि अंग्रेज़ सैनिक अचंभित रह गए। तभी रॉड्रिक ने अपने साथियों से चिल्ला कर कहा, ‘दैट्स दि रानी ऑफ़ झाँसी।” अंग्रेज़ों की तरफ़ से कैप्टन रॉड्रिक ब्रिग्स पहला शख़्स था जिसने रानी लक्ष्मीबाई को अपनी आँखों से लड़ाई के मैदान में लड़ते हुए देखा। उसने देखा कि रानी लक्ष्मीबाई ने मुँह से घोड़े की नाल संभाली है और दोनों हाथों में तलवार लिए अंग्रेजों पर बिजली की तरह गरज रही हैं।

यह भी पढ़ें: “यह है मेरा जवाब”

आज शौर्य एवं पराक्रम को नमन करने का दिवस है और भारत में उन सभी अल्प बुद्धिधारियों को यह समझने की आवश्यकता है कि एक महिला न केवल बड़े से बड़ा काम कर सकती हैं बल्कि वह इस देश की प्रगति में अहम योगदान भी दे रहीं हैं।

POST AUTHOR

Shantanoo Mishra
Poet, Writer, Hindi Sahitya Lover, Story Teller

जुड़े रहें

6,018FansLike
0FollowersFollow
174FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

रियाज़ नाइकू को ‘शिक्षक’ बताने वाले मीडिया संस्थानो के ‘आतंकी सोच’ का पूरा सच

कौन है रियाज़ नायकू? कश्मीर के आतंकवादी संगठन हिजबुल मुजाहिद्दीन का आतंकी कमांडर बुरहान वाणी 2016 में ...

हाल की टिप्पणी