Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
दुनिया

बांग्लादेश की झुग्गी बस्तियों में कोरोना संक्रमण की दर मात्र 6 फीसदी

झुग्गी-झोपड़ियों में रहने के बावजूद बांग्लादेश के श्रमिक नियमित रूप से बीमारी की निगरानी कर रहे हैं और संक्रमण को लेकर काफी सचेत हैं।

बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना। (WIkimedia Commons)

By- सुमी खान

बांग्लादेश में झोपड़पट्टियों (मलिन बस्ती) में रहने वाले लोगों में कोरोनावायरस संक्रमण की दर केवल छह प्रतिशत पाई गई है।


इंस्टीट्यूट ऑफ एपिडेमियोलॉजी डिजीज कंट्रोल एंड रिसर्च एंड इंटरनेशनल सेंटर फॉर डायरियाल डिजीज रिसर्च में पाया गया कि मलिन बस्तियों में संक्रमण की दर अपेक्षाकृत कम है, क्योंकि अधिकांश निवासी जो परिधान श्रमिक (गारमेंट वर्कर) हैं, वह नियमित रूप से बीमारी की निगरानी कर रहे हैं और संक्रमण को लेकर काफी सचेत हैं।

जब मार्च में पहली बार देश में महामारी ने दस्तक दी तो सबसे बड़ा खतरा ढाका में लाखों रेडीमेड गारमेंट (आरएमजी) श्रमिकों और झुग्गियों में रहने वालों को लेकर था।

अकेले ढाका की कोरेल बस्ती (स्लम) में लगभग 3.5 लाख लोग रहते हैं और यहां सैकड़ों लोगों के लिए केवल दो शौचालय हैं।

बांग्लादेश के झुग्गी-झोपड़ियों में रहने वाले बच्चों की सांकेतिक तस्वीर। (Wikimedia Commons)

स्वास्थ्य विशेषज्ञ और शोधकर्ता लेलिन चौधरी ने शनिवार को आईएएनएस को बताया, “उनमें से कोई भी (झुग्गी में रहने वाले) मास्क नहीं पहनते हैं। लेकिन वे कम प्रभावित हुए हैं। इसीलिए ढाका में कोविड-19 को ‘अमीर लोगों की बीमारी’ का नाम दिया गया है।”

उन्होंने कहा, “जो लोग शर्ट और जूते नहीं पहनते हैं और धूप में अधिक समय बिताते हैं, वे प्रकृति के करीब हैं और उच्च प्रतिरक्षा (इम्युनिटी) रखते हैं। जो लोग वातानुकूलित कमरों में रहते हैं और धूप में नहीं रहते तथा अधिक संरक्षित खाद्य पदार्थ खाते हैं, उनकी प्रतिरोधक क्षमता कम होती है।”

यह भी पढ़ें- 2 साल के अंदर खत्म हो सकती है कोविड-19 महामारी : डब्ल्यूएचओ।

आईईडीसीआर के सलाहकार मुश्ताक हुसैन ने कहा, “जो लोग रोजाना कमाकर खाते हैं और आरएमजी क्षेत्र के श्रमिक बड़े पैमाने पर कोविड-19 से प्रभावित नहीं हुए हैं। यह अभी तक मालिकों व परिधान क्षेत्र प्रशासन द्वारा उठाए गए प्रभावी रोकथाम उपायों के कारण संभव हुआ है।”

गाजीपुर के सिविल सर्जन एम. डी. खैरुज्जमान ने आईएएनएस को बताया, “हम झुग्गी-झोपड़ी में रहने वाले लोगों और आरएमजी श्रमिकों के बारे में बहुत चिंतित थे। इसके आधार पर, यह सुनिश्चित करने के लिए प्रभावी कदम उठाए गए कि कारखाने थोड़े समय के भीतर स्वच्छता मानदंडों के अनुपालन में चलें।”

कोरोना वायरस से बचाव के लिए साफ-सफाई का ध्यान रखें। (Pexels)

उन्होंने कहा, “अधिकांश आरएमजी कारखानों ने उचित स्वच्छता मानदंडों का पालन किया है। यही कारण है कि इस क्षेत्र में श्रमिकों के बीच संक्रमण को थोड़े समय में नियंत्रण में लाया गया है। यदि ऐसा नहीं किया गया होता, तो शायद सभी की आशंकाएं सच हो जातीं।”

आईईडीसीआर की नवनियुक्त निदेशक, प्रोफेसर तहमीना शिरीन ने कहा, “आंकड़ों से, हम कह सकते हैं कि परिधान श्रमिकों और झुग्गी निवासियों के बीच संक्रमण दर अपेक्षाकृत कम है।”

विशेषज्ञों का कहना है कि दक्षिण एशियाई पृष्ठभूमि के लोगों में गोरे लोगों की तुलना में एंटी-बॉडी की प्रतिशतता अधिक होती है।(IANS)

Popular

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री और गोरक्षनाथ पीठाधीश्वर योगी आदित्यनाथ (VOA)

बसपा प्रमुख मायावती(Mayawati) की रविवार को टिप्पणी, गोरखनाथ मंदिर की तुलना एक "बड़े बंगले" से करने पर, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ(Yogi Adityanath) ने तत्काल प्रतिक्रिया दी, जिन्होंने उन्हें मंदिर जाने और शांति पाने के लिए आमंत्रित किया।

मुख्यमंत्री, जो मंदिर के महंत भी हैं, ने ट्विटर पर निशाना साधते हुए कहा - "बहन जी, बाबा गोरखनाथ ने गोरखपुर के गोरक्षपीठ में तपस्या की, जो ऋषियों, संतों और स्वतंत्रता सेनानियों की यादों से अंकित है। यह हिंदू देवी-देवताओं का मंदिर है। सामाजिक न्याय का यह केंद्र सबके कल्याण के लिए कार्य करता रहा है। कभी आओ, तुम्हें शांति मिलेगी, ”उन्होंने कहा।

Keep Reading Show less

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया (Wikimedia Commons)

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री(Union Health Minister) मनसुख मंडाविया(Mansukh Mandaviya) ने सोमवार को 40 लाख से अधिक लाभार्थियों के लिए स्वास्थ्य सेवाओं और टेली-परामर्श सुविधा तक आसान पहुंच प्रदान करने के उद्देश्य से एक नया सीजीएचएस वेबसाइट और मोबाइल ऐप लॉन्च किया।

टेली-परामर्श की नई प्रदान की गई सुविधा के साथ, केंद्र सरकार स्वास्थ्य योजना (Central Government Health Scheme) के लाभार्थी सीधे विशेषज्ञ की सलाह ले सकते हैं, उन्होंने कहा।

Keep Reading Show less

झारखंड के खेतों में उपजायी जा रही फसलें और यहां के किसानों की सफलता की खुशबू अब देश-दुनिया तक पहुंच रही है (Wikimedia Commons)

झारखंड(Jharkhand) के खेतों में उपजायी जा रही फसलें और यहां के किसानों की सफलता की खुशबू अब देश-दुनिया तक पहुंच रही है। ये वही किसान हैं, जो कभी खेतों में सालों भर पसीने बहाकर और अपना खून सुखाकर भी फसलों को औने-पौने भाव में बेचने को मजबूर होते थे। तकनीक की समझ और इंटरनेट के जरिए घर बैठे देश-दुनिया के कोने-कोने में संपर्क साधने की सहुलियत गांवों तक पहुंची तो किसानों की जिंदगी भी बदल रही है। सबसे सुखद पहलू यह कि बदलाव और कामयाबी की इन नई कहानियों में महिलाओं का किरदार बेहद अहम है।

हजारीबाग(Hazaribag) जिले के उग्रवाद प्रभावित चुरचू प्रखंड की सात हजार महिला किसानों के एक समूह की कहानी किसी को भी चमत्कृत कर सकती है। 2017 में यहां की दस महिला किसानों ने एक समूह बनाया और एक साथ मिलकर खेती की शुरूआत की। धीरे-धीरे इस समूह से जुड़नेवाली महिला किसानों की संख्या बढ़ती गयी और इसके बाद 2018 में चुरचू नारी ऊर्जा फार्मर प्रोड्यूसर कंपनी लिमिटेड की शुरूआत हुई।

Keep reading... Show less