Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
संस्कृति

क्यों असंभव है कैलाश पर्वत की चोटी तक पहुँचना?

कैलाश पर्वत पर कौन वास करते हैं यह हम सबको पता है, किन्तु क्यों कैलाश पर्वत पर चढ़ाई करना असंभव का काम यह बात कभी सोची है।

कैलाश पर्वत

कैलाश पर्वत पर कौन वास करते हैं यह हम सबको पता है, किन्तु क्यों कैलाश पर्वत पर चढ़ाई करना असंभव का काम यह बात कभी सोची है। कहानियों में यह सुना जाता है कि एक रहस्यमय तिब्बती सिद्ध पुरुष और कवि जिसका नाम मिलारेपा था, वह एकमात्र इंसान थे जो कैलाश पर्वत की चोटी पर चढ़ने में सक्षम थे और यह कहानी भी 900 साल पुरानी मानी जाती है। मिलारेपा के अतिरिक्त आज तक कोई भी mount Kailasha की मुख्य चोटी तक नहीं पहुँच पाया है।

क्या हमने कभी सोचा है की ऐसा कौन सा रहस्य है जो इस पर्वत पर चढ़ने से रोक रहा, क्या यह शारीरिक विफलता या अक्षमता के कारण है, या कोई ऐसा रहस्य भी है जो मानव चिंतन से परे है? आइए कैलाश पर्वत के कुछ ऐसे तथ्य जानते हैं जिस से कुछ हद तक इन प्रश्नों के उत्तर ढूढ़ने में सरलता होगी।


  • Mt. Everest 8848 मीटर (29029 फीट) की ऊंचाई पर है और इसके शिखर को 4,000 से अधिक लोगों द्वारा बढ़ाया गया है, जबकि Mount Kailasha 6638 मीटर (21778 फीट) है और कोई भी इस पर्वत को पूरा फतह नहीं कर पाया है।
  • हिन्दू, जैन, बौद्ध एवं Bon यह 4 प्रमुख धर्म हैं जो मानते हैं कि कैलाश पर्वत एक पवित्र स्थान है।
  • प्राचीन तिब्बती किवदंतियों और लेखों के अनुसार, “किसी भी नश्वर को कभी भी कैलाश पर्वत पर चलने की अनुमति नहीं दी जाती है, जहां बादलों के बीच, देवताओं का निवास है। वह जो पवित्र पर्वत की चोटी शुरू करता है और देवताओं के चेहरे को देखने की हिम्मत करता है, उन्हें मृत्यु प्राप्त होती है।
  • कैलाश पर्वत के शिखर पर चढ़ने की कोशिश करने वाले कई पर्वतारोहियों में से एक Colonel Wilson ने बताया कि “जब उन्हें यह अहसास हुआ कि यात्रा सरल हो चुकी है, तभी अचानक से तेज़ बर्फबारी ने उनका यह काम असंभव कर दिया।”
  • सर्गेई सिस्टियाकोव, एक रूसी पर्वतारोही जो कैलाश पर न चढ़ पाने का एक चौंकाने वाला तर्क दिया है। वह कहते हैं कि “जब हम पहाड़ के आधार के समीप पहुंचे, तो मेरा दिल तेज़ हो गया था। मैं पवित्र पर्वत के सामने था, जो कह रहे थे कि ‘मुझे हराना असंभव है’। जिसके उपरांत मैं खुद को दुर्बल महसूस करने लगा और उस वातावरण में मुग्ध हो गया। जैसे हमने उतरना शुरू किया, मुझे मुक्ति महसूस होने लगी।”

कैलाश पर्वत का दूर से लिया गया चित्र।(Pixabay)

  • जो लोग पहाड़ के आस-पास के क्षेत्र का दौरा करते हैं, वह अपने नाखूनों और बालों को 12 घंटों में लम्बाई महसूस करते हैं, जो सामान्य परिस्थितियों में 2 सप्ताह में होता है! ऐसा माना जाता है कि पहाड़ में एक हवा है जो तेजी से बुढ़ापे का कारण बनती है।
  • कुछ रूसी वैज्ञानिकों ने बहुत हद तक पहाड़ का अध्ययन किया है और इस विचार को सामने रखा है कि कैलाश पर्वत एक मानव निर्मित पिरामिड हो सकता है, और यह बहुत बड़ी असामान्य घटना हो सकती है जो दुनिया के अन्य सभी ऐसे स्मारकों को जोड़ती है जहां ऐसी ही असामान्य चीजें हुई हैं। देखे गए।
  • कैलाश पर्वत को दुनिया का केंद्र माना जाता है जहाँ पृथ्वी और स्वर्ग के बीच, भौतिक दुनिया और आध्यात्मिक दुनिया के बीच स्वर्ग धरती से मिलता है।
  • बौद्ध, जैन और हिंदू ब्रह्मांड विज्ञान के अनुसार कैलाश पर्वत मेरु/सुमेरु बौद्ध, जैन और हिंदू ब्रह्मांड विज्ञान के अनुसार जो कि ब्रह्मांड का आध्यात्मिक केंद्र है।

यह भी पढ़ें: क्यों भुला दिया गया भारत के प्राचीन गौरव को?

कई अध्ययनों एवं तथ्यों के उपरांत भी आज तक कोई भी कैलाश पर्वत न चढ़े जाने का सटीक कारण नहीं बता पाया है। 6638 कि ऊंचाई को भी फतह करने में क्या अड़चने आ रहीं हैं यह कोई नहीं जनता। किन्तु यह भी बात सही है कि कुछ चीजों को रहस्य ही रहने दें तो ही अच्छा।

Popular

भारत ने रूस और चीन से कहा कि अफगान क्षेत्र का इस्तेमाल आतंकी गतिविधियों के लिए नहीं किया जाना चाहिए।(IANS)

भारत ने रूस और चीन से कहा कि लश्कर-ए-तैयबा और जैश-ए-मोहम्मद जैसे पाकिस्तान स्थित आतंकवादी समूहों द्वारा अफगान क्षेत्र का इस्तेमाल आतंकी गतिविधियों के लिए नहीं किया जाना चाहिए। RIC Meeting त्रिपक्षीय ढांचे की 18 वीं बैठक की अध्यक्षता के दौरान रखा, जो शुक्रवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग पर हुई, जिसमें रूस और चीन के विदेश मंत्रियों सेर्गेई लावरोव और वांग यी ने भी भाग लिया।

जयशंकर ने अफगानिस्तान में समावेशी और प्रतिनिधि सरकार होने पर भारत के रुख को दोहराते हुए कहा, "RIC देशों के लिए आतंकवाद, कट्टरपंथ, मादक पदार्थों की तस्करी आदि के खतरों पर संबंधित दृष्टिकोणों का समन्वय करना आवश्यक है।" मंत्री ने मास्को और बीजिंग के अपने दो समकक्षों को बताया कि, अफगान लोगों की भलाई के लिए भारत की प्रतिबद्धता के अनुरूप, नई दिल्ली ने देश में सूखे की स्थिति से निपटने के लिए अफगानिस्तान को 50,000 मीट्रिक टन गेहूं की आपूर्ति की पेशकश की थी।

हालांकि, मानवीय पहल में रुकावट आ गई थी, क्योंकि बुधवार तक पाकिस्तान इस खेप को अपने क्षेत्र से गुजरने की अनुमति देने के लिए प्रतिबद्ध नहीं था। जयशंकर ने आज कहा, "RIC देशों को यह सुनिश्चित करने के लिए मिलकर काम करने की जरूरत है कि मानवीय सहायता बिना किसी रुकावट और राजनीतिकरण के अफगान लोगों तक पहुंचे। एक निकट पड़ोसी और अफगानिस्तान के लंबे समय से साथी के रूप में, भारत उस देश में हाल के घटनाक्रमों, विशेष रूप से अफगान लोगों की पीड़ा के बारे में चिंतित है।"

तीनों मंत्रियों ने इस बात पर सहमति जताई कि आरआईसी देशों के बीच सहयोग न केवल उनके अपने विकास में बल्कि वैश्विक शांति, सुरक्षा, स्थिरता में भी योगदान देगा। जयशंकर ने अपने संबोधन में, आरआईसी तंत्र के तहत यूरेशियन क्षेत्र के तीन सबसे बड़े देशों के बीच घनिष्ठ संवाद और सहयोग को बढ़ावा देने के लिए भारत की निरंतर प्रतिबद्धता की भी पुष्टि की। उन्होंने कहा, "मेरा मानना है कि व्यापार, निवेश, स्वास्थ्य सेवा, शिक्षा, विज्ञान और प्रौद्योगिकी और राजनीति आदि क्षेत्रों में हमारा सहयोग वैश्विक विकास, शांति और स्थिरता में महत्वपूर्ण योगदान दे सकता है।"

kashmir, makhan lal bindroo, terrorist attack, article 370

Keep Reading Show less

वैज्ञानिको के अनुसार कोरोना का यह नया वैरिएंट डेल्टा वैरिएंट से भी ज़्यादा खतरनाक है। (Wikimedia Commons)

कोरोना(Corona) के कारण लगभग 18 से 20 महीने झूझने और घरों में बंद रहने के बाद दुनिया में अब ज़िन्दगी पटरी पर लौट रही है लेकिन अब दक्षिण अफ्रीका में पाए गए कोरोना के नए वैरिएंट ने अब दुनिया के कई देशों की चिंताएं बढ़ा दी हैं। नए वैरिएंट का नाम बी.1.1.1.529 है। इस वैरिएंट के आने से वैज्ञानिको के बीच चिंता बढ़ गई है क्योंकि उनकी माने तो यह वैरिएंट डेल्टा प्लस वैरिएंट(Delta Plus Variant) से भी ज़्यादा खतरनाक है।

दक्षिण अफ्रीका(South Africa) में इस वैरिएंट के अब 100 मामले सामने आए हैं और अब यह धीरे-धीरे तेज़ी से फैलता जा रहा है।

Keep Reading Show less

अब 15 और देशों ने भारत के कोरोना टीकाकरण प्रमाण पत्र को मान्यता दे दी है।

विदेश मंत्रालय(Ministry Of External Affairs) ने शुक्रवार को जानकारी दी की अब 15 और देशों ने भारत के टीकाकरण प्रमाणपत्र(Vaccination Certificate) को मान्यता दे दी है। अब कुल मिला के दुनिया के 21 देशों ने भारत(India) के टीकाकरण प्रमाण पत्र को मान्यता दे दी है।

टीकाकरण प्रमाण पत्र को मान्यता देने वाले देशों के नाम हैं- ऑस्ट्रेलिया, बांग्लादेश, बेलारूस, एस्टोनिया, जॉर्जिया, हंगरी, ईरान, कजाकिस्तान, किर्गिस्तान, लेबनान, मॉरीशस, मंगोलिया, नेपाल, निकारागुआ, फिलिस्तीन, फिलीपींस, सैन मैरिनो, सिंगापुर, स्विट्जरलैंड, तुर्की और यूक्रेन।

Keep reading... Show less