Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
इतिहास

विजय दिवस : आखिर ऐसा क्या हुआ जिसने 1971 के भारत-पाक युद्ध की नींव रखी

16 दिसंबर 1971 को विजय दिवस की गाथा लिखी गई क्योंकि 13 दिन के युद्ध के बाद भारत ने पाकिस्तान पर अपनी ऐतिहासिक जीत दर्ज की थी।

1971 के भारत-पाक युद्ध में पाकिस्तान ने आत्मसमर्पण कर दिया था।

जब गोश्त की भूख समाज में औरतों का सम्मान पैरों तले कुचल कर रख देती है, जब इंसानों के मांस पर हैवानियत के जोंक बैठ कर उनका खून चूसने लगते हैं, जब हमारी उँगलियों के नाखून मानवता का कलेजा चीर देते हैं, जब धर्म, जात-पात और सियासत की आड़ में समाज में इंसानियत का नरसंहार होता है तब जा कर 1971 जैसे युद्ध के शंखनाद के बाद पाकिस्तान जैसे देश के लाखों सैनिक भारत के आगे अपनी नाक रगड़ने पर मजबूर हो जाते हैं।

1971 की उसी जीत को भारत विजय दिवस के रूप में मनाता आया है।


16 दिसंबर 1971 को हर भारतीय के दिल में जय हिन्द की टंकार थी क्योंकि 13 दिन के युद्ध (Indo-Pak War 1971) के बाद भारत ने पाकिस्तान पर अपनी ऐतिहासिक जीत दर्ज की थी। जिसके बाद पूर्वी पाकिस्तान, पश्चिमी पाकिस्तान (वर्तमान पाकिस्तान) से अलग हो कर आज़ाद बांग्लादेश बना।

भारत का हर नागरिक हर साल, 16 दिसंबर यानी विजय दिवस के अवसर पर अपने उन वीर जवानों को याद करता है जो उस युद्ध में शहीद हो गए। हर उस जांबाज के आगे शीश झुकाता है जो युद्ध के लिए आगे बढ़ा। 1971 के भारत-पाक युद्ध में लगभग 3,900 भारतीय सैनिक शहीद हो गए थे और अंदाजन 9,851 सैनिक घायल वापस लौटे।

पर आखिर ऐसे क्या हालात पैदा हो गए कि 1971 का युद्ध हुआ और भारत को पाकिस्तान से लड़ने के लिए आगे आना पड़ा। इसकी जड़ें हमें बांग्लादेश (पूर्वी पाकिस्तान) में हुए नरसंहार में देखने को मिलती हैं।

यह भी पढ़ें – भारतीय लोकतंत्र के वह दहशत भरे 45 मिनट जो आज भी स्तब्ध कर देते हैं

बांग्लादेश में 1971 नरसंहार

26 मार्च 1971 के दिन पश्चिमी पाकिस्तान ने ऑपरेशन सर्च लाइट (Operation Searchlight) के तहत, पूर्वी पकिस्तान पर सैन्य कार्रवाई शुरू की। उनका मक़सद बंगाली राष्ट्रवादी आंदोलन (Bengali Nationalist Movement) पर अंकुश लगाना था। इस सैन्य कार्रवाई में इस्लामिक पार्टी जमात-ए-इस्लामी (Jamaat-e-Islami) ने अपना पूर्ण समर्थन दिया।

सूत्रों के अनुसार इस 9 महीने के नरसंहार में करीबन 3 लाख से 30 लाख की गिनती के बीच लोगों की हत्या हुई थी। लगभग 2 से 4 लाख बंगाली मूल की महिलाओं के साथ दुष्कर्म किए गए।

लिबरेशन वॉर म्यूज़ियम में मौजूद बांग्लादेश नरसंहार से मिले मानव अवशेष और युद्ध सामग्री। (Wikimedia Commons)

इन आंकड़ों को जानने के बाद आपके हृदय में उठे आक्रोश की अग्नि और तीव्र हो जाएगी जब आप जमात-ए-इस्लामी के तथाकथित धार्मिक नेताओं का एक बयान जानेंगे। उन्होंने बंगाल की महिलाओं को “सार्वजनिक संपत्ति” कह कर घोषित किया था।

पाकिस्तानी सेना द्वारा किए नरसंहार में एक और बात निकल कर सामने आती रही है। लोगों का कहना है कि इस नरसंहार में कई हिन्दुओं को मौत की चौखट पर पटका गया था। असल में पाकिस्तानी सेना, पूर्व पाकिस्तान से हिन्दू समुदाय को खदेड़ देना चाहती थी।

शायद इसलिए कई लाख हिन्दुओं ने पूर्व पाकिस्तान से भारत की ओर रुख कर लिया था। मगर उस समय की सत्तारूढ़ पार्टी ने राजनीतिक एंगल को ध्यान में रखते हुए पाकिस्तान में हो रहे हिन्दू नरसंहार पर कोई चर्चा नहीं की। हालांकि भारत ने शरणार्थियों को अपनाते हुए पाकिस्तान को चेतावनी अवश्य दी। उस समय इन्दिरा गांधी प्रधानमंत्री के पद पर थीं।

अंग्रेज़ी में पढ़ने के लिए – The Ramayana As The Expression of Human Physiology

युद्ध की पहल

युद्ध की पहल पाकिस्तान के नापाक इरादों से हुई थी। भारत से मिली चेतावनी के बावजूद 3 दिसंबर, 1971 को पाकिस्तान ने अमृतसर, जोधपुर और अन्य इलाकों पर बम गिराने शुरू कर दिए। इसके बाद भारत ने जवाब दिया और नतीजतन यह युद्ध अगले 13 दिनों तक चला।

1971 के युद्ध में जला हुआ पाकिस्तानी टैंक। (Facebook)

16 दिसंबर 1971 के दिन पाकिस्तान के लाखों सैनिकों ने आत्मसमर्पण कर दिया था। भारत की इस जीत के बाद पूर्वी पाकिस्तान और पश्चिमी पाकिस्तान अलग हो गए। और इसी के साथ 16 दिसंबर 1971 की तारीख को विजय दिवस के दिन में बदलते हुए भारत द्वारा कभी ना भूली जाने वाली विजय गाथा लिखी गई।

Popular

प्रमुख हिंदू नेता और श्री नारायण धर्म परिपालन योगम के महासचिव वेल्लापल्ली नतेसन (wikimedia commons)

हमारे देश में लव जिहाद के जब मामले आते है , तब इस मुद्दे पर चर्चा जोर पकड़ती है और देश कई नेता और जनता अपनी-अपनी राय को वयक्त करते है । एसे में एक प्रमुख हिंदू नेता और श्री नारायण धर्म परिपालन योगम के महासचिव वेल्लापल्ली नतेसन ने सोमवार को एक बयान दिया जिसमें उन्होनें कहा कि यह मुस्लिम समुदाय नहीं बल्कि ईसाई हैं जो देश में धर्मांतरण और लव जिहाद में सबसे आगे हैं।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार एनडीए के सहयोगी और भारत धर्म जन सेना के संरक्षक वेल्लापल्ली नतेसन नें एक कैथोलिक पादरी द्वारा लगाए गए आरोपों पर प्रतिक्रिया दी , जिसमे कहा गया था हिंदू पुरुषों द्वारा ईसाई धर्म महिलाओं को लालच दिया जा रहा है। नतेसन नें पाला बिशप जोसेफ कल्लारंगट की एक टिप्पणी जो कि विवादास्पद "लव जिहाद" और "मादक जिहाद" की भी जमकर आलोचना की और यह कहा कि इस मुद्दे पर "मुस्लिम समुदाय को निशाना बनाना सही नहीं है"।

Keep Reading Show less

महंत नरेंद्र गिरि (Wikimedia Commons)

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की सोमवार को संदिग्ध हालात में मौत हो गई। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि को बाघंबरी मठ स्थित उनके आवास पर श्रद्धांजलि दी। मुख्यमंत्री ने कहा कि दोषियों को जांच के बाद सजा दी जाएगी। उन्होंने कहा ''यह एक दुखद घटना है और इसी लिए अपने संत समाज की तरफ से, प्रदेश सरकार की ओर से उनके प्रति श्रद्धांजलि व्यक्त करने के लिए में स्वयं यहाँ उपस्थित हुआ हूँ। अखाड़ा परिषद और संत समाज की उन्होंने सेवा की है। नरेंद्र गिरि प्रयागराज के विकास को लेकर तत्पर रहते थे। साधु समाज, मठ-मंदिर की समस्याओं को लेकर उनका सहयोग प्राप्त होता था। उनके संकल्पों को पूरा करने की शक्ति उनके अनुयायियों को मिले''

योगी आदित्यनाथ ने कहा '' कुंभ के सफल आयोजन में नरेंद्र गिरि का बड़ा योगदान था। एक-एक घटना के पर्दाफाश होगा और दोषी अवश्य सजा पाएगा। मेरी अपील है सभी लोगों से की इस समय अनावश्यक बयानबाजी से बचे। जांच एजेंसी को निष्पक्ष रूप से कार्यक्रम को आगे बढ़ाने दे। और जो भी इसके लिए जिम्मेदार होगा उसको कानून की तहत कड़ी से कड़ी सजा भी दिलवाई जाएगी।

Keep Reading Show less

By: कम्मी ठाकुर, स्वतंत्र पत्रकार एवं स्तम्भकार, हरियाणा

केजरीवाल सरकार की झूठ, फरेब, धूर्तता और भ्रष्टाचार की पोल खोलता 'बोल रे दिल्ली बोल' गीतरुपी शब्दभेदी बाण एकदम सटीक निशाने पर लगा है। सुभाष, आजाद, भगतसिंह जैसे आजादी के अमर शहीद क्रांतिकारियों के नाम व चेहरों को सामने रखकर जनता को बेवकूफ बना सुशासन ईमानदारी और पारदर्शिता का सब्जबाग दिखाकर सत्ता पर काबिज हुए अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी सरकार आज पूरी तरह से मुस्लिम तुष्टिकरण, भ्रष्टाचार, कुशासन एवं कुव्यवस्था के दल-दल में धंस चुकी है। आज केजरीवाल का चाल, चरित्र और चेहरा पूरी तरह से बेनकाब हो चुका है। दिल्ली में कोविड-19 के दौरान डॉक्टरों सहित सैकड़ों विभिन्न धर्म-संप्रदाय के मेडिकल स्टाफ के लोगों ने बतौर कोरोना योद्धा अपनी जाने गंवाई थी। लेकिन उन सब में केजरीवाल के चश्मे में केवल मुस्लिम डॉक्टर ही नजर आया, जिसके परिजनों को 'आप सरकार' ने एक करोड़ की धनराशि का चेक भेंट किया। किंतु बाकी किसी को नहीं बतौर मुख्यमंत्री यह मुस्लिम तुष्टिकरण, असंगति, पक्षपात आखिर क्यों ?

Keep reading... Show less