Tuesday, October 20, 2020
Home मनोरंजन विशाल किर्ति ने एक लंबे लेख में साझा किया अपना पक्ष, रिया...

विशाल किर्ति ने एक लंबे लेख में साझा किया अपना पक्ष, रिया के इंटरव्यू को बताया कहानी बदलने का असफल प्रयास

सीबीआई में एक सूत्र ने बड़ा खुलासा किया है कि सुशांत मौत से पहले सर्च इंजन पर हिमाचल, केरल और कूर्ग में संपत्तियां देख रहा था। जबकि मुंबई पुलिस ने पूरे देश को एक झूठ के जरिए गुमराह किया कि वह पहले 'दर्द रहित मौत' जैसी चीजों को सर्च इंजन पर खोज रहा था।"

दिवंगत अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत के जीजा विशाल कीर्ति (श्वेता सिंह कीर्ति के पति) ने अभिनेत्री रिया चक्रवर्ती पर हमला करते हुए कहा है कि उनका हालिया साक्षात्कार इस मामले की कहानी को बदलने का एक असफल प्रयास था। विशाल ने दिवंगत अभिनेता के परिवार का बचाव करते हुए एक लंबा ब्लॉग पोस्ट लिखा है। इसमें उन्होंने रिया के नाम का उल्लेख किए बिना कई अहम बातें कही हैं। रिया जो इस मामले की मुख्य संदिग्ध है और मामले की जांच कर रहीं तीन केंद्रीय एजेंसियों- ईडी, सीबीआई और एनसीबी की जांच के अधीन हैं।

https://twitter.com/vikirti/status/1299772398913241093

विशाल ने लिखा कि कैसे “मानसिक स्वास्थ्य का इस्तेमाल अभियुक्त द्वारा अपने अपराध को छुपाने के लिए किया जा रहा है”।

उन्होंने लिखा, “एक चैनल के अनुसार, सीबीआई में एक सूत्र ने बड़ा खुलासा किया है कि सुशांत मौत से पहले सर्च इंजन पर हिमाचल, केरल और कूर्ग में संपत्तियां देख रहा था। जबकि मुंबई पुलिस ने पूरे देश को एक झूठ के जरिए गुमराह किया कि वह पहले ‘दर्द रहित मौत’ जैसी चीजों को सर्च इंजन पर खोज रहा था।”

यह भी पढ़ें- सुशांत ने माना था ‘क्लॉस्ट्रोफोबिया’ से जूझने की बात, देखें वीडियो

उन्हें लगता है कि मुंबई पुलिस ऐसा करके “बड़े पैमाने पर चीजों को छुपा रही है”। उन्होंने लिखा, “मैं मेंट हेल्थ इनीशिएटिव का एक चैंपियन हूं और मानसिक स्वास्थ्य के विभिन्न पहलुओं पर कई पुस्तकें पढ़ चुका हूं, जिसमें डीएसएम-5 भी शामिल है। लेकिन इस मामले में, मानसिक स्वास्थ्य का उपयोग अभियुक्त द्वारा अपराध को छुपाने के लिए किया जा रहा है। मामला चाहे हत्या का हो या आत्महत्या का, मुंबई पुलिस जनता को क्यों गुमराह कर रही थी? यदि यह आत्महत्या थी, तो आपराधिक ताकतों द्वारा इसके पीछे कारण पैदा करने के चलते की गई और अगर यह हत्या है, तो यह अपने में स्पष्ट है।”

विशाल ने आगे कहा, “मैंने साक्षात्कारों में देखा कि आरोपी ने कहा कि वह अवसाद में जा रहे थे और फिर उन्होंने मनोचिकित्सक को फोन किया। उनकी मानसिक स्थिति ऐसी थी कि उन्हें दवाओं की जरूरत थी। यदि हम मान लें कि सुशांत अवसाद के कारण खतरनाक हो गए थे, आरोपी को उनसे खतरा पैदा हो गया था तो क्या आरोपी उसे ड्रग देगी। कुछ चमचा चैनलों ने यह बात स्थापित करने की कोशिश की कि सुशांत डिप्रेशन की प्रिस्क्राइब की गईं सही दवाएं नहीं ले रहे थे जो उनकी आत्महत्या का कारण बना।”

जबकि उनके अनुसार, असलियत यह है कि सुशांत की मई के मध्य में स्थिति काफी बेहतर हो गई थी, क्योंकि अपराधियों ने उन्हें नशा देना बंद कर दिया था।

Sushant Singh Rajput
दिवंगत अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत। (Wikimedia Commons)

उन्होंने लिखा, “जब आरोपी ने ब्लैकमेल करना शुरू किया था तब से मई के बीच तक सब कुछ मुश्किल था। लगता है कि जब आरोपी 8 जून को सुशांत के घर से निकली तब वह सुशांत के लैपटॉप, उसके पुराने सेलफोन और अन्य उपकरणों को अपने साथ ले गई। उन उपकरणों में उनकी मानसिक स्वास्थ्य की रिपोर्ट के अलावा और क्या था, जिसके बारे में वह सुशांत को ब्लैकमेल कर रहा थी? आरोपी ने ठीक उसी समय सुशांत के डेबिट कार्ड की पिन बदलने कोशिश की, जब वह ठीक हो रहा था और आरोपी को अपने घर से निकालना चाहता था।”

सुशांत पर नियंत्रण करने को लेकर विशाल ने लिखा, “कारावास और नियंत्रण एक सोशियोपैथ की ताकत होते हैं। आरोपी ने साक्षात्कार में कहा कि मेरी तीन सालियां वाटरस्टोन रिसॉर्ट्स गईं और उसी दिन वापस आ गईं। ऐसा लगता है कि इसके पीछे कारण उनके पारिवारिक संबंधों में समस्याएं होना था।”

ed interrogating rhea chakraborty
रिया चक्रवर्ती व सुशांत सिंह राजपूत (Image: Rhea Chakraborty, Instagram)

इस पर विशाल ने लिखा, “जबकि वास्तविक कहानी यह है कि सुशांत अपनी बहन के साथ चंडीगढ़ आना चाहता था और उसने टिकट भी ले लिया था, लेकिन उसे साजिशकर्ता की ब्लैकमेलिंग के कारण घुटने टेकने पड़े और उसने अपना टिकट कैंसल करा लिया। यह साफतौर पर उस पर किए जा रहे नियंत्रण को दिखाता है। मुझे खुशी है कि मेरी तीनों सालियां आरोपी के साथ नहीं रुकीं, वरना क्या पता वह उन और कौन से नए आरोप लगा देती। जनवरी 2020 में भी इसी तरह आरोपी ने फोन के जरिए सुशांत को वापस आने के लिए मजबूर किया था।”

विशाल ने बताया कि आरोपी ने कहा कि सुशांत का उसके पिता के साथ अच्छा रिश्ता नहीं था, क्योंकि उसके पिता ने उसे कम उम्र में ही छोड़ दिया था।

यह भी पढ़ें- रिया के शवगृह में जाने पर एसएचआरसी का मुंबई पुलिस, बीएमसी को नोटिस

उन्होंने लिखा, “असल बात यह है कि मेरे ससुर तब रहने के लिए दिल्ली ही आ गए थे जब सुशांत हाईस्कूल में था और प्रियंका दी कॉलेज में थीं। मेरे लिए तो यह एक पिता का अपने बच्चों की शिक्षा के लिए समर्पण है। वहीं मेरी पत्नी पटना के सर्वश्रेष्ठ स्कूल में पढ़ रही थीं और मेरी दिवंगत सास उनके साथ पटना में थीं ताकि मेरी पत्नी अपनी स्कूल की पढ़ाई पूरी कर सके। वो माता-पिता जो अपने बच्चों को सपोर्ट करने के लिए हर समय उनके साथ थे उनके लिए ऐसी कहानियां बनाईं जा रही हैं कि पिता अपने बेटे को छोड़कर चले गए थे?”

ड्रग के कथित सेवन पर विशाल ने कहा, “सभी ड्रग चैट लीक के बाद आरोपी का बचाव यह है कि सुशांत ड्रग लेता था (और आरोपी और उसके सहयोगी बस उसके लिए इसका इंतजाम करते थे। जो कि चैट में सामने आ चुका है)। यह तो एकदम बेतुकी बात है। भले ही हम एक पल के लिए इसे भी स्वीकार कर लें, तो यह उसकी किस तरह की पार्टनर थी जो अपने प्रियजन के लिए ऐसी ड्रग्स का इंतजाम कर रही थी जिसे वह खुद कभी नहीं लेना चाहती थी और न उसने ली (जैसा उसने साक्षात्कार में कहा)। इसका मतलब है कि दो चीजों में से एक बात सच है या तो आरोपी सुशांत को जबरन ड्रग्स दे रही थी या यह आरोपी ही थी जो ड्रग्स ले रही थी।”

diary of sushant singh discredit suicide theory
सुशांत सिंह राजपूत, दिवंगत अभिनेता (Image: Sushant Singh Rajput, Instagram)

विशाल ने आखिर में अपनी साली मीतू दीदी के बारे में बात की। उन्होंने लिखा, “मैंने देखा कि जब 8 से 14 जून के बीच की बात आई तो आरोपी ने गेंद मीतू दी के पाले में डालने की कोशिश की। यह उसकी एक चाल है। शुक्र है कि जब वहां कोई नहीं था तब मीतू दी वहां थीं क्योंकि आरोपी या उसकी कठपुतलियां बने लोगों के साथ रहना किसी खतरे से कम नहीं था। आरोपी को सीबीआई को बताना चाहिए कि क्या वह मीतू दी के 12 जून को जाने के बाद सुशांत से मिली थी और उसे ब्लैकमेल किया था या इसकी जरूरत ही नहीं पड़ी क्योंकि आरोपी जानती थी कि मीतू दी के जाते ही सुशांत के साथ कुछ बुरा होने वाला है।”

विशाल को नहीं लगता कि ये “साक्षात्कार आरोपी की गिरफ्तारी को रोक पाएगा। उन्होंने कहा कि यह तो असलियत को बदलने का एक असफल प्रयास था”।(आईएएनएस)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

6,018FansLike
0FollowersFollow
167FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

रियाज़ नाइकू को ‘शिक्षक’ बताने वाले मीडिया संस्थानो के ‘आतंकी सोच’ का पूरा सच

कौन है रियाज़ नायकू? कश्मीर के आतंकवादी संगठन हिजबुल मुजाहिद्दीन का आतंकी कमांडर बुरहान वाणी 2016 में ...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

“कौन दिशा में लेके चला रे बटोहिया..” के सदाबहार गायक जसपाल सिंह की कहानी

“कौन दिशा में लेके चला रे बटोहिया” इस गाने को किसने नहीं सुना होगा। अगर आप 80’ के दशक से हैं...

हाल की टिप्पणी