Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
खेल

रोहित शर्मा गेंदबाजों को स्वतंत्र होकर गेंदबाजी करने की इजाजत देते हैं : शमी

मोहम्मद शमी ने टीम के सीमित ओवरों के उपकप्तान रोहित शर्मा की सराहना करते हुए कहा है कि वह गेंदबाजों को स्वतंत्र होकर गेंदबाजी करने की इजाजत देते हैं।

शमी ने कहा, “रोहित का चरित्र अलग है और वह कूल व्यक्ति हैं। (ट्विटर)

भारतीय टीम (India Team) के तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी (Mohammed Shami) ने टीम के सीमित ओवरों के उपकप्तान रोहित शर्मा की सराहना करते हुए कहा है कि वह गेंदबाजों को स्वतंत्र होकर गेंदबाजी करने की इजाजत देते हैं।

शमी ने कहा, “गेंदबाज के नाते जब भी मैं उनसे सलाह लेने जाता हूं तो वह हमेशा पॉजिटिव जवाब देते हैं। रोहित हमेशा गेंदबाज से कहते हैं कि जो उनका मन कहे वो काम करो।”


उन्होंने इंडिया टीवी से कहा, “एक तेज गेंदबाज के आत्मविश्वास को बढ़ाने के लिए मेरे ख्याल से यह बहुत जरूरी है।”

30 वर्षीय तेज गेंदबाज अभी चोट से उबरे हैं और वह हाल ही में आईपीएल 2021 में पंजाब किंग्स के लिए खेले थे। विराट कोहली (Virat Kohli) के नेतृत्व वाली टीम इंडिया को इंग्लैंड में न्यूजीलैंड के खिलाफ विश्व टेस्ट चैंपियनशिप का फाइनल मुकाबला और इंग्लैंड के खिलाफ पांच मैचों की टेस्ट सीरीज खेलनी है। शमी इस दौरे के लिए टीम में शामिल हैं।

शमी ने कहा, “गेंदबाज के नाते जब भी मैं उनसे सलाह लेने जाता हूं तो वह हमेशा पॉजिटिव जवाब देते हैं। (ट्विटर)

शमी ने कहा, “रोहित (Rohit Sharma) का चरित्र अलग है और वह कूल व्यक्ति हैं। हालांकि बल्लेबाजी करते वक्त वह शांत नहीं रहते हैं।”

उन्होंने कहा, “तेज गेंदबाज आमतौर पर आक्रामक होते हैं लेकिन एक खिलाड़ी ऐसा है जो ज्यादा आक्रामक है, वो हैं हमारे कप्तान। विकेट गिरने के बाद जश्न मनाते हुए कोहली की तस्वीर मैंने सोशल मीडिया पर देखी और मजाक में मैंने उनसे पूछा कि यह विकेट मैंने लिया था या आपने।”

यह भी पढ़ें :- कोहली की फिटनेस उनके शानदार प्रदर्शन का राज : युसूफ

शमी ने कहा, “कोहली गेंदबाजों से भी ज्यादा विकेट गिरने का जश्न मनाते हैं। लेकिन मैदान पर मजा करना जरूरी है। कोहली में आक्रमकता है लेकिन वह टीम का नेतृत्व शानदार तरीके से कर रहे हैं। वह एक आक्रामक बल्लेबाज भी हैं।” (आईएएनएस-SM)

(देश और दुनिया की महत्वपूर्ण खबरों की अपडेट के लिए न्यूज़ग्राम हिन्दी के सोशल मीडिया पेज को लाइक और फॉलो करें! facebook and twitter)

Popular

ऑस्कर 'सबमिशन लिस्ट' में शामिल होने वाली फ़िल्म 'जय भीम' एक सच्ची घटना पर आधारित है(pixabay)

दो भारतीय फिल्में - सूर्या (Suriya Sivakumar) और लिजोमोल जोस(Lijomol Jose) अभिनीत विवादास्पद तमिल फिल्म 'जय भीम' और प्रियदर्शन की मलयालम पीरियड ड्रामा 'मरक्कर: अरेबिकदलिनते सिंघम' (मरक्कर: अरब सागर का शेर), इस वर्ष के अकादमी पुरस्कारों (Oscars) के लिए पात्र 276 फिल्मों की सूची में शामिल हो गई है। ऑस्कर नामांकन के लिए मतदान गुरुवार 27 जनवरी से शुरू होगा और यह मंगलवार, 1 फरवरी तक चलेगा। घोषणा पात्रता वर्ष को 10 महीने तक सीमित करती है। पिछले साल, महामारी के कारण अकादमी ने इसे 28 फरवरी, 2021 तक बढ़ा दिया था।

सभी अनुमानित ऑस्कर दावेदार, सूची में हैं। इनमें 'बीइंग द रिकाडरेस' (अमेजन स्टूडियोज), 'बेलफास्ट' (फोकस फीचर्स), 'कोडा' (ऐप्पल ओरिजिनल फिल्म्स), 'ड्यून' (वार्नर ब्रदर्स), 'एनकैंटो' (वॉल्ट डिज्नी पिक्चर्स), 'हाउस ऑफ गुच्ची', (एमजीएम/यूनाइटेड आर्टिस्ट्स), 'द पावर ऑफ द डॉग' (नेटफ्लिक्स), 'ए क्वाइट प्लेस पार्ट 2' (पैरामाउंट पिक्चर्स), 'स्पेंसर' (नियॉन/टॉपिक स्टूडियोज), 'स्पाइडर-मैन: नो वे होम' (सोनी पिक्चर्स) और 'वेस्ट साइड स्टोरी' (20वीं सदी के स्टूडियो) शामिल है।

Keep Reading Show less

'संभावित रूप से हानिकारक' कंटेंट की विजिबिलिटी को कम करेगा इंस्टाग्राम (Wikimedia Commons)

मेटा(Meta) के स्वामित्व वाला फोटो-शेयरिंग प्लेटफॉर्म इंस्टाग्राम (Instagram) अपने ऐप में 'संभावित रूप से हानिकारक' कंटेंट को कम दिखाई देने के लिए नए कदम उठा रहा है। एनगैजेट की रिपोर्ट के अनुसार, कंपनी ने कहा कि यूजर्स के फीड और स्टोरीज में पोस्ट करने के तरीके को सशक्त करने वाला एल्गोरिदम अब ऐसे कंटेंट को प्राथमिकता देगा, जिसमें 'बदमाशी, अभद्र भाषा या हिंसा भड़काने वाली सामग्री हो सकती है।'

इंस्टाग्राम के नियम पहले से ही इस प्रकार की अधिकांश सामग्री को प्रतिबंधित करते हैं, जबकि परिवर्तन सीमा रेखा पोस्ट या कंटेंट को प्रभावित कर सकता है जो अभी तक ऐप के मॉडरेटर तक नहीं पहुंची है। कंपनी ने एक अपडेट में बताया, "यह समझने के लिए कि क्या कोई चीज हमारे नियमों को तोड़ सकती है, हम चीजों को देखेंगे जैसे कि कैप्शन एक कैप्शन के समान है जो पहले हमारे नियमों को तोड़ता था।"

Keep Reading Show less

सरकार ने यह करके बिल्कुल सही कदम उठाया है, अमर जवान ज्योति अस्थाई थी: जेबीएस यादव (Wikimedia Commons)

दिल्ली इंडिया गेट पर जलने वाली अमर जवान ज्योति का नेशनल वॉर मेमोरियल में विलय हो गया, सरकार के इस फैसले को डेप्युटी चीफ ऑफ आर्मी स्टाफ से 2005 में रिटायर्ड हुए लेफ्टिनेंट जनरल जेबीएस यादव ने इसे बिल्कुल सही ठहराया है। दरअसल इंडिया गेट पर पिछले 50 साल से अमर जवान ज्योति जल रही है। वहीं 25 फरवरी, 2019 को नेशनल वॉर मेमोरियल में अमर जवान ज्योति प्रज्वलित की गई थी।

साल 1971 का भारत-पाकिस्तान युद्ध के दौरान सिलीगुड़ी कॉरिडोर पर हिंदुस्तानी सेना को कमांड कर रहे, लेफ्टिनेंट जनरल जेबीएस यादव ने आईएएनएस को बताया कि, सरकार ने यह करके बिल्कुल सही कदम उठाया है, अमर जवान ज्योति अस्थाई थी। उस वक्त हमारे पास नेशनल वॉर मेमोरियल नहीं था और अंग्रेजों का बना हुआ था। फिर इसमें बदलाव करके अमर जवान ज्योति लगाई गई थी।

Keep reading... Show less