Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
थोड़ा हट के

बक्सवाहा के जंगल को बचाने संत भी आगे आए

बुंदेलखंड के बक्स्वाहा में हीरा खनन के लिए जंगल को काटे जाने की चल रही प्रक्रिया के विरोध का दौर जारी है। जंगल को बचाने संत समाज भी आगे आने लगा है।

बुंदेलखंड के बक्स्वाहा में जंगल को बचाने संत समाज भी आगे आने लगा है।(Pixabay)

बुंदेलखंड के बक्स्वाहा में हीरा खनन के लिए जंगल को काटे जाने की चल रही प्रक्रिया के विरोध का दौर जारी है। जंगल को बचाने संत समाज भी आगे आने लगा है। चित्रकूट प्रमुख द्वार के महंत स्वामी मदन गोपाल दास ने बक्स्वाहा के बम्हौरी गांव में पर्यावरण चौपाल लगाई और वृक्ष कटाई को रोकने पर जोर दिया। साथ ही वृक्षों से लिपटकर उन्हें बचाने का संकल्प लिया। बम्होरी में लगाई गई चौपाल में महंत स्वामी मदन गोपाल दास ने कहा कि वर्तमान समय में कोविड-19 के दौरान पेड़ का महत्व समझ में आ गया है। इसलिए जरुरी है कि बक्स्वाहा जंगल को बचाया जाए। इस संभावित कटाई को हर हाल में रोकना होगा। इस लड़ाई में जब तक स्थानीय निवासी आगे नहीं आएंगे तब तक यह लड़ाई अधूरी मानी जाएगी।


पर्यावरण प्रेमी रामबाबू तिवारी ने कहा कि यह पर्यावरण बचाओ अभियान लगातार गांव स्तर में चलाया जाएगा। बक्स्वाहा के जंगल की कटाई स्थानीय मुद्दा नहीं है यह राष्ट्रीय मुद्दा है, इसमें स्थानीय लोगों के साथ ही राष्ट्रीय स्तर के सभी पर्यावरण प्रेमी जन मानस को आगे आना होगा तभी सरकार बैकफुट में जाएगी। जिस प्रकार से सोशल मीडिया के माध्यम से इस लड़ाई को एक गति दी गई है, इसी प्रकार से गांव गांव में पर्यावरण बचाने को लेकर अन्नदान मुहिम चलाई जाएगी। स्थानीय निवासी दीपक बलेरा ने कहा कि वर्तमान समय में कंपनी के द्वारा यहां के स्थानीय लोगों को लालच दिया जाता है रोजगार-विकास के नाम को लेकर, इसलिए यहां के स्थानीय लोगों के बीच जागरुकता अभियान चलाया जाना जरुरी है।

कार्यक्रम का संचालन करते मयंक जैन ने बताया कि जिस प्रकार से सोशल मीडिया में लड़ाई लड़ी गई है, उसी प्रकार से यह लड़ाई रणनीति बनाकर लड़ना होगी, जिससे वृक्षों को बचाया जा सके। कार्यक्रम में प्रमुख रूप से रोहित बलेरा राकेश लोधी, राजेश कुमार, संतराम दशरथ लाला आदि मौजूद रहे। इस चैपाल से पहले जंगल में पेड़ों को बचाने के लिए चिपको आंदोलन चलाया गया। सभी ने पेड़ों से लिपटकर उन्हें बचाने का संकल्प लिया। इससे पहले नर्मदा नदी के संरक्षण की लड़ाई लड़ने वाले समर्थ भैया जी भी इस क्षेत्र का दौरा कर चुके हैं।

यह भी पढ़ें: बक्सवाहा की जंगल बचाओ मुहिम को सेलिब्रिटी का साथ

ज्ञात हो कि बक्स्वाहा के जंगल में हीरे का भंडार पाए जाने के बाद खनन का काम एक कंपनी को सौंपा जाने की तैयारी है। इस कंपनी को लगभग 382 हेक्टेयर वन क्षेत्र लीज पर दिया जाने वाला है। यह घना और समृद्ध जंगल तो है ही साथ में यहां से लोगों की आजीविका चलती है। इससे संस्कृति भी जुड़ी हुई है। यही कारण है कि सरकार की कोशिशों का विरोध शुरू हो गया है। बक्सवाहा के जंगल हीरा खनन के लिए निजी कंपनी को सौंपे जाने की प्रक्रिया के खिलाफ मामला एनजीटी में भी पहुंच गया है। जहां इस पर सुनवाई होनी है।(आईएएनएस-SHM)

Popular

देश के जवानों की शहादत रोकने के लिए एमआईआईटी मेरठ की तरफ से एक बड़ा प्रयास किया गया है। (Wikimedia commons)

देश की सीमाओं की सुरक्षा करते वक्त हमारे देश के वीर सैनिक अक्सर शहीद हो जाते हैं इसलिए कभी ना कभी भारतीयों के मन में यह आता है कि हम अपने वीर जवानों की शहादत को कैसे रोक सकते? लेकिन इस क्षेत्र में अब हमें उम्मीद की किरण मिल गई है। दरअसल, हमारे जवानों की सुरक्षा के लिए मेरठ इंस्टीट्यूट आफ इंजनियरिंग टेक्नोलॉजी (एमआईईटी) इंजीनियरिंग कॉलेज, मेरठ के सहयोग से एक मानव रहित बॉर्डर सिक्योरिटी सिस्टम तैयार किया गया है। इस डिवाइस को मानव रहित सोलर मशीन गन नाम दिया गया है। यह सिस्टम बॉर्डर पर तैनात जवानों की सुरक्षा और सुरक्षित रहते हुए आतंकियों का सामना करने के लिए बनाया गया है। इसे तैयार करने वाले युवा वैज्ञानिक श्याम चौरसिया ने बताया कि यह अभी प्रोटोटाईप बनाया गया है। इसकी मारक क्षमता तकरीबन 500 मीटर तक होगी, जिसे और बढ़ाया भी जा सकता है।

यह मशीन गन इलेट्रॉनिक है। इसे संचालित करने के लिए किसी इंसान की जरुरत नहीं होगी। इसका इस्तेमाल अति दुर्गम बॉर्डर एरिया में आतंकियों का सामना करने के लिए किया जा सकेगा। इसमें लगे सेंसर कैमरे दुश्मनों पर दूर से नजर रख सकतें हैं। आस-पास किसी तरह की आहट होने पर यह मानव रहित गन जवानों को चौकन्ना करने के साथ खुद निर्णय लेकर दुश्मनों पर गोलियों की बौछार भी करने में सक्षम होगा। इस मानव रहित गन को ऑटोमेटिक और मैनुअल भी कर सकते हैं।

Keep Reading Show less

मंत्री नरेंद्र मोदी ने मन की बात में महिला सशक्तिकरण ,कोविद टिकाकरण जैसे मुद्दों पर बात की। (Twitter)

'मन की बात' आकाशवाणी पर प्रसारित किया जाने वाला एक कार्यक्रम है, जिसके जरिए भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भारत के नागरिकों को संबोधित करते हैं। रविवार को प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने मासिक रेडियो कार्यक्रम 'मन की बात' में 100 करोड़ से अधिक लोगों को कवर करने वाले COVID टीकाकरण अभियान के लिए स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं की सराहना करते हुए लोगों को बधाई दी। साथ ही उन्होंने संयुक्त राष्ट्र दिवस के मौके पर रविवार को कहा, 'भारत हमारे ग्रह को एक बेहतर जगह बनाने में अहम भूमिका निभाएगा।'

उन्होंने कहा, "भारत ने हमेशा विश्व शांति के लिए काम किया है। इसे संयुक्त राष्ट्र शांति सेना में हमारे योगदान के रूप में देखा जाता है। भारत योग और स्वास्थ्य के पारंपरिक तरीकों को और लोकप्रिय बनाने के लिए भी काम कर रहा है।

Keep Reading Show less

काउंटरप्वाइंट की रिसर्च में कहा गया है कि भारत सबसे तेजी से बढ़ने वाला बाजार बन गया है।(Wikimedia commons)

Keep reading... Show less