Saturday, May 15, 2021
Home देश भारतीय इतिहास लेखन से खुश नहीं है संघ, भागवत करेंगे विमर्श छेड़ने...

भारतीय इतिहास लेखन से खुश नहीं है संघ, भागवत करेंगे विमर्श छेड़ने वाली किताब का विमोचन

अब तक लिखे गए भारतीय इतिहास पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ बड़ा विमर्श खड़ा करने की तैयारी में है। संघ का मानना है की अब इसे विस्तार देने का समय आ गया है।


अब तक लिखे गए भारतीय इतिहास पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ बड़ा विमर्श खड़ा करने की तैयारी में है। संघ का मानना है कि इतिहासकारों ने भारतीय इतिहास को संकुचित दृष्टि से लिखा है, जिसे अब विस्तार देने का समय आ गया है। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक मोहन भागवत 21 फरवरी को ‘ऐतिहासिक कालगणना: एक भारतीय विवेचन’ नामक ऐसी पुस्तक का विमोचन करेंगे, जो भारतीय इतिहास लेखन पर गंभीर सवाल खड़े करती है। यह किताब सेंटर फॉर सिविलाइजेशन स्टडीज के निदेशक रवि शंकर ने लिखी है। 21 फरवरी को नई दिल्ली के कांस्टीट्यूशन क्लब में आयोजित कार्यक्रम में इस पुस्तक के विमोचन के बाद देश में एक बार फिर से इतिहास लेखन पर गंभीर विमर्श छिड़ने की संभावना है।

सेंटर फॉर सिविलाइजेशन स्टडीज के निदेशक और किताब के लेखक रविशंकर ने आईएएनएस से कहा, “इतिहासकारों ने इतिहास लिखते समय भारतीय स्त्रोतों(सोर्स) की घोर उपेक्षा की है। भारत के लाखों वर्ष के इतिहास को समेटने वाले प्रमुख ग्रंथ संस्कृत में रहे, अधिकांश इतिहासकारों को संस्कृत का ज्ञान नहीं रहा, तो उन्होंने उन ग्रंथों को नजरअंदाज कर दिया। भारतीय इतिहास में सिंधु घाटी के बारे में तो पढ़ाया जाता है, लेकिन महाभारत को स्थान ही नहीं दिया गया। ऐसे में नए सिरे से भारत ही नहीं बल्कि विश्व का इतिहास लिखे जाने की जरूरत है।”

 

mohan bhagwat
राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक मोहन भागवत । (Social Media )

रविशंकर ने आईएएनएस को बताया कि, “भारत का जो इतिहास पढ़ाया जाता है, उसमें ढेरो समस्याएं हैं। सबसे पहली समस्या इसकी प्राचीनता की है। कितना प्राचीन हो सकता है भारत का इतिहास? यह सवाल इसलिए भी खड़ा होता है कि आज विश्व में जिन देशों के लोगों का प्रभुत्व है, उनकी इतिहास दृष्टि बहुत छोटी है। अमेरिका आदि नवयूरोपीय लोगों पर ईसाई कालगणना का ही प्रभाव है, जो कि मात्र छह हजार वर्ष पहले ही सृष्टि की रचना मानते हैं और इसलिए एक मिथकीय चरित्र ईसा को ही कालगणना के आधार के रूप में स्वीकार करते हैं।”

यह भी पढ़ें: ट्रंप के खिलाफ ट्रायल में वारेन हेस्टिंग्स के महाभियोग का जिक्र

रविशंकर के मुताबिक, “यूरोप के इस अज्ञान के प्रभाव में भारतीय विद्वान भी फंसे। भारतीय विद्वानों ने भी शास्त्रसम्मत युगगणना को सही मानने का साहस नहीं दिखाया। भारतीय इतिहासकारों ने भारत के इतिहास को यूरोपीय खांचे में डालने की कोशिश की। किताब में पंचागों पर अधिक चर्चा न करके भूगर्भशास्त्र और विकासवाद जैसे सिद्धांतों की समालोचना की गई है।”

सेंटर फॉर सिविलाइजेशन स्टडीज के निदेशक रविशंकर ने कहा कि, “यह पुस्तक विद्यालयों और महाविद्यालयों में पढ़ाए जाने वाले इतिहास पर गंभीर सवाल खड़े करती है। क्या भारत का इतिहास मात्र पांच हजार साल पुराना ही है? जैसा कि एनसीईआरटी की किताबों में पढ़ाया जाता है, अथवा वह भारतीय परंपरा के अनुसार लाखों-करोड़ों वर्ष प्राचीन है। साथ ही पुस्तक में चर्चा की गई है कि क्या वास्तव में बंदर से ही आदमी बना या आदमी के रूप में ही पैदा हुआ था। इस प्रकार यह पुस्तक भारत और विश्व के इतिहास की प्राचीनता को समझने का एक प्रयास है।” (आईएएनएस)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,635FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी