Tuesday, December 1, 2020
Home देश सिविल सर्विसेज में बढ़ा संस्कृत का क्रेज

सिविल सर्विसेज में बढ़ा संस्कृत का क्रेज

संस्कृत भाषा सिविल सर्विसेज (आईएएस और पीसीएस) की तैयारी करने वाले युवाओं की पसंद बनती जा रही है।

By : विवेक त्रिपाठी

देववाणी मानी जाने वाली वाकई संस्कृत भाषा अब धर्मग्रंथों से निकलकर आम लोगों तक पहुंचने लगी है। यह भाषा सिविल सर्विसेज (आईएएस और पीसीएस) की तैयारी करने वाले युवाओं की पसंद बनती जा रही है। इसी कारण उत्तर प्रदेश संस्कृत संस्थान की ओर से ऐसे विद्यार्थियों को आगे बढ़ाने के लिए निशुल्क कोचिंग की शुरूआत 2019 में की गयी है।

संस्कृत संस्थान की ओर से संचालित सिविल सेवा प्रशिक्षण एवं मार्गदर्शन के कोआर्डिनेटर डॉ. शीलवन्त सिंह ने बताया कि सिविल सर्विसेज की तैयारी के लिए लखनऊ में नि:शुल्क कोचिंग चल रही है। नवम्बर 2019 में जब इसकी शुरूआत हुई थी तब 50 बच्चों ने इसमें प्रवेश लिया था। दिसम्बर से शुरू होने वाले सत्र में 75 बच्चों को प्रवेश मिलेगा।

यह भी पढ़े ऊर्जा जरूरतों में प्राकृतिक गैस की हिस्सेदारी को 4 गुना बढ़ाने का प्रयास पीएम मोदी

उन्होंने बताया कि गोरखपुर, झांसी, मेरठ, प्रयागराज और वाराणसी में भी इसकी शाखाएं खोलने की तैयारी हो रही है। पहले बैच में एक बच्चे को सफलता मिली है। जिसे बीपीएसी (बिहार पब्लिक कमीशन एग्जाम) के तहत जिला चकबंदी अधिकारी के तौर पर बिहार में तैनात किया गया है। बाकी कई बच्चों की परीक्षाएं होनी हैं। कुछ की हो गयी हैं। कुछ के परिणाम आने हैं। शीलवन्त सिंह ने बताया कि करीब 800 बच्चों ने कोचिंग के लिए आवेदन किया था। जिसमें 113 लोगों को चयन हुआ था। इसके बाद साक्षात्कार करके उसमें से 75 बच्चों का बैच बना है।

संस्कृत लेने की खास वजह

सिविल परीक्षा की तैयारी के लिए 21 से 35 वर्ष आयु के ऐसे युवाओं का चयन किया जाता है, जिनका ऐच्छिक विषय संस्कृत होता है। साक्षात्कार में चयनित बच्चों को तीन हजार प्रतिमाह वजीफा देने का भी प्राविधान है। संस्कृत में गणित की तरह ठोस अंक मिलते हैं। इसलिए यह युवाओं को पंसद आ रहा है। शीलवन्त सिंह ने बताया कि सिविल सर्विसेज में संस्कृत का सिलेबस छोटा होता है। अन्य भाषाओं की अपेक्षा 2 प्रश्न कम्पलसरी होता है। इसके अलावा संस्कृत को हिन्दी, रोमन, और अग्रेंजी में भी लिखा जा सकता है। इसके आलावा यूपीएससी जैसी प्रतियोगी परीक्षाओं में जो अन्य भाषा के सवाल आते हैं, वह सारे बहुत लम्बे होते हैं। लेकिन संस्कृत में सवाल बहुत छोटे शब्दों में होता है। जिसे बहुत कम समय में किया जा सकता है। इसमें नम्बर भी ठोस प्राप्त हो जाते हैं। इसमें यह बहुत फायदा है। यह कोचिंग निशुल्क है और किसी प्रकार कोई वर्गीकरण नहीं किया गया है। सभी को शिक्षा दी जाएगी। इसमें संस्कृत के शिक्षक दिल्ली जेएनयू, मुखर्जी नगर , प्रयागराज, लखनऊ के शामिल हैं।

यह भी पढ़े : 21वीं सदी में दुनिया की आशाएं और अपेक्षाएं भारत से हैं : प्रधानमंत्री मोदी.

उत्तर प्रदेश संस्कृत संस्थान के अध्यक्ष वाचस्पति मिश्रा ने बताया कि संस्कृत भाषा को मुख्यधारा में लाने के लिए आईएएस और पीसीएस परीक्षा की तैयारी कर रहे युवाओ को जोड़ा जा रहा है। बीच में जागरूकता कम हो गयी थी। इसमें हर वर्ग के बच्चों को निशुल्क कोचिंग की व्यवस्था की गयी है। इससे युवाओं को बड़ा लाभ मिलेगा।(आईएएनएस)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

6,018FansLike
0FollowersFollow
174FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

रियाज़ नाइकू को ‘शिक्षक’ बताने वाले मीडिया संस्थानो के ‘आतंकी सोच’ का पूरा सच

कौन है रियाज़ नायकू? कश्मीर के आतंकवादी संगठन हिजबुल मुजाहिद्दीन का आतंकी कमांडर बुरहान वाणी 2016 में ...

हाल की टिप्पणी