Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
ओपिनियन

शब्दों के हवाले से संस्कृत की संस्कृति को एक नई दिशा

हर भाषा में कुछ ऐसे शब्द होते हैं, जिनका शुद्ध अनुवाद कर पाना कठिन है। इस वजह से ही इस विषय पर चर्चा करना मुझे न्यायसंगत जान पड़ता है।

संस्कृत पढने के इच्छुक छात्रों को संस्कृत के ज्ञान के साथ ही नैतिक संस्कारों के बारे में जानकारी दी जाएगी। (Pixabay)

हर भाषा में कुछ ऐसे शब्द होते हैं, जिनका शुद्ध अनुवाद कर पाना कठिन है। उस असमंजस में हम अनुवादित भाषा में आस पास के किसी शब्द का प्रयोग कर, अपनी बात तो कह जाते हैं पर क्या वह अनुवादित शब्द- असल शब्द के मनोभाव और उसके रस के साथ न्याय है ?

लेखन के प्रति अपने झुकाव और शब्दों के प्रेम जाल में होने की वजह से ही इस विषय पर चर्चा करना मुझे न्यायसंगत जान पड़ता है।


हाल ही में इस ओर काम करते हुए, Sanskrit Non-Translatables किताब का विमोचन हुआ है। शब्दों को गंभीरता से समझने की उनकी कोशिश की वजह से, उनका ज़िक्र करना अनिवार्य हो जाता है।

यह भी पढ़ें – क्या आज हिंदुत्व की बात करना मतलब घृणा फैलाना है?

‘जैसा है’, ‘वैसा ही’ प्रयोग में लाने की आवश्यकता

Sanskrit Non-Translatables: The importance of Sanskritizing English, श्री राजीव मल्होत्रा ​​और डॉ सत्यनारायण दास के अथक प्रयासों का फल है।

लेखकों के अनुसार संस्कृत में ऐसे कई शब्द हैं जिनका अंग्रेज़ी में उचित अनुवाद कर पाना असंभव है। इसलिए उन शब्दों के मूल अर्थ को बिना तोड़े-मरोड़े, बिना उनके सात्विक भाव के साथ खिलवाड़ किए, बिना लापरवाह तरीके से अनुवाद किए, उन्हें ‘जैसा है’, ‘वैसा ही’ प्रयोग में लाने की आवश्यकता है।

(Facebook)

जाने माने विद्वान और लेखक श्री नित्यानंद मिश्रा लिखते हैं कि अंग्रेज़ी के ‘translation’ शब्द के लिए संस्कृत में शब्द है ‘अनुवाद’ , जिसका शाब्दिक अर्थ है ‘फिर से कहना’ या ‘फिर से बयान देना’। परिभाषा के अनुसार, अनुवाद – संस्कृत से किसी दूसरी भारतीय भाषा में या संस्कृत से किसी अन्य भाषा जैसे अंग्रेज़ी में या संस्कृत से संस्कृत में भी किया जा सकता है।

श्री मिश्रा लिखते हैं, “अनुवाद के समय शब्दों के मूल अर्थ का काफी बड़ा हिस्सा कहीं खो जाता है, जब अनुवादित भाषा में संस्कृत जैसी संस्कृति या उस जैसी संपन्न विरासत नहीं होती। यह अर्थ के खो जाने का डर और बड़ा हो जाता है जब संरचित, समृद्ध, शुद्ध और प्रभावी संस्कृत भाषा का अनुवाद अंग्रेज़ी में किया जाता है।”

अपने प्रयासों को प्रबल रखते हुए श्री राजीव मल्होत्रा और डॉ सत्यनारायण दास ने you tube पर वीडियो सीरीज़ के रूप में एक अनोखी पहल की है। वीडियो में दोनों लेखकों के बीच बातचीत के दौरान संस्कृत के Non-Translatables और आमतौर पर उनकी जगह दुरुपयोग में आए अंग्रेज़ी शब्दों के संदर्भ में कई बातें होती हैं।

यहाँ पर आप उस तरह की कुछ वीडियोज़ को देख सकते हैं –

Shraddha ≠ Faith | Sanskrit Non-Translatables

Guru ≠ Teacher | Sanskrit Non-Translatables

डॉ सत्यनारायण दास अपना तर्क रखते हुए कहते हैं कि , “संस्कृत का ‘अ’ और अंग्रेज़ी का अक्षर ‘a’ समान नहीं है। भगवद गीता के दसवें अध्याय में श्रीकृष्ण ने कहा है, अक्षराणामकारो-अस्मि (अक्षरों में पहला अक्षर हूँ) यानी ‘अ’, हालांकि…यह भाव तब कहीं खो जाता है जब हम इसे अंग्रेज़ी में ‘a’ अक्षर के रूप में अनुवादित करते हैं क्योंकि संस्कृत अक्षरों में ध्वनि बारीकियां होती हैं जिन्हें अंग्रेज़ी में दोहराया नहीं जा सकता। हमारी संस्कृती, या परिशोधन की खोज, संस्कृत भाषा पर आधारित है और हमें यह समझना होगा कि दो विशाल भिन्न भाषाओं के बीच कभी भी सतही समानता नहीं हो सकती है।

संस्कृत शब्दवाली असीम है, और महर्षि पाणिनि ने इस भाषा को चार हज़ार सूत्रों में बाँधा हैं। किन्तु यह शर्म की बात है कि हमारी आधुनिक शिक्षा ने हमें वो असमर्थता भेंट की है कि हम पाणिनि के बारे में कुछ नहीं जानते। पर अब समय है कि संस्कृत के अध्ययन के माध्यम से अपनी संस्कृति को पुनः प्राप्त करें। क्योंकि संस्कृत के बिना संस्कृति नहीं है। हमारे यहाँ, संगीत और नृत्य की समझ सिमित है। हमारी संस्कृति हमारे शास्त्रों में निहित है।”

यह भी पढ़ें – यूपी.एस.सी टॉपर ने कहा, “भाषा प्रतिभा को रोक नहीं सकती”

संस्कृत की संस्कृति

यह पहल किस हद तक धर्म को बचाएगी, इसका अनुमान तो मैं नहीं लगा सकता मगर संस्कृत की संस्कृति को एक नयी दिशा अवश्य मिलेगी। और इसके माध्यम से संस्कृत से अंग्रेज़ी अनुवादों में भी सहायता को प्राप्त किया जा सकेगा।

संस्कृत का प्रचार मात्र भारत तक सिमित ना रह कर, अंग्रेज़ी जानने वाले हर इंसान तक प्रकाशमय होगा। क्योंकि संस्कृत भाषा में ऐसी कई बातों का उल्लेख है जिसका सार, धर्म से परे जा कर, मानवता और प्रकृति के संदर्भ में ज्ञान को कई नई दिशाओं में विस्तृत करता है।

इस लेख में HinduPost पर Dr. Nandini Murali के छपे अंग्रेज़ी आर्टिकल के कुछ अंशों के हिंदी अनुवाद को शामिल किया गया है। न्यूज़ग्राम किसी भी तरीके से किताब के प्रचार में सम्मिलित नहीं है।

Popular

प्रमुख हिंदू नेता और श्री नारायण धर्म परिपालन योगम के महासचिव वेल्लापल्ली नतेसन (wikimedia commons)

हमारे देश में लव जिहाद के जब मामले आते है , तब इस मुद्दे पर चर्चा जोर पकड़ती है और देश कई नेता और जनता अपनी-अपनी राय को वयक्त करते है । एसे में एक प्रमुख हिंदू नेता और श्री नारायण धर्म परिपालन योगम के महासचिव वेल्लापल्ली नतेसन ने सोमवार को एक बयान दिया जिसमें उन्होनें कहा कि यह मुस्लिम समुदाय नहीं बल्कि ईसाई हैं जो देश में धर्मांतरण और लव जिहाद में सबसे आगे हैं।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार एनडीए के सहयोगी और भारत धर्म जन सेना के संरक्षक वेल्लापल्ली नतेसन नें एक कैथोलिक पादरी द्वारा लगाए गए आरोपों पर प्रतिक्रिया दी , जिसमे कहा गया था हिंदू पुरुषों द्वारा ईसाई धर्म महिलाओं को लालच दिया जा रहा है। नतेसन नें पाला बिशप जोसेफ कल्लारंगट की एक टिप्पणी जो कि विवादास्पद "लव जिहाद" और "मादक जिहाद" की भी जमकर आलोचना की और यह कहा कि इस मुद्दे पर "मुस्लिम समुदाय को निशाना बनाना सही नहीं है"।

Keep Reading Show less

महंत नरेंद्र गिरि (Wikimedia Commons)

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की सोमवार को संदिग्ध हालात में मौत हो गई। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि को बाघंबरी मठ स्थित उनके आवास पर श्रद्धांजलि दी। मुख्यमंत्री ने कहा कि दोषियों को जांच के बाद सजा दी जाएगी। उन्होंने कहा ''यह एक दुखद घटना है और इसी लिए अपने संत समाज की तरफ से, प्रदेश सरकार की ओर से उनके प्रति श्रद्धांजलि व्यक्त करने के लिए में स्वयं यहाँ उपस्थित हुआ हूँ। अखाड़ा परिषद और संत समाज की उन्होंने सेवा की है। नरेंद्र गिरि प्रयागराज के विकास को लेकर तत्पर रहते थे। साधु समाज, मठ-मंदिर की समस्याओं को लेकर उनका सहयोग प्राप्त होता था। उनके संकल्पों को पूरा करने की शक्ति उनके अनुयायियों को मिले''

योगी आदित्यनाथ ने कहा '' कुंभ के सफल आयोजन में नरेंद्र गिरि का बड़ा योगदान था। एक-एक घटना के पर्दाफाश होगा और दोषी अवश्य सजा पाएगा। मेरी अपील है सभी लोगों से की इस समय अनावश्यक बयानबाजी से बचे। जांच एजेंसी को निष्पक्ष रूप से कार्यक्रम को आगे बढ़ाने दे। और जो भी इसके लिए जिम्मेदार होगा उसको कानून की तहत कड़ी से कड़ी सजा भी दिलवाई जाएगी।

Keep Reading Show less

By: कम्मी ठाकुर, स्वतंत्र पत्रकार एवं स्तम्भकार, हरियाणा

केजरीवाल सरकार की झूठ, फरेब, धूर्तता और भ्रष्टाचार की पोल खोलता 'बोल रे दिल्ली बोल' गीतरुपी शब्दभेदी बाण एकदम सटीक निशाने पर लगा है। सुभाष, आजाद, भगतसिंह जैसे आजादी के अमर शहीद क्रांतिकारियों के नाम व चेहरों को सामने रखकर जनता को बेवकूफ बना सुशासन ईमानदारी और पारदर्शिता का सब्जबाग दिखाकर सत्ता पर काबिज हुए अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी सरकार आज पूरी तरह से मुस्लिम तुष्टिकरण, भ्रष्टाचार, कुशासन एवं कुव्यवस्था के दल-दल में धंस चुकी है। आज केजरीवाल का चाल, चरित्र और चेहरा पूरी तरह से बेनकाब हो चुका है। दिल्ली में कोविड-19 के दौरान डॉक्टरों सहित सैकड़ों विभिन्न धर्म-संप्रदाय के मेडिकल स्टाफ के लोगों ने बतौर कोरोना योद्धा अपनी जाने गंवाई थी। लेकिन उन सब में केजरीवाल के चश्मे में केवल मुस्लिम डॉक्टर ही नजर आया, जिसके परिजनों को 'आप सरकार' ने एक करोड़ की धनराशि का चेक भेंट किया। किंतु बाकी किसी को नहीं बतौर मुख्यमंत्री यह मुस्लिम तुष्टिकरण, असंगति, पक्षपात आखिर क्यों ?

Keep reading... Show less