Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
संस्कृति

108 वर्षों के वनवास के बाद काशी पहुंची माँ अन्नपूर्णा की मूर्ति, यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ ने की स्थापना

माँ अन्नपूर्णा की मूर्ति लगभग 108 सालों बाद कनाडा से काशी पहुंची है। ऐसे में यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने मूर्ति की आगवानी कर मंदिर में मूर्ति स्थापित की।

माता अन्नपूर्णा की पूजा करते यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ।(Twitter, Yogi Adityanath)

लगभग 108 वर्षों के वनवास के बाद आज माँ अन्नपूर्णा(Goddess Annapurna) की प्राचीन मूर्ति काशी पहुंच गई। विश्वनाथ मंदिर परिसर में गाड़ी से पहुंची मूर्ति को गाड़ी से उतारकर पालकी पर रखा गया। यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ(Yogi Adityanath) ने वैदिक मंत्रोचारण के साथ मूर्ति की आगवानी की। सीएम ने स्वयं पालकी उठाई और उसे स्थापना स्थल तक पहुंचाया। मूर्ति को विश्वनाथ मंदिर के ईशान कोण में स्थापित किया गया है। मुख्यमंत्री योगी के हाथों मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा कराई गई। कनाडा से काशी पहुंची माता अन्नपूर्णा की प्राचीन मूर्ति को बाबा विश्वनाथ के विशेष रजत सिंहासन पर विश्वनाथ धाम में प्रवेश कराया गया।

इस मौके पर सीएम योगी आदित्यनाथ(Yogi Adityanath) ने कहा की आज 108 वर्ष बाद अगर माँ अन्नपूर्णा की मूर्ति अगर काशी(Kashi) वापस आई है तो इसका पूरा श्रेय हमारे देश के यशस्वी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी(Narendra Modi) को जाता है। पहले भारत की मूर्तियां तस्करी के माध्यम से दुनियाभर में भेज दी जाती थी लेकिन आज उन्हें ढूंढ-ढूंढ कर भारत लाया जा रहा है।


उन्होंने आगे कहा की यह प्रधानमंत्री जी के प्रयासों का नतीजा है की आज दुनियाभर से 156 मूर्तियां आज भारत वापस लाई जा रही हैं। भारत की संस्कृति की रक्षा कैसे की जाती है प्रधानमंत्री इसका जिवंत उदाहरण है। उन्होंने बीते साढ़े सात वर्षों से अपने विचार और आचार से यह करके माता

goddess annapurna, yogi adityanath, kashi vishwanath temple माता अन्नपूर्णा की प्राचीन मूर्ति। (Twitter)

काशी विश्वनाथ मंदिर(Kashi VIshwanath Temple) में दर्शन-पूजन के लिए रविवार को भक्तों की भीड़ अचानक बढ़ गयी थी। गोदौलिया प्रवेश द्वार से गर्भगृह तक कई लाइन लगी थी। ऐसी भीड़ विशेष अवसरों व त्योहारों के समय दिखती है। वहीं, क्षेत्र के दुकानदारों का कहना है कि बाहर के भक्त अधिक थे।

दिल्ली से 11 नवंबर को रवाना होने के बाद काशी पहुंचने के दौरान मां की प्रतिमा अलीगढ़, लखनऊ, अयोध्या, जौनपुर समेत यूपी के 18 जिलों से गुजरी। दिल्ली से काशी आई माता की प्रतिमा का सोमवार को नगर भ्रमण के दौरान जगह-जगह स्वागत किया गया। जगह-जगह पुष्प वर्षा, डमरू दल, घंटा घड़ियाल बजाकर माता की रास्ते भर आरती उतारी गई।

यह भी पढ़ें-
अब उत्तर प्रदेश पर निशाना साधेगा भाजपा नेतृत्व

बलुआ पत्थर से बनी मां अन्नपूर्णा की प्रतिमा 18वीं सदी की बताई जाती है। मां एक हाथ में खीर का कटोरा और दूसरे हाथ में चम्मच लिए हुए हैं। प्राचीन प्रतिमा कनाडा कैसे पहुंची, यह राज आज भी बरकरार है। लोगों का कहना है कि दुर्लभ और ऐतिहासिक सामग्रियों की तस्करी करने वालों ने प्रतिमा को कनाडा ले जाकर बेच दिया था। काशी के बुजुर्ग विद्वानों को भी मां अन्नपूर्णा की प्रतिमा के गायब होने की जानकारी नहीं है।

Input-IANS; Edited By- Saksham Nagar

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें

Popular

मोहम्मद खालिद (IANS)

मिलिए झारखंड(Jharkhand) के हजारीबाग निवासी मृतकों के अज्ञात मित्र मोहम्मद खालिद(Mohammad Khalid) से। करीब 20 साल पहले उनकी जिंदगी हमेशा के लिए बदल गई, जब उन्होंने सड़क किनारे एक मृत महिला को देखा। लोग गुजरते रहे लेकिन किसी ने ध्यान नहीं दिया।

हजारीबाग में पैथोलॉजी सेंटर चलाने वाले खालिद लाश को क्षत-विक्षत देखकर बेचैन हो गए। उन्होंने एक गाड़ी का प्रबंधन किया, एक कफन खरीदा, मृत शरीर को उठाया और एक श्मशान में ले गए, बिल्कुल अकेले, और उसे एक सम्मानजनक अंतिम संस्कार(Last Rites) दिया। इस घटना ने उन्हें लावारिस शवों का एक अच्छा सामरी बना दिया, और तब से उन्होंने लावारिस शवों को निपटाने के लिए इसे अपने जीवन का एक मिशन बना लिया है।

Keep Reading Show less

भारत आज स्टार्टअप की दुनिया में सबसे अग्रणी- मोदी। (Wikimedia Commons)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी(Narendra Modi) ने आज अपने "मन की बात"("Mann Ki Baat") कार्यक्रम में देशवासियों से बात करते हुए स्टार्टअप के महत्व पर ज़ोर दिया। प्रधानमंत्री ने कहा की जो युवा कभी नौकरी की तलाश में रहते थे वे आज नौकरी देने वाले बन गए हैं क्योंकि स्टार्टअप(Startup) भारत के विकास की कहानी में महत्वपूर्ण मोड़ बन गया है। उन्होंने आगे कहा की स्टार्ट के क्षेत्र में भारत अग्रणी है क्योंकि तक़रीबन 70 कंपनियों ने भारत में "यूनिकॉर्न" का दर्जा हासिल किया है। इससे वैश्विक स्तर पर भारत का कद और मज़बूत होगा।

उन्होंने आगे कहा की वर्ष 2015 में देश में मुश्किल से 9 या 10 यूनिकॉर्न हुआ करते थे लेकिन आज भारत यूनिकॉर्न(Unicorn) की दुनिया में भारत सबसे ऊँची उड़ान भर रहा है।

Keep Reading Show less