Friday, May 7, 2021
Home देश स्वास्थ्य भारत की दूसरी कोविड लहर ज्यादा संक्रामक, मगर कम घातक

भारत की दूसरी कोविड लहर ज्यादा संक्रामक, मगर कम घातक

भारत में कोरोनावायरस महामारी की दूसरी लहर सितंबर 2020 में आई पहली लहर से अलग है, क्योंकि नए मामले बढ़ने की दर काफी अधिक, मगर कम घातक है।

भारत में कोरोना वायरस महामारी की दूसरी लहर सितंबर 2020 में आई पहली लहर से अलग है, क्योंकि नए मामले बढ़ने की दर काफी अधिक है। लैंसेट COVID-19 कमीशन इंडिया टास्क फोर्स ने एक रिपोर्ट में कहा कि फरवरी से अप्रैल तक प्रतिदिन 10,000 से 80,000 नए मामलों की वृद्धि 40 दिनों से भी कम समय में हुई। पिछले सितंबर में इस सफर में 83 दिन लगे थे।

दूसरा अंतर यह है कि सकारात्मक परीक्षण करने वाले कई और मामले स्पशरेन्मुख या हल्के रोगसूचक हैं, जिसके परिणामस्वरूप अस्पताल में भर्ती होने और मृत्युदर की अपेक्षाकृत कम दरें होती हैं।

रिपोर्ट में कहा गया है कि यह पूरी तरह से स्पष्ट नहीं है कि स्पशरेन्मुख मामलों का उच्च अनुपात पूरी तरह से बेहतर संपर्क ट्रेसिंग (अधिक परिवार के सदस्यों, उदाहरण के लिए, परीक्षण किया जा रहा है) के कारण हैं।

मार्च 2020 में महामारी की शुरुआत के बाद से समग्र मामला मृत्यु अनुपात (सीएफआर) लगभग 1.3 प्रतिशत बताया गया है, जबकि 2021 की शुरुआत से वायरस का अनुबंध करने वाले रोगियों के बीच सीएफआर 0.87 प्रतिशत से काफी कम है।

अनंतिम रूप से, ऐसा लगता है कि सीएफआर दूसरी लहर में कम प्रतीत होता है।

corona virus in india covid 19 pandemic
लोग बढ़ चढ़कर टीका अभियान का हिस्सा बन रहे हैं।(फाइल फोटो)

फिर भी भारत देश भर में प्रतिदिन 664 मौतों की सूचना मिल रही है। रिपोर्ट में कहा गया है कि मृत्यु संख्या संक्रमण दरों में अंतराल है, और संक्रमण बढ़ने के रूप में वृद्धि होने की संभावना है।

पिछले एक साल में 215 जिले ऐसे हैं जो एक समय में केस इन्फेक्शन के मामले में टॉप 10 फीसदी में शामिल रहे हैं।

लेकिन नौ जिले (चेन्नई, कोलकाता, मुंबई, नासिक, नई दिल्ली, उत्तर 24 परगना, पुणे, ठाणे और सोलापुर) साल भर में शीर्ष 10 फीसदी का हिस्सा रहे हैं।

यह भी पढ़ें: ‘मास्क न पहनने वाले लोगों के लिए डर का माहौल बनाना ज़रूरी

दूसरी लहर भी अब तक भौगोलिक रूप से अधिक जटिल रही है।

शीर्ष 50 प्रतिशत वाले जिलों की संख्या पिछले शिखर के समय 40 से अधिक से गिरकर वर्तमान में 20 से भी कम हो गई है, जो अधिक केंद्रित महामारी का संकेत है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि वास्तव में अगस्त और सितंबर 2020 के दौरान पहली वृद्धि के दौरान शीर्ष 75 प्रतिशत मामलों के लिए जिलों की संख्या 60-100 थी, जबकि इस लहर के दौरान यह लगभग 20-40 जिले रहे हैं।(आईएएनएस-SHM)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,638FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी