Saturday, April 17, 2021
Home ओपिनियन Shaheedi Divas 2021: अमर शहीदों ने देश को स्वतंत्रता का तोहफा दिया,...

Shaheedi Divas 2021: अमर शहीदों ने देश को स्वतंत्रता का तोहफा दिया, ‘हमने’ उसे भी नजरअंदाज़ कर दिया!

आज के ही दिन शहीद भगत सिंह, राजगुरु एवं सुखदेव को 1931 में अंग्रेज हुकूमत ने फांसी देकर अपने अंत को न्योता दिया था।

By: Shantanoo Mishra

भारत उन वीर मतवालों का देश रहा है जहाँ एक अल्पायु बालक में भी स्वतंत्रता की लौ जग पड़ी थी और इसी वीर के मृत्यु के पश्चात ही देश भर में क्रांति की ज्वाला धधक उठी थी। वह वीर थे भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव। 23 मार्च 1931, वह रात ‘वन्देमातरम’ के नारों से गूंज रही थी। यह वह समय था जब इन तीनों सपूतों को फांसी के लिए ले जाया जा रहा था। वैसे तो जेल में अक्सर ही क्रांतिकारियों द्वारा ‘भारत माता की जय’ और ‘वन्देमातरम’ के जयघोष किया जाता था। किन्तु उस रात उन सब में से 3 स्वर शहीदी के पन्नों पर वीरता की कहानी लिखकर, करोड़ों जुबान पर ‘वन्देमातरम’ का जयघोष देकर जाने वाले थे।

इन तीन सपूतों ने अंग्रेजी हुकूमत को इस तरह थर्रा दिया था कि 24 मार्च 1931 को दी जाने वाली फांसी को 23 मार्च की रात को अंजाम देना पड़ा। क्योंकि उन्हें यह भय था इन तीनों सपूतों की मृत्यु, अंग्रेजी हुकूमत की गले का फंदा बन जाएगी और हुआ भी यही। कहते हैं की मृत्यु के बाद शरीर निर्जीव हो जाता है, मगर 23 मार्च के बाद हर एक युवा में भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु ने जन्म लिया था। क्या बच्चा क्या जावन हर कोई आजादी के लिए अपनी आवाज़ उठा रहा था। अंग्रेजी हुकूमत यदि दस क्रांतिकारियों को जेल डालती थी तब हज़ारों सर ‘वन्देमातरम’ और आजादी का उद्घोष कर सड़कों पर उतर आते।

एक वह समय था, एक आज का समय है, जहाँ नेता मंच पर ‘भारत माता की जय’ तो कहते है मगर मंच से उतरते ही प्रपंच और भ्रष्टाचार का घिनौना खेल-खेलते हैं। जहाँ विपक्ष उन युवाओं को नेता बनाती है जिसने भारत के खिलाफ षड्यंत्र रचे थे, भारत के टुकड़े-टुकड़े और आजादी की मांग कर रहे थे। देश का एक बुद्धिजीवी तबका ऐसा भी सक्रीय है जिसे हिन्दू के मरने पर असहिष्णुता नहीं दिखता मगर एक मुस्लिम को पीटे जाने पर हाहाकार मचा देता है। वह तबका भी सक्रीय है जो आरक्षण के नाम पर अपनों में ही फूट डलवाने के प्रयास से पीछे नहीं रहता। एक ऐसा तबका भी सक्रीय है जो किसानों और सरकार के बीच इस लिए नहीं सुलह होने देना चाहता क्योंकि उसकी राजनीति पर असर पड़ेगा। करोड़ों रुपयों के चंदे, जो किसान नेता पांच सितारा होटलों में रुक-रुक कर उड़ा रहे हैं उस पर असर पड़ेगा। और एक तबका ऐसा भी सक्रिय है जो देश को दुनिया के सामने बदनाम करने के लिए ‘टूलकिट’ का सहारा ले रहा है और इस पूरे षड्यंत्र की रचना कर रहा है।

Rinku Sharma
हत्या पर मौन रहने वालों से यह देश सवाल पूछ रहा है।(Pixabay)

आज युवा यह पूछ रहा है कि 14% जनसंख्या रखने वाले मुस्लिमों को आखिर आरक्षण कब तक मिलता रहेगा? जय श्री राम का नारा लगने पर और कितने रिंकू शर्मा जैसे युवाओं को मारा दिया जाएगा? लव जिहाद के खिलाफ लड़ने पर आखिर कितनी बेटियां बीच सड़क पर गोलियों से भून दी जाएंगी? और आखिर कब तक सरकार मस्जिद गिरिजाघरों के इलावा मंदिरों को हथिया कर रखेगी? कश्मीरी पंडितों की घर वापसी कब? मंदिरों पर हमला कब तक? यह सभी, कुछ ऐसे सवाल हैं जिन्हे आज का युवा, बड़ा और बुजुर्ग वर्ग अलग-अलग माध्यमों से पूछ रहा है और इन सवालों के जवाब का इंतजार कर रहा है।

यह भी पढ़ें: Dasna Temple: वह मंदिर पर थूकते रहें और हम ‘सॉरी’-‘सॉरी’ कहें!

शहीद भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु ने एक ऐसे भारत की कल्पना की थी जो किसी आम सोच से बेहद अलग थी। यह देश हर दिशा में नया कीर्तिमान बनाए और ऐसा ही हमारे के देश के खिलाड़ी और वैज्ञानिक एवं ज्ञानी लोग कर भी रहे हैं। किन्तु यह बात तब निराशा की ओर मुड़ जाती है, जब देश को बाँटने वाले ही राजनीति की सीढ़ियों पर बेरोक-टोक चढ़ रहे हैं।जिसका जल्द से जल्द हल निकालना होगा अन्यथा ‘टूलकिट’ ही इस देश के प्रणाली को अपने अंदर समेट लेगी।

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,646FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

हाल की टिप्पणी