Monday, June 14, 2021
Home इतिहास Shivaji Jayanti: वीर छत्रपति शिवाजी महाराज द्वारा बताया गया वह पथ, जिन...

Shivaji Jayanti: वीर छत्रपति शिवाजी महाराज द्वारा बताया गया वह पथ, जिन पर चलना आज जरूरी है!

शिवाजी महाराज ने अपने जीवन में कई अप्रतिम शौर्य की गाथाओं को अपने नाम किया था। उन्ही के गाथा सुनकर आज भी महाराष्ट्र और पुरे देश में शिवगर्जना की जाती है।

आज पूरा देश वीर मराठा योद्धा एवं करोड़ों लोगों के दिल में बसने वाले छत्रपति शिवाजी महाराज का 391वां जयंती मना रहा है। महाराज शिवाजी को ‘रयतेचा राजा’ भी कहा जाता है जिसका हिंदी अनुवाद है लोगों का राजा। Shivaji Maharaj ने अपने जीवन में कई अप्रतिम शौर्य की गाथाओं को अपने नाम किया था। उन्ही के गाथा सुनकर आज भी महाराष्ट्र और पुरे देश में शिवगर्जना की जाती है, जिसमे जोश से सराबोर युवाओं में और भी जोश आ जाता है। शिवाजी महाराज ने ऐसे भी पथ बताए हैं जिनपर चलना आज के युवाओं के लिए आवश्यक हो गया है। वह मार्ग है: 

शक्ति से अधिक बुद्धि का महत्व है:

शिवाजी महाराज ने सदैव बुद्धि को शक्ति से अधिक माना है। चाहे वह राजनीति हो, समझौते हों या युद्ध का क्षेत्र हो उन्होंने कभी भी बल को बुद्धि पर हावी न होने दिया। जिस वजह से उन के द्वारा लिए गए फैसलों पर और रणनीति पर आज भी चर्चा की जाती है। और आज के समय, हर क्षेत्र में बुद्धि एवं बल का उपयोग समान अंतर पर किया जाता है। चाहे वह खेल का मैदान हो या ऑफिस की मीटिंग।

शिवाजी महाराज ने सिखाया कि हर एक महिला का सम्मान करें:

एक बार छत्रपति शिवाजी की सेना में शामिल एक सिपाही युद्ध जीतने के पश्चात प्रतिद्वंदी की बहु को उपहार रूप में लाया था। जब उसने उस कन्या को महाराज से मिलाया तब उन्होंने अपने सिपाही द्वारा किए बर्ताव के लिए क्षमा मांगी और उस कन्या को आभूषण एवं वस्त्र उपहार में भेंट कर सम्मान के साथ उसके शिविर पहुँचाया। छत्रपति शिवाजी महाराज महिलाओं को प्रताड़ित करने वालों को मौत की सजा देते थे। इस गाथा को आज भी उनके महिलाओं के प्रति सम्मान के उदाहरण के रूप में सुनाया जाता है। ऐसी एक नहीं कई घटनाएं हैं। इस पथ पर चलने के लिए ज्यादा कुछ नहीं केवल अपनी मर्यादा की सूझ-बूझ होनी चाहिए।

Shivaji Maharaj Jayanti 2021
छत्रपति शिवजी महाराज।(Pixabay)

शिवाजी महाराज ने समझाया कि उचित गुरु चुनें:

शिवाजी महाराज के जीवन में 3 गुरु थे, उनकी माता जिन्होंने जीवन का ज्ञान दिया। गुरु रामदास स्वामी जिन्होंने उन्हें अध्यात्म की शिक्षा दी और गुरु दादोजी कोंडदेव जिन्होंने शास्त्र और युद्धनीति का पथ पढ़ाया। इन्ही गुरुओं के मार्गदर्शन का नतीजा था कि आज भी शिवाजी की शौर्य गाथा लाखों करोड़ों दिलों में ज्वलंत है। इसलिए शिष्य का सबसे पहला काम ही उचित गुरु चुनना होता है, अन्यथा किताबों में लिखे ज्ञान को कोई भी बता सकता है किन्तु उस ज्ञान का उपयोग, मतलब और किस तरह आप उसका अपने जीवन में प्रयोग कर सकते हैं वह केवल गुरु ही बता सकता है।

यह भी पढ़ें: यह शौर्य गाथा है शहीद वीरांगना रानी अवंतीबाई की

शिवाजी महाराज ने समझाया कि अपने प्रतिद्वंदी को हराने के लिए उसके विषय में सबकुछ जानो:

शिवाजी महाराज अपनी रणनीति व योजनाओं को मूल रूप देते वक्त अपने प्रतिद्वंदी और उसके विपरीत परिस्थितयों का खासकर ध्यान रखते थे। उसकी ताकत, कमजोरी, और सैन्यशक्ति को ध्यान में रखकर ही अपनी योजनाओं को पूर्ण रूप देते थे। और आज हमे भी यही करना चाहिए क्योंकि हर क्षेत्र में आपकी कुशलता के साथ-साथ तरीकों पर भी बारीकी से नजर रखी जाती है। जिस वजह से दूसरों से हटकर कुछ करने के लिए कुछ हटकर सोचना जरूरी है।

POST AUTHOR

Shantanoo Mishra
Poet, Writer, Hindi Sahitya Lover, Story Teller

जुड़े रहें

7,623FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी