Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
मनोरंजन

कोरोना से जुड़ी भ्रांतियों को मिटाने के लिए मध्यप्रदेश पुलिस की नई पहल

बीमारी को लेकर पनपी भ्रांतियों को दूर करने के लिए मध्यप्रदेश के रीवा जिले में पुलिस ने जागरूकता की मुहिम तेज की है और इसके लिए एक लघुफिल्म भी बनवाई है- 'कोरोना काल की बहू'।

मध्यप्रदेश के रीवा पुलिस ने कोरोना की भ्रांतियों को दूर करने केलिए एक लघुफिल्म प्रस्तुत की है। (सांकेतिक चित्र, Pixabay)

 कोरोनावायरस महामारी को लेकर समाज में बड़ी भ्रांति है। यही कारण है कि लोग एक-दूसरे की मदद की खातिर सामने आने से कतरा रहे हैं। बीमारी को लेकर पनपी भ्रांतियों को दूर करने के लिए मध्यप्रदेश के रीवा जिले में पुलिस ने जागरूकता की मुहिम तेज की है और इसके लिए एक लघुफिल्म भी बनवाई है- ‘कोरोना काल की बहू’। कोरोना महामारी के संक्रमण को रोकने के लिए मास्क के इस्तेमाल के साथ सोशल डिस्टेंसिंग पर जोर दिया गया है।

साथ ही बीमारी के लक्षण नजर आने पर कोरोना टेस्ट कराने की सलाह दी जा रही है, मगर लोग इस बीमारी से बचाव की बजाय डर के साए में आते जा रहे हैं। इसी डर को मिटाने के लिए तरह-तरह के जतन सरकारी और निजी स्तर पर किए जा रहे हैं। इसी क्रम में रीवा में मनोरंजक, आकर्षक और संदेश देने वाली लघुफिल्म बनाई गई है।


पुलिस अधीक्षक राकेश सिंह बताते हैं कि लोगों में जागरूकता लाने के मकसद से फिल्म निर्देशक आफताब ने 15 मिनट की लघुफिल्म बनाई है। इस फिल्म में बहू अपने पति के जरिए कोरोना से बचने और इसके इलाज का संदेश दे रही है। फिल्म बताती है कि कोरोना से डरने की नहीं, एहतियात बरतने की जरूरत है। यह कोई लाइलाज बीमारी नहीं है, अगर सजग और सतर्क रहें तो इससे बचा जा सकता है।

लघुफिल्म ‘कोरोना की बहु’ (स्क्रीनशॉट, Twitter)

इस फिल्म की खासियत यह है कि इसके सारे कलाकार स्थानीय हैं और निर्देशक आफताब आलम ने मुख्य किरदार निभाया है। वह रहने वाले तो रीवा के हैं, मगर इस फिलहाल मुंबई फिल्म जगत में काम कर रहे हैं। उन्होंने ‘क्राइम पेट्रोल’ और ‘सावधान इंडिया’ सीरियल में काम किया है।

यह भी पढ़ें: कोरोना काल में दंपत्ति ने 49 दिन मेहनत कर बना लिया दो मंजिला आवास

आफताब फिल्म की कहानी के बारे में बताते हैं, “यह उस नवविवाहित जोड़े की कहानी है जिसकी मिलन की पहली रात में ही लड़के को खांसी आती है, तो उसकी पत्नी टेस्ट कराने की सलाह देती है और पति को सोफा पर सोकर रात गुजारना पड़ती है। पति टेस्ट कराता है तो रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आती है, फिर पति को 14 दिन तक होम आइसोलेशन में रहना पड़ता है। इस दौरान वह काढ़ा पीता है, गर्म पानी का इस्तेमाल करता है, योग करता है और स्वस्थ हो जाता है। इसके बाद यह युगल सुखमय जीवन जीवन जीने लगता है।”

रीवा पुलिस ने यह लघुफिल्म प्रस्तुत की है। (स्क्रीनशॉट, Twitter)

इस फिल्म को बनाने की योजना पूर्व में रीवा में पदस्थ रहे पुलिस अधीक्षक आबिद खान ने बनाई थी, मगर उनका तबादला हो गया। नए पुलिस अधीक्षक राकेश सिंह ने इस फिल्म को बनाने का अभियान जारी रखा। आमतौर पर होता यह है कि पूर्व पुलिस अधिकारी के फैसलों को नया पुलिस अधिकारी बदल देता है, मगर कोरोना के प्रति लोगों में जागरूकता लाने के लिए बनाई जा रही फिल्म के मामले में ऐसा नहीं हुआ और जन जागृति के लिए बनाई जा रही है फिल्म पूरी हो गई। इसमें किरदार निभाने वाले किसी भी कलाकार ने पारिश्रमिक नहीं लिया है।

यह पहली ऐसी फिल्म है, जो कोरोना को लेकर जनजागृति लाने के लिए बनाई गई है। यह रिलीज हो चुकी है, इसे जगह-जगह प्रदर्शित कर लोगों को जागृत किया जा रहा है और बताया जा रहा है कि सावधानी बरतने से कोरोना से खुद को दूर रख सकेंगे। बस जरूरत इस बात की है कि लक्षण नजर आएं तो छुपाएं नहीं, बल्कि जांच कराएं।(आईएएनएस)

Popular

नवजात के लिए माँ के दूध से कोविड संक्रमण का नही है कोई खतरा ( Pixabay )

Keep Reading Show less

5 राज्यों के विधानसभा चुनावों की तारीख़ की घोषणा के बाद कार्यकर्तओं के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का पहला सवांद कार्यक्रम (Wikimedia Commons)


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए अपने संसदीय क्षेत्र वारणशी के भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के बूथ स्तर के कार्यकर्ताओं से बातचीत की। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भाजपा कार्यकर्ताओं से बात करते हुए कहा कि "उन्हें किसानों को रसायन मुक्त उर्वरकों के उपयोग के बारे में जागरूक करना चाहिए।"

नमो ऐप के जरिए प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने भाजपा के बूथ स्तर के कार्यकर्ताओं से बातचीत के दौरान बताया कि नमो ऐप में 'कमल पुष्प" नाम से एक बहुत ही उपयोगी एवं दिलचस्प सेक्शन है जो आपको प्रेरक पार्टी कार्यकर्ताओं के बारे में जानने और अपने विचारों को साझा करने का अवसर देता है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने नमो ऐप के सेक्शन 'कमल पुष्प' में लोगों को योगदान देने के लिए आग्रह किया। उन्होंने बताया की इसकी कुछ विशेषतायें पार्टी सदस्यों को प्रेरित करती है।

Keep Reading Show less

हुदा मुथाना वर्ष 2014 में आतंकवादी समूह आईएस में शामिल हुई थी। घर वापसी की उसकी अपील पर यूएस कोर्ट ने सुनवाई से इनकार कर दिया (Wikimedia Commons )

2014 में अमेरिका के अपने घर से भाग कर सीरिया के अतंकवादी समूह इस्लामिक स्टेट (आईएस) में शामिल होने वाली 27 वर्षीय हुदा मुथाना वापस अपने घर लौटने की जद्दोजहद में लगी है। हुदा मुथाना वर्ष 2014 में आतंकवादी समूह इस्लामिक स्टेट के साथ शामिल हुई साथ ही आईएस के साथ मिल कर सोशल मीडिया पर पोस्ट कर आतंकवादी हमलों की सराहना की और अन्य अमेरिकियों को आईएस में शामिल होने के लिए प्रोत्साहित किया था। हुदा मुथाना को अपने किये पर गहरा अफसोस है।

वर्ष 2019 में हुदा मुथाना के पिता ने संयुक्त राज्य अमेरिका (यूएस) के सुप्रीम कोर्ट में अमेरिका वापस लौटने के मामले पर तत्कालीन ट्रंप प्रशासन के खिलाफ मुक़द्दमा दायर किया था। संयुक्त राज्य अमेरिका (यूएस) के सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को बिना किसी टिप्पणी के हुदा मुथाना के इस मामले पर सुनवाई से इनकार कर दिया।

Keep reading... Show less